कोरोना महामारी में बच्चों में बढ़ रहा है तनाव, जानें बच्चों में स्ट्रेस कम करने के तरीके

कोरोना की खबरों के बीच बच्चों का मानसिक स्वास्थ्य भी काफी ज्यादा बिगड़ रहा है। ऐसे में माता-पिता को उनका खास ध्यान रखने की आवश्यता है।

Kishori Mishra
Written by: Kishori MishraUpdated at: May 05, 2021 13:39 IST
कोरोना महामारी में बच्चों में बढ़ रहा है तनाव, जानें बच्चों में स्ट्रेस कम करने के तरीके

कोरोनावायरस अबतक 2 लाख से अधिक लोगो की जान ले चुका है। भारत में दिन ब दिन कोरोना के मामले बढ़ते जा रहे हैं। कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए कई राज्यों में लॉकडाउन का ऐलान किया जा चुका है। वहीं, केंद्र सरकार भी लॉकडाउन पर विचार कर रही है। चारों ओर कहीं न कहीं से बुरी खबरे सुनने के लिए मिल जाती हैं। ऐसे में खुद को नकारात्मक सोच से बचाना मुश्किल हो रहा है। नकारात्मक विचार की वजह से अवसाद भी गहरा रूप लेता जा रहा है। कोरोनाकाल में मानसिक तनाव से बचाव के लिए लोग तरह तरह की एक्टिविटिज भी कर रहे है। कोरोना की वजह से न सिर्फ बड़ों में नकारात्मक विचार आ रहे हैं, बल्कि बच्चे भी इससे काफी ज्यादा प्रभावित हो रहे हैं।  एक्सपर्ट का कहना है कि तनावपूर्ण घटनाओं को देखने और सुनने की वजह से बच्चों मे तनाव काफी ज्यादा बढ़ रहा है। इन घटनाओ में दिनचर्या में कमी, पेरेंट्स की नौकरी छूटना और आर्थिक परेशानी भी शामिल हैं। इसके अलावा परिवार और आस-पड़ोस में किसी की मृत्यु बड़ों के साथ-साथ बच्चों को भी परेशान कर रही है। कोविड -19 महामारी में बच्चे शारीरिक और मानसिक  रूप से प्रभावित हो रहे हैं। ऐसी स्थिति में माता-पिता को कोशिश करना चाहिए कि उनके बच्चे स्ट्रेस या फिर किसी भी तरह के मानसिक तनाव से दूर रह सकें।

बच्चों में विपरीत परिस्थितियों के प्रभाव को समझने की करें कोशिश

इस समय बच्चे तनावपूर्ण स्थिति से गुजर रहे हैं। चारों ओर से आ रही खबरें सुनकर बच्चों में तनाव पैदा होता है। कोविड -19 के कारण स्ट्रेस झेलने का खतरा काफी ज्यादा रहता है। ऐसे में बच्चों पर इसका कितना प्रभाव पड़ रहा है, इसे समझना जरूरी है। ताकि आप उन्हें स्थिति को अच्छे से समझा करें और उनकी सोच को सकारात्मक कर सकें। 

इसे भी पढ़ें - गर्मियों में बच्चों को न पहनाएं इस तरह के कपड़े, वरना हो सकती हैं समस्याएं

बच्चों से करें अधिक बातें

बच्चों के मन की बातों को जानने के लिए उनसे अधिक से अधिक बातें करें। बात करने से समझ आएगा कि आपके बच्चे किस बात से परेशान हैं। ऐसा करने से आपको उन्हें समझने में मदद मिल सकती है। साथ ही आप उन्हें इस दौर में अच्छे से समझ सकते हैं। 

बच्चों के साथ क्वालिटी टाइम बिताएं

इस समय बच्चे घर में काफी बोर हो रहे हैं। ऑनलाइन क्लास के बाद घर में रहने से उन्हें समझ नहीं आ रहा कि क्या करें। ऐसे में आप उनके साथ क्वालिटी टाइम बिताएं। अपना एक शेड्यूल तैयार करें, जिसमें आपको अपने बच्चों के लिए समय निकालना है। अगर आप अपने बच्चों को बेहतर समय देंगे, तो इससे आप अपने बच्चों को बेहतर तरीके से समझ पाएंगे।

धारणा बनाने से बचें

एक्सपर्ट्स का कहना है कि बच्चों में कोविड-19 के दौरान काफी ज्यादा तनाव बढ़ रहा है। इस समय स्कूल बंद हैं और वे घर से बाहर भी नहीं जा पा रहे हैं। ऐसी स्थिति में उनके दिमाग में कई तरह की धारणाएं बन सकती हैं। इस बात का माता-पिता को खास ध्यान रखना चाहिए। अपने बच्चों को इस समय यह एहसास दिलाएं कि सबकुछ बहुत ही जल्द ठीक हो जाएगा। यह महामारी कुछ समय के लिए है, बात में सबकुछ पहले जैसा हो जाएगा। ऐसे में आपके बच्चे गलत धारणा बनाने से बच सकेंगे। 

इसे भी पढ़ें - घर का खाना नहीं खाता है आपका बच्चा? तो इन 5 तरीकों से खिलाएं जिद्दी बच्चों को हेल्दी फूड्स

बच्चों के तनाव को करें कम

बच्चों में इस समय काफी ज्यादा तनाव बढ़ रहा है। ऐसी स्थिति में उन्हें अच्छी नींद, एक्सरसाइज और हेल्दी डाइट देने की कोशिश करें। ऐसा करने से स्ट्रेस लेवल को काफी हद तक कंट्रल किया जा सकता है। एक्सपर्ट बताते हैं कि माता-पिता को बच्चों के साथ महामारी के बारे में ज्यादा बातें नहीं करनी चाहिए, इससे उनके अंदर तनाव बढ़ता है। उनके सामने नए-नए एक्टिविटीज करें और उनके दोस्त बनने की कोशिश करें। अगर आप अपने बच्चों को स्ट्रेस फ्री देखना चाह रहे हैं, तो उनके लिए ऐसा शेड्यूल तैयार करें, जिसमें वे पूरा दिन खुद को बिजी रख सकें। जैसे- फूड्स, गेम्स, एक्सरसाइज, पढ़ाई, टीवी इत्यादि चीजों में उन्हें व्यस्त रखने की कोशिश करें।

Read more articles on Tips for Parents in Hindi

 

 

Disclaimer