जैसे अच्छी सेहत के लिए एक रूटीन को फॉलो करना जरूरी है, ठीक उसी तरह वजाइना को हेल्दी बनाए रखने के लिए भी कुछ नियमों का पालन जरूरी है।

 
"/>

हेल्दी वजाइना के लिए महिलाओं को पता होने चाहिए अंडरवियर पहनने से जुड़े ये 5 नियम

जैसे अच्छी सेहत के लिए एक रूटीन को फॉलो करना जरूरी है, ठीक उसी तरह वजाइना को हेल्दी बनाए रखने के लिए भी कुछ नियमों का पालन जरूरी है।

 
Ashu Kumar Das
Written by: Ashu Kumar DasPublished at: Jun 16, 2022Updated at: Jun 23, 2022
हेल्दी वजाइना के लिए महिलाओं को पता होने चाहिए अंडरवियर पहनने से जुड़े ये 5 नियम

बॉडी को हेल्दी रखने के लिए एक डाइट, वर्कआउट नियम, घर में रहने, खाने-पीने यहां तक की बात करने के भी कई नियम है। कई जगहों पर तो कपड़े कैसे पहनने हैं इसके लिए भी एक नियम लागू किया जा चुका है। लेकिन क्या कभी आपने अंडरवियर या अंडर गारमेंट्स को पहनने के नियम के बारे में सोचा है? अब आप सोच रहे होंगे कि ये कैसी बात हुई कि क्या इन चीजों के लिए भी नियम होता है। जी हां बिल्कुल होता है। जैसा की आप जानते हैं कुछ कपड़ों का फैब्रिक हमारी स्किन को नुकसान पहुंचा सकता है। पिछले दिनों एक शोध में यह बात सामने आई है कि अगर अंडरवियर को नियमानुसार न पहना जाए तो यह वजाइना के स्वास्थ्य को प्रभावित कर सकते हैं। इतना ही नहीं गलत अंडरवियर पहनने से रोजाना की लाइफस्टाइल और मूड पर भी इफेक्ट पड़ता है। अगर आपने भी आज तक बिना सोचे समझें अंडरवियर पहना तो आज हम आपको बताने जा रहे हैं इसको पहनने के कुछ खास नियम।

अंडरवियर के लिए सही कपड़े का करें चुनाव

वजाइना को होठों के समान ही नाजुक माना जाता है। यह शरीर को बहुत ही संवेदनशील हिस्सा है। इसलिए इसको कवर करने के लिए कॉटन से बने फैब्रिक का इस्तेमाल करें। कॉटन के कपड़े स्किन के लिए अच्छे माने जाते है यह पसीना सोखते हैं और इंफेक्शन से भी बचाते हैं। नायलॉन और स्पैन्डेक्स जैसे सिंथेटिक फैब्रिक से बनें अंडरवियर कई बार खुजली, ज्यादा पसीने का कारण बन सकते हैं। कई बार महिलाएं फैशनेबल और स्टाइलिश के चक्कर में लेस और कई तरह के बटन से सजी हुई लाॅन्जरी खरीद लेती हैं। ये लाॅन्जरी देखने में तो खूबसूरत लगती हैं, लेकिन इसे पहनने में असुविधा होती ही है। कई बार लॉन्जरी में लगे लेस और बटन वजाइना के आसपास रेडनेस और रैशेज का कारण बन सकते हैं।

इसे भी पढ़ेंः सेल्फ रिलैक्स करने के काम आएंगे ये ब्यूटी ट्रिक्स, हर लड़की को करने चाहिए ट्राई

रोजाना बदलना है जरूरी

गर्मी का मौसम हो या फिर सर्दियों का अंडरवियर को रोजाना बदलना बहुत जरूरी है। पहना हुआ अंडरवियर कई दिनों तक बार-बार पहनने से यह वजाइना का नुकसान पहुंचा सकता है। हाइजीन के लिहाज से गंदे अंडरवियर पहनना नुकसानदेह माना जाता है। विशेषज्ञों का मानना है कि एक बार अंडरवियर पहनने पर इसमें पसीना, मल और पेशाब के पार्टिकल्स जम जाते हैं जो दोबारा पहनने पर स्किन पर लग सकते हैं और इससे कई तरह ही स्वास्थ्य समस्या होने का खतरा रहता है।

साइज और कट पर ध्यान देना है जरूरी

अंडरवियर खरीदते समय ध्यान दें कि इसकी क्वालिटी के साथ-साथ इसका डिजाइन भी आपके वजाइना हेल्थ पर प्रभाव डाल सकता है। अंडरवियर खरीदते वक्त स्ट्रेचेबिलिटी का ध्यान जरूर दें। अगर आप ब्रीफ या कट्स वाले अंडरवियर पहनती हैं तो फिटिंग के हिसाब से ही इसे खरीदें।

धोने के लिए सॉफ्ट साबुन का करें इस्तेमाल

अंडरवियर को धोने के लिए अन्य कपड़ों की तुलना में अधिक सॉफ्ट साबुन का इस्तेमाल करना चाहिए। हार्ड साबुन से अगर अंडयवियर को धोया जाए तो यह वजाइना को नुकसान पहुंचा सकता है। अंडरवियर को अगर हार्ड साबुन से धोया जाए तो इसके कैमेकिल की वजह से वजाइना में खुजली, एलर्जी, जलन जैसी समस्या हो सकती है।

इसे भी पढ़ेंः ड्राई स्किन को नुकसान पहुंचाते हैं केमिकल वाले क्लींजर, ट्राई करें घर पर बने ये 4 नैचुरल क्लींजर

क्या है अंडरवियर को धोने के नियम ?

अंत में बात आती है कि अंडरवियर को कैसे धोया जाए जिससे वो साफ भी रहे और ज्यादा वक्त तक चले भी। इसके लिए आपको अपने अंडरगारमेंट पर लगे लेबल को चेक करने की जरूरत है। हर अंडरवियर पर उसकी देखभाल से जुड़ा एक लेबल चिपका होता है, उसे ही फॉलो करें। अगर आप बाजार में मिलने वाले कॉटन के अंडरवियर को पहनती हैं तो इसको धोते समय थोड़े से ब्लीच का इस्तेमाल करें। कपड़ों को धोते समय ब्लीच का इस्तेमाल कीटाणुओं को मार देता है। अगर आपकी अंडयवियर कलरफुल है तो आप इसे कीटाणुओं से मुक्त करने के लिए गर्म पानी और डिटर्जेंट का इस्तेमाल कर सकती हैं। जानकारों का मानना है कि अगर इन नियमों को फॉलो करके अंडरवियर पहना जाए तो इससे वजाइना में होने वाले इंफेक्शन और अन्य परेशानियों से बचा जा सकता है।

 

Disclaimer