क्या बच्चों में पोषक तत्वों की कमी पूरी करने के लिए उन्हें मल्टीविटामिन सप्लीमेंट्स दे सकते हैं?

बाजार में बच्चों को दूध में घोलकर पिलाने वाले कई मल्टीविटामिन पाउडर या सप्लीमेंट्स आ गए हैं। डॉक्टर से जानें क्या इन्हें बच्चों को देना चाहिए या नहीं।

Monika Agarwal
Written by: Monika AgarwalUpdated at: Aug 21, 2021 00:00 IST
क्या बच्चों में पोषक तत्वों की कमी पूरी करने के लिए उन्हें मल्टीविटामिन सप्लीमेंट्स दे सकते हैं?

अगर आपके घर में बच्चे हैं तो आप अच्छे से जानती होंगी कि बच्चों को हेल्दी चीजें खिलाना कितना कठिन होता है। बच्चे हरी या कोई अच्छी सब्जी खाना पसंद ही नहीं करते बल्कि बाहर की चीजें खाना उन्हें बहुत पसंद होता है। हो सकता है बहुत सी महिलाओं की तरह आपके मन में भी ये विचार आया हो कि पोषक तत्वों की कमी पूरी करने के लिए अपने बच्चे को मल्टीविटामिन कैप्सूल्स या पाउडर  (Multivitamins) दिए जाएं। अगर आपने इस बारे में सोचा है तो पहले आपको यह जानना चाहिए कि मल्टीविटामिन (Multivitamins) देना बच्चों के लिए सही है या नहीं। इस बात पर बहुत से एक्सपर्ट अब भी रिसर्च कर रहे हैं और उन्होंने बच्चों को मल्टीविटामिन (Multivitamins) देने और न देने दोनों के परिणामों के बारे में रिसर्च की। उसी रिसर्च के बारे में आज हम आपको अवगत कराने वाले हैं और साथ में यह भी बताएंगे कि अगर आप बच्चे को मल्टीविटामिन (Multivitamins) देने की सोच रही हैं तो आपको किन किन बातों का ध्यान रखना चाहिए।

kids and multivitamin

एक्सपर्ट के अनुसार (Expert Advice)

कोलंबिया एशिया हॉस्पिटल के पीडियाट्रिशन डॉक्टर सुमित गुप्ता का कहना है कि असल में बच्चों को मल्टीविटामिन सप्लीमेंट्स की जरूरत नहीं होती।मल्टीविटामिन (Multivitamins) देना बच्चों को कई बार बहुत सी परेशानियां दे सकता है जैसे कि जी घबराना, रैशेज,सिर दर्द आदि। बच्चे जो खाना खाते हैं उनको उसमें से ही विटामिन्स और मिनरल्स की आपूर्ति होनी चाहिए। लेकिन बच्चे कई बार ऐसी चीजें कम खाते हैं, जिनसे उन्हें पोषक तत्व मिलें, इसलिए  कुछ मामलों में आप बच्चे को मल्टीविटामिन्स देने की एक बार सोच सकती  हैं। उदाहरण के तौर पर जो बच्चे लैक्टोज़ इंटोलेरेंट (Lactose intolerant) होते हैं यानी जो दूध नहीं पीते हैं उनके शरीर में कैल्शियम और विटामिन डी की कमी होती है। मल्टीविटामिन की डोज़ के कारण उनकी यह सारी कमी पूरी हो सकती हैं। लेकिन फिर भी आपको एक बार मल्टी विटामिन की डोज अपने बच्चे को देने से पहले अपने डॉक्टर से जरूर बात कर लेनी चाहिए।

इसे भी पढ़ें- बच्चों में बढ़ रहे हैं रिकेट्स (सूखा रोग) के मामले, डॉक्टर से जानें इस बीमारी का कारण, लक्षण, बचाव के उपाय

बच्चों को मल्टी विटामिन न देने के कारण (Reasons for Not Giving Multivitamins to Children)

multivitamin

कुछ माता पिता अपने बच्चे को मल्टीविटामिन देने के बाद बिल्कुल निश्चिंत हो जाते हैं और उनकी डाइट की ही परवाह नहीं करते हैं। उन्हें लगता है कि उनका बच्चा सारे पोषण मल्टीविटामिन की डोज से ही पा रहा है। लेकिन मल्टीविटामिन को आपको एक इमरजेंसी के रूप में ही देखना चाहिए। इस पर निर्भर नहीं होना चाहिए। वरना आपका बच्चा कमजोर भी हो सकता है और उसे बाहर का या जंक (Junk food) खाने की लत लग सकती है। हो सकता है वह घर का या हेल्दी खाना खाने में किसी तरह की रुचि ही न दिखाए। इस प्रकार आपको बच्चे को मल्टीविटामिन के साथ साथ एक अच्छी डाइट भी देनी चाहिए।

इसे भी पढ़ें- ध्‍यान न देने पर गंभीर हो सकती है बच्‍चों में गले के खराश की समस्‍या, जानें इससे बचाव के 5 उपाय

इन टिप्स को रखें ध्यान में (Tips)

  • केवल वही मल्टीविटामिन खरीदें जो बच्चों के लिए बना हो ताकि वह आपके बच्चे के शरीर के आधार पर ही उसे सारा पोषण दे सके।
  • जितनी डोज आपके डॉक्टर ने बताई है या पैकेट पर सुझाई गई है केवल उतनी ही डोज दें। असल में ओवर डोज बच्चों के शरीर के लिए हानिकारक हो सकती है।
  • अगर आप अपने बच्चे को मल्टी विटामिन टॉफी या चॉकलेट (Chocolate) के रूप में बहला फुसला कर देती हैं तो ऐसा बिलकुल भी न करें। ऐसा करने से वह और अधिक मांग सकता है या चोरी से अधिक मात्रा में इसका सेवन कर सकता है। जो उसी के स्वास्थ्य के लिए हानिकारक है।
  • मल्टी विटामिन की बॉटल को किसी ऐसी जगह पर रखें जहां बच्चे उस तक न पहुंच सकें। नहीं तो वह एक बार में ही सारा खा या पी जायेंगे।

स्वादिष्ट होने के कारण हो सकता है आपका बच्चा मल्टीविटामिन की मांग और करे। लेकिन उसे केवल सीमा में ही इसका सेवन कराएं और इसके साथ साथ उसे सब्जियों और फल खाने की आदत भी डालें। ताकि उसकी डाइट बैलेंस रह सके और भविष्य में उसे हानि न हो।

(image source:Pixabay, Pexels)

Read more on Children Health in Hindi 

Disclaimer