मेड‍िटेशन (ध्‍यान) के दौरान आप तो नहीं करते हैं ये 5 गलत‍ियां?

मेड‍िटेशन करने से शरीर में संतुलन बरकरार रहता है लेक‍िन गलत ढंग से ध्‍यान करने से फायदे की जगह नुकसान होंगे। जानें ध्‍यान में की जाने वाली गलत‍ियां।

Yashaswi Mathur
Written by: Yashaswi MathurUpdated at: Nov 11, 2022 09:38 IST
मेड‍िटेशन (ध्‍यान) के दौरान आप तो नहीं करते हैं ये 5 गलत‍ियां?

शारीर‍िक और मानस‍िक स्‍वास्‍थ्‍य को बेहतर बनाने में मेड‍िटेशन की भूम‍िका अहम होती है। द‍िमाग की एकाग्रता बढ़ाने के ल‍िए मेड‍िटेशन फायदेमंद माना जाता है। तनाव और ड‍िप्रेशन को कम करने के ल‍िए भी ध्‍यान करना उपयोगी होता है। मेड‍िटेशन करने से आंतरिक जागरुकता को भी बढ़ाने में मदद म‍िलती है। हालांक‍ि कई लोगों को मेड‍िटेशन करने का सही तरीका पता नहीं होता इसके कारण उन्‍हें पूर्ण पर‍िणाम नहीं म‍िलते। मेड‍िटेशन के दौरान की जाने वाली गलत‍ियों को भी जानना जरूरी है, तो चल‍िए इस पर चर्चा करते हैं।

meditation mistakes

1. मेड‍िटेशन का समय न‍िर्धार‍ित न करना 

मेड‍िटेशन करने के ल‍िए समय न‍िर्धार‍ित करना जरूरी है। वैसे तो ध्‍यान पूरे द‍िन में क‍िसी भी समय कर सकते हैं लेक‍िन उस समय को तय करें। अगर आप एक द‍िन सुबह और अगले द‍िन रात को मेड‍िटेशन करेंगे, तो शायद ये आपके ल‍िए उतना फायदेमंद न हो। मेड‍िटेशन का पूरा लाभ उठाना चाहते हैं, तो रोजाना मेड‍िटेशन करें और समय न‍िर्धार‍ित करें। 

इसे भी पढ़ें- मेडिटेशन करना चाहते हैं मगर वक्त नहीं है? जानें कहीं भी- कभी भी मेडिटेशन करने के 5 आसान तरीके

2. मेड‍िटेशन के दौरान च‍िंता करना 

मेड‍िटेशन यानी ध्‍यान का मकसद है आपके मन को शांत करना। द‍िमाग में चल रही उथल-पुथल को कुछ समय के ल‍िए बंद करना। इससे आपका मन और द‍िमाग हल्‍का महसूस होता है। लेक‍िन मेड‍िटेशन के दौरान भवि‍ष्‍य की च‍िंता या अन्‍य क‍िसी परेशानी को याद करने से ध्‍यान का पूरा लाभ नहीं उठा पाएंगे। इससे आपको लाभ कम और हान‍ि ज्‍यादा होगी। मेड‍िटेशन के दौरान अपने मन और शरीर पर ध्‍यान केंद्र‍ित करें और अन्‍य व‍िचारों के बारे में न सोचें।  

3. मेड‍िटेशन में बाहरी तत्‍वों को शाम‍िल करना 

योग और ध्‍यान करने में फर्क है। लोग योग का अभ्‍यास करने के ल‍िए फोन या लैपटॉप की मदद लेते हैं और मुद्रा या कसरत का तरीका सीखने के ल‍िए वीड‍ियो का इस्‍तेमाल करते हैं। लेक‍िन अगर मेड‍िटेशन करने के ल‍िए आप फोन या क‍िसी गैजेट का इस्‍तेमाल कर रहे हैं, तो ये ध्‍यान करने का सही तरीका नहीं है। अगर इन चीजों के आधार पर ध्‍यान करेंगे, तो अपने अंतर्मन तक नहीं पहुंच पाएंगे। ध्‍यान रखें क‍ि मेड‍िटेशन के दौरान आपके शरीर और आत्‍मा के बीच कोई बाहरी तत्‍व नहीं आना चाह‍िए। 

4. बॉडी टाइप के मुताब‍िक मेड‍िटेशन न करना 

ध्‍यान करने से पहले बॉडी टाइप पर ध्‍यान देना जरूरी है। आपके बैठने का तरीका गलत होगा, तो ध्‍यान के दौरान अड़चन महसूस होगी। बैठते समय ध्‍यान रखें क‍ि आप आरामदायक मुद्रा में बैठे हों। ज‍िन लोगों के पैर ज्‍यादा भारी होते हैं उन्‍हें पद्मासन में बैठने में तकलीफ हो सकती है। अपने मुताब‍िक सही पोज‍िशन चुनें और आराम से मेड‍िटेशन करें। 

5. मेड‍िटेशन से पहले तैयारी न करना 

क‍िसी भी समय मेड‍िटेशन कर सकते हैं लेक‍िन अगर ध्‍यान करने से पहले कुछ तैयार‍ियों पर गौर नहीं करेंगे, तो लंबे समय तक मेड‍िटेशन नहीं कर पाएंगे। ज्‍यादातर लोग इसी गलती के कारण ज्‍यादा देर मेडि‍टेशन नहीं कर पाते। मेड‍िटेशन से पहले शरीर को र‍िलैक्‍स करें। सांसों को सामान्‍य करें और फ‍िर मेडि‍टेशन की शुरूआत करें। इसके अलावा गौर करें क‍ि आसपास शोर न हो। इन बातों पर गौर करके ज्‍यादा देर मेड‍िटेशन कर सकेंगे।   

ऊपर बताई गई गलत‍ियों पर गौर करें और सही ढंग से मेड‍िटेशन करें। मेड‍िटेशन के तरीकों को आप ओनलीमायहेल्‍थ की वेबसाइट के जर‍िए भी सीख सकते हैं। 

Disclaimer