पुरुषों में टेस्टोस्टेरॉन हार्मोन घटने पर शरीर देता है ये 7 संकेत, एक्सपर्ट से जानें इसे बढ़ाने के उपाय

पुरुषों में टेस्टोस्टेरॉन हार्मोन घटने पर क्या-क्या लक्षण दिखाई देते हैं जानने के लिए पढ़ें ये आर्टिकल। जानें डॉक्टर क्या देते हैं सलाह।

Satish Singh
Written by: Satish SinghPublished at: Sep 29, 2021
पुरुषों में टेस्टोस्टेरॉन हार्मोन घटने पर शरीर देता है ये 7 संकेत, एक्सपर्ट से जानें इसे बढ़ाने के उपाय

पुरुषों में टेस्टोस्टेरॉन हार्मोन का काफी महत्तव होता है। शरीर में जब इस हार्मोन में कमी आती है तो कुछ प्रकार के लक्षण दिखाई देते हैं। तो आइए इस आर्टिकल में हम जमशेदपुर के साकची के यूरोलॉजिस्ट डॉ. एच सिंह से बात कर लो टेस्टोस्टेरॉन हार्मोन के लक्षणों की बात करेंगे और जानेंगे ऐसा होने पर शरीर में किस-किस प्रकार के लक्षण दिखाई देते हैं। इस विषय पर अधिक जानकारी के लिए पढ़ें ये आर्टिकल। 

कई केस में मरीजों को पता नहीं चलता

डॉक्टर बताते हैं कि हमारे पास आयदिन कई मरीज आते हैं जिन्हें पता ही नहीं चलता है कि उनके शरीर में टेस्टेस्टेरॉन हार्मोन की मात्रा कम है। वो इसके लक्षणों से इसके बारे में पहचान ही नहीं पाते। मरीज हमारे पास आते हैं और कुछ लक्षणों के बारे में बताते हैं, जब हम और डिटेल लेते हैं तो मरीज अपने सेक्स लाइफ से जुड़ी समस्याओं के बारे में बताता है। उससे हम बीमारी का पता लगाते हैं। 

Low Testosterone

जानें कहां से सिक्रेट होता है टेस्टेस्टेरॉन हार्मोन

डॉक्टर बताते हैं कि वैसे तो टेस्टेस्टेरॉन हार्मोन पुरुषों और महिलाओं दोनों में ही सिक्रेट होता है। लेकिन पुरुषों में इसकी मात्रा ज्यादा होती है, ये अंडकोष से सिक्रेट होता है। जहां लिडिंग सेल्स होता है, इसका सीधा कनेक्शन हमारे दिमाग में पिट्युरिटी ग्लैंड के साथ होता है। जो एफएसएच और एलएच हार्मोन सिक्रेट करती है, जो टेस्टिस के फंक्शन को कंट्रोल करती है। टेस्टेस्टेरॉन हार्मोन में कमी आने पर आपके अंडकोष से जितने मात्रा में जितना आपको जरूरत है उतना टेस्टेस्टेरॉन का सिक्रेशन नहीं हो रहा है। 

30 साल की उम्र के बाद कम होता है ये हार्मोन

डॉक्टर बताते हैं कि 30 साल की उम्र के बाद पुरुषों में हर साल 1 से दो फीसदी ये हार्मोन कम होने लगते हैं। कुछ मरीजों में ये हार्मोन काफी ज्यादा कम हो जाता है जिससे लक्षण साफ तौर पर दिखने लगते हैं। 

जानें टेस्टेस्टेरॉन का क्या होता है काम

  • सेक्स की चाहत को बढ़ाना
  • स्पर्म के प्रोडक्शन को ठीक रखना
  • पुरुषों के शरीर में हेयर ग्रोथ जैसे दाढ़ी, छाती पर बाल आदि का आना 
  • हमारी हड्डियों को मजबूत और हेल्दी रखना
  • हमारे मसल्स मास को बढ़ाना

आज इन लक्षणों से जानें लो टेस्टेस्टेरॉन

डॉक्टर बताते हैं कि पुरुषों के शरीर में लो टेस्टेस्टेरॉन की कमी होने पर कुछ लक्षण दिखते हैं, जैसे

1. ब्रेस्ट का बढ़ना

डॉक्टर बताते हैं कि महिलाओं के समान पुरुषों के स्तन भी बढ़ने लगते हैं। ये भी लो टेस्टेस्टेरॉन के लक्षणों में से एक है। शरीर में यदि इस प्रकार का लक्षण दिखे तो लोगों को डॉक्टरी सलाह लेनी चाहिए और जांच करवाना चाहिए। 

Infertility

2. कामोत्तेजना का कम होना, इंफर्टिलिटी का कारण

डॉक्टर बताते हैं कि लो टेस्टेस्टेरॉन की समस्या से जूझ रहे व्यक्ति को सामान्य व्यक्ति की तुलना में कामोत्तेजना कम होती है। वो ऑपोजिट सेक्स के प्रति कम आकर्षित होता है। इरेक्टाइल डिसफंक्शंन के साथ पेनिस ठीक से खड़ा नहीं हो पाता है। इस कारण आगे चलकर लोगों में इनफर्टिलिटी की समस्या आती है। टेस्टेस्टेरॉन हार्मोन स्पर्म प्रोडक्शन के लिए काफी जरूरी है, लो टेस्टेस्टेरॉन की समस्या होने पर इस प्रकार के लक्षण दिखते हैं। 

3. मसल्स कम हो जाते हैं 

डॉक्टर बताते हैं शरीर में लो टेस्टेस्टेरॉन के कारण मसल्स मास कम हो जाता है। मसलस पहले की तुलना में कमजोर हो जाते हैं। 

4. शरीर में हेयर ग्रोथ कम

पुरुषों के शरीर में जैसे कि दाढ़ी -छाती जैसी जगहों पर काफी मात्रा में हेयर होता है। ये प्राकृतिक होता है। लो टेस्टेस्टेरॉन की समस्या की वजह से इन बालों के ग्रोथ पर असर पड़ता है। 

5. मोटापे के शिकार

डॉक्टर बताते हैं कि वैसे लोग जो लो टेस्टेस्टेरॉन की समस्या से जूझ रहे होते हैं वो मोटापे का शिकार हो जाते हैं। 

6. हड्डियां कमजोर हो जाती हैं 

बकौल यूरोलॉजिस्ट लो टेस्टेस्टेरॉन की समस्या के कारण हड्डियां कमजोर हो जाती हैं। इस कारण कई लोगों में हड्डियों से जुड़ी बीमारी जैसे कि ऑस्टियोपोरोसिस की समस्या देखने को मिलती है।

Fatigue

7. थकान और कमजोरी की शिकायत

डॉक्टर बताते हैं कि लो टेस्टेस्टेरॉन की समस्या की वजह से लोगों में थकान और कमजोरी आ सकती है। यदि इस समस्या पर ध्यान न दिया जाए तो मरीज में एनीमिया की बीमारी तक हो सकती है। इसलिए एक्सपर्ट मरीज को इलाज करवाने की सलाह देते हैं। 

जानें डॉक्टर कैसे लगाते हैं समस्या का पता

डॉक्टर बताते हैं कि पुरुषों के शरीर में लो टेस्टेस्टेरॉन की जांच करने के लिए ब्लड टेस्ट किया जाता है, जिसके जरिए डायग्नोस किया जाता है। आपके शरीर में टेस्टेस्टेरॉन हार्मोन का लेवल दिनभर में घटता बढ़ता रहता है। शरीर में सबसे ज्यादा टेस्टेस्टेरॉन का लेवल सुबह के समय होता है। इसलिए मरीज को टेस्टेस्टेरॉन का सैंपल देने के लिए सुबह 8 बजे बुलाया जाता है, यदि यह संभव नहीं होता है तो मरीज को 8-10 बजे के बीच सैंपल देने की सलाह दी जाती है। इसी जांच से शरीर में टेस्टेस्टेरॉन की सही मात्रा की जानकारी मिल पाती है। 

इन लक्षणों को देख लें डॉक्टरी सलाह

डॉक्टर बताते हैं कि शरीर में यदि आपको भी बताए गए लक्षणों में कुछ लक्षण महसूस हो रहे हैं तो ऐसे में आपको डॉक्टरी सलाह लेनी चाहिए। इस समस्या के कारण लोगों को घबराने की बजाय डॉक्टरी सलाह लेकर इलाज करवाना चाहिए। ताकि समस्या से निजात पाया जा सके। यदि सही समय पर इलाज नहीं करवाएंगे तो संभव है कि समस्या और बढ़ जाए। डॉक्टर से उचित परामर्श हासिल कर इस समस्या से निजात पाया जा सकता है। 

Read More Articles On Mens

Disclaimer