सफर के दौरान उल्टी क्यों होती है? जाने इसका कारण और उल्टी रोकने के आसान उपाय

मोशन सिकनेस से ग्रसित लोगों को यात्रा के दौरान उल्टी या चक्कर आते हैं। यह एक सामान्य समस्या है। चलिए जानते हैं इस बारे में विस्तार से-

 

Kishori Mishra
Written by: Kishori MishraPublished at: Jun 16, 2021Updated at: Jun 16, 2021
सफर के दौरान उल्टी क्यों होती है? जाने इसका कारण और उल्टी रोकने के आसान उपाय

यात्रा के दौरान सिर घूमना, चक्कर  आना, जी मिचलाना इत्यादि समस्या अगर आपको होती है, तो समझ जाएं कि आपको मोशन सिकनेस है। मोशन सिकनेस से ग्रसित लोगों गति की स्थिति में असहजता महसूस होती है। एक्सपर्ट के अनुसार, मोशन सिकनेस कोई बीमारी नहीं है, बल्कि यह एक स्थिति है, जिसमें कान, आंख और स्किन दिमाग को अलग-अलग संकेत देते हैं, जिसकी वजह से व्यक्ति को मोशन सिकनेस हो जाता है। यह समस्या दीर्घकालिक नहीं होती है, लेकिन थोड़े ही समय में लोगों के शरीर को कमजोर कर देती है। खासतौर पर यात्रा के दौरान आपका शरीर काफी सिस्टर्ब महसूस करता है।

छोटे बच्चों (5 से 12 साल), महिलाओं और बुजुर्गों को मोशन सिकनेस की समस्या अधिक होती है। 2 साल से कम उम्र के बच्चों में यह परेशानी कम देखी गई है। मोशन सिकनेस को कई अन्य नामों से भी जाना जाता है। जैसे- एयरसिकनेस (Airsickness), कारसिकनेस (Carsickness), सीसिकनेस (Seasickness)।

मोशन सिकनेस के कारण (Causes of Motion Sickness)

मोशन सिकनेस यात्रा के दौरान शरीर के विभिन्न अंगों जैसे- आंख, नाक, कान और शरीर के अन्य ऊतकों द्वारा मस्तिष्क को अलग-अलग संदेश पहुंचाने की वजह से होता है। दरअसल, जब हमारा शरीर अनैच्छिक रूप से आगे बढ़ता है, (जैसे- कार से यात्रा करना, हवाई जहाज से यात्रा करना, ट्रेन से यात्रा करना) तो इस दौरान शरीर के अंग विभिन्न प्रकार के इनपुट्स मस्तिष्क को देते हैं। मस्तिष्क में इन इनपुट्स की वजह से संघर्ष उत्पन्न होता है। इसकी वजह से शरीर में कई तरह की परेशानी होती है। एक्सपर्ट की माने तो मोशन सिकनेस कान में संवेदी तंत्र को सबसे ज्यादा प्रभावित करता है। 

इसे भी पढ़ें - हाथ में सूजन क्यों होती है? जानें इसके कारण, लक्षण, इलाज और बचाव के उपाय

मोशन सिकनेस के लक्षण (Symptoms of Motion Sickness)

  • उल्टी होना
  • जी मिचलाना
  • पीलापन
  • चक्कर आना
  • झपकी आना
  • शरीर में पसीना आना।
  • असहज महसूस होना।
  • सिरदर्द
  • बेचैनी
  • उबासी आना
  • स्पष्ट दिखाई न देना।
  • लार बढ़ना

इत्यादि लक्षण मोशन सिकनेस के दौरान दिख सकते हैं। 

कब डॉक्टर के पास जाएं?

सफर के दौरान उल्टी या फिर अन्य समस्या होने पर ज्यादातर मामलों में डॉक्टर से पास जाने की जरूरत नहीं होती है। लेकिन अगर व्यक्ति को ज्यादा उल्टी और कमजोरी महसूस हो रही है, तो हो सकता है उन्हें डिहाइड्रेशन हो गया हो। इस स्थिति में डॉक्टर से पास जाना जरूरी हो जाता है। 

इसे भी पढ़ें - हिप एरिया (Hips) में खुजली से रहते हैं अक्सर परेशान तो हो सकते हैं ये 6 कारण

सफर में उल्टी रोकने के बचाव

  • सफर के दौरान व्यक्ति को अपने साथ वाले से बात करते रहना चाहिए।
  • सफर करने से पहले ज्यादा मसालेदार और तेलयुक्त आहार का सेवन न करें।
  • अगर आपको सफर में उल्टी होती है, तो इससे जुड़ी दवा अपने साथ पहले से ही रख लें। 
  • सफर के दौरान धूम्रपान या शराब पीने से बचें।
  • मोशन सिकनेस होने पर तेज-तेज सांस लें। इससे आप हल्का महसूस करेंगे।
  • कार या फिर ट्रेन में बैठने के दौरान पास की चीजें देखने से बेहतर है कि आप दूर की चीजें देखें। 
  • कार में सफर करने के दौरान खिड़की खोलकर ताजी हवा लें।
  • अगर आपको मोशन सिकनेस है, तो च्युइंगम अपने साथ जरूर रखें।

मोशन सिकनेस एक आम समस्या है। इस समस्या का आप घरेलू उपाय कर सकते हैं। हालांकि, अगर आपको अधिक उल्टी की वजह से डिहाइड्रेशन हो गया है, तो अपने नजदीकी डॉक्टर से जरूर दिखाएं।

Read More Articles on miscellaneous in hindi 

Disclaimer