मेडिटेशन करना चाहते हैं मगर वक्त नहीं है? जानें कहीं भी- कभी भी मेडिटेशन करने के 5 आसान तरीके

ध्यान  के लिए जरूरी नहीं कि आप उसके पारंपरिक आसान को ही अपनाएं। इसके लिए जरूरी ये है कि आप अपने व्यस्त जीवन से थोड़ा सा समय निकालें।

Pallavi Kumari
Written by: Pallavi KumariUpdated at: May 30, 2022 18:09 IST
मेडिटेशन करना चाहते हैं मगर वक्त नहीं है? जानें कहीं भी- कभी भी मेडिटेशन करने के 5 आसान तरीके

ध्यान तन और मन दोनों का शांति के लिए बेहद जरूरी है। जिस तरह से आज हमारे जीवन में स्ट्रेस बढ़ता जा रहा है ऐसे में योग और ध्यान इससे बचने का एक अच्छा तरीका हो सकता है। ध्यान के जरिए आप अपने मन और शरीर से काम के एक लंबे दिन के बाद सभी तनावपूर्ण ऊर्जाओं को बाहर निकाल सकते हैं। इसके साथ ही ध्यान शरीर को डिटॉक्स करने का एक आसान तरीका है। इसके अलावा, आप अपने  दिन की शुरूआत अगर ध्यान करने से करें, तो आपका पूरा दिन आराम से शांति के साथ बित सकता है। पर सबसे लिए आज एक ही चुनौती है कि किसी के पास ध्यान करने का वक्त ही नहीं है।  ऐसे में आप कभी भी, कहीं भी ध्यान करने के लिए कुछ टिप्स अपना सकते हैं। आइए जानते हैं ऐसे ही कुछ ध्यान करने के आसान टिप्स के बारे में।

inside-dyanketarike.jpg

ऑफिस में ध्यान

ऑफिस में थोड़ा सा समय निकालें और ध्यान करने की कोशिश करें। इसके लिए आप ऑफिस में दोपहर का वक्त चुन सकते हैं। वहीं इस काम के लिए आपको अपने कुर्सी से उठना भी नहीं पड़ेगा। बस आपको सीधे पीठ करके कुर्सी पर ही अपने पैरों पर बैठना होगा। बैठते वक्त इस बात का ख्याल रखें कि घुटने 90 डिग्री के कोण पर झुकें हो। सुनिश्चित करें कि आपका सिर और गर्दन आपकी रीढ़ के साथ सही से एक सीध में हो। आप अपनी पीठ के निचले हिस्से को सहारा देने के लिए अपने पीछे एक तकिया रख सकते हैं। अपने हाथों को कूल्हों पर रखें, अपनी आँखें बंद करें और ऊर्जाओं को बहने दें। इस तरह का ध्यान आपके मन को शांति दे सकता है।

इसे भी पढ़ें : मसाज करवाने से कम हो सकती हैं मानसिक बीमारियां, जानें डिप्रेशन में कैसे है ये फायदेमंद

मेट्रो में खड़े हो कर ध्यान करें 

अगर आपके पास सच में वक्त नहीं है और आप बहुत स्ट्रेस भरी जिंदगी जी रहे हैं, तो आपको जब और जहां वक्त मिले ध्यान करने की कोशिश करें। इसके लिए आप मेट्रो में भी ध्यान कर सकते हैं। कुछ लोग ध्यान को और अधिक आरामदायक पाते हैं जब वे सीधे खड़े होते हैं। इसलिए अपने पैरों को कंधे की चौड़ाई के साथ लंबा करें। अपनी एड़ी को थोड़ा अंदर की ओर और अपने पैर की उंगलियों को बाहर की ओर घुमाएं। फिर अपने घुटनों को थोड़ा मोड़ें और सांस लें। अपने हाथों को पेट पर रखें ताकि आप अपनी लयबद्ध सांसों को महसूस कर सकें। आप इसे कुछ मिनटों के लिए कहीं भी कर सकते हैं। इससे आपको शांति का अहसास होगा।

घुटना टेककर

अगर आपको लगता है कि आप एक ऐसी जगह पर हैं जहां आप घुटने टेक सकते हैं, तो इसे करें। जब आप अपनी पीठ को बिल्कुल सीधा रखते हैं तो यह स्थिति सबसे अच्छी होती है। अपने पिंडलियों को जमीन पर रखें, अपने पैरों को घुटनों पर पीछे की ओर मोड़ें। आदर्श रूप से, इस स्थिति से आपको कोई दर्द और या असुविधा महसूस नहीं होनी चाहिए। अगर आप इसे करते हैं, तो एक और मुद्रा की कोशिश करते हैं तो ये सफल ध्यान सत्र के लिए आपको शांत और ध्यान केंद्रित करने में मदद करेगा।

inside-DHYAN.jpg

लेट कर ध्यान

यह सबसे अच्छी स्थिति है, जिसे आप अपने आप में पा सकते हैं। जब आप फर्श पर सपाट होते हैं, तो आपका शरीर बड़े करीने से समर्थित होता है। अपनी बाहों और अपने पैरों को फैलाएं और आवश्यक हो, तो उन्हें ऊंचा करने के लिए अपने घुटनों के नीचे एक तकिया रखें। आप महसूस करेंगे कि आपकी ऊर्जाएँ पहले से ही बह रही हैं और इस स्थिति से आपको बहुत फायदा होने की संभावना है। इस तरह आपको पूरा शरीर आराम में आ जाएगा।

 इसे भी पढ़ें : सर्दियों में हर किसी के लिए फायदेमंद है सनबाथ, जानें गुनगुनी धूप से सेहत को मिलने वाले 4 फायदे

आसन लगा कर ध्यान करना

ध्यान रखें कि जो भी आसन आप चुनते हैं वह अनिवार्य रूप से ध्यान की प्रक्रिया को परिभाषित करेगा। अगर आप ध्यान के लिए नए हैं, तो आसन के साथ शुरू करना उचित है जिसमें बहुत अधिक प्रयास की आवश्यकता नहीं होती है। यह आपको स्वाभाविक रूप से आना चाहिए। इसमें पारंपरिक ध्यान की मुद्रा को अपनाएं और उसी स्थिति में ध्यान करें। इस तरह आप इसे छुट्टी वाले दिन या रोज सुबह या शाम भी अपना सकते हैं। इस तरह का ध्यान आपको मानसिक शांति के साथ शरीरिक तौर पर भी स्वस्थ रहने में मदद करेगा।

Read more articles on Mind-Body in Hindi

Disclaimer