बच्चों के लिए जरूरी है खेलकूद और फिजिकल एक्टिविटी, इन तरीकों से करें उन्हें मोटिवेट

बच्‍चों को फ‍िट रखने के लि‍ए शारीर‍िक कसरत या एक्‍ट‍िव‍िटी करवाना जरूरी है, जानें आप अपने बच्‍चे को रख सकते हैं फ‍िट और एक्‍ट‍िव

Yashaswi Mathur
Written by: Yashaswi MathurPublished at: Aug 27, 2021Updated at: Aug 27, 2021
बच्चों के लिए जरूरी है खेलकूद और फिजिकल एक्टिविटी, इन तरीकों से करें उन्हें मोटिवेट

बच्‍चों को फ‍िट और हेल्‍दी रखने के ल‍िए फिजिकल एक्‍ट‍िव‍िटी जरूरी है। जरूरी नहीं है क‍ि फिज‍िकल एक्‍ट‍िव‍िटी केवल एक्‍सरसाइज ही हो आपको बच्‍चे की उम्र के मुताब‍िक उसे फिजिकल एक्‍ट‍िव‍िटी के ल‍िए प्रेरित करना चाह‍िए। कोव‍िड के चलते ज्‍यादातर समय बच्‍चे घर में रहते हैं वहीं फोन, लैपटॉप आद‍ि की लत के कारण बच्‍चों को घर पर फोन पर गेम्‍स खेलना पसंद होता है। इस आदत से वो मोटापा, स‍िर में दर्द, कमजोर व‍िज़न और अन्‍य बीमार‍ियों के श‍िकार हो जाते हैं। माता-प‍िता होने के नाते आपको उन्‍हें फ‍िजिकल एक्‍ट‍िव‍िटी और खेलूकूद के ल‍िए प्रेर‍ित करना चाह‍िए। इस लेख में हम बच्‍चों को फिज‍िकल एक्‍ट‍िव‍िटी में शाम‍िल होने के ल‍िए प्रोत्‍साह‍ित करने के तरीके और किन एक्‍टिव‍िटीज से बच्‍चों को फायेदा होगा इस पर चर्चा करेंगे। इस व‍िषय पर ज्‍यादा जानकारी के ल‍िए हमने लखनऊ के ख्वाजा मोइनुद्दीन चिश्ती भाषा विश्वविद्यालय में इंटरनेट गेमिंग और बच्‍चों पर उसके असर पर शोध कर रहीं र‍िसर्च स्‍कॉलर सुनैना अस्‍थाना से बात की। 

fit child 

(image source:blog.nasm.org)

बच्‍चों के खेलकूद में शाम‍िल होने से म‍िलेंगे ये लाभ (Benefits of physical activity for kids)

  • लखनऊ के केयर इंस्‍टिट्यूट ऑफ लाइफ साइंसेज की एमडी फ‍िजिश‍ियन डॉ सीमा यादव ने बताया क‍ि अगर आपका बच्‍चा खेलकूद में शाम‍िल हो जाता है तो उसका शरीर कुछ ही समय में फिट नजर आएगा क्‍योंक‍ि कम उम्र में मेटाबॉल‍िज्‍म रेट ज्‍यादा होता है, ऐसे में शरीर को फिट रखना आसान होता है।
  • फ‍िजिकल एक्‍ट‍िव‍िटी में शाम‍िल होने से पसीना आएगा, शरीर गर्म होगा ज‍िससे वजन तो कम होगा ही साथ ही त्‍वचा संबंधी रोग नहीं होंगे।
  • फ‍िजिकल एक्‍टिव‍िटी के जर‍िए बच्‍चे की हड्ड‍ियां मजबूत होंगी, आगे चलकर हड्ड‍ियों से जुड़े रोग का खतरा कम होगा। 
  • जो बच्‍चे फ‍िजिकल एक्‍ट‍िव‍िटी में शाम‍िल रहते हैं उनकी रोग प्रत‍िरोधक क्षमता ज्‍यादा होती है और बच्‍चे आसानी से बीमारी का श‍िकार नहीं होते। 
  • फ‍िजिकल एक्‍ट‍िव‍िटी करने से बच्‍चे हाई बीपी का श‍िकार नहीं होंगे और डायब‍िटीज का खतरा भी कम होगा। 
  • जो बच्‍चे रोजाना खेलकूद में शाम‍िल रहते हैं उन्‍हें नींद भी जल्‍दी आती है और हार्ट से जुड़ी बीमारी भी नहीं होती। 
  • शारीर‍िक फायदों के अलावा मानसिक स्‍वास्‍थ्‍य के ल‍िए खेल या फ‍िजिकल एक्‍ट‍िव‍िटी फायदेमंद है, इससे बच्‍चों को स्‍ट्रेस नहीं होगा। 

इसे भी पढ़ें- तन-मन को रखना है फिट तो खेलें बचपन के ये खेल, बच्चों से लेकर बड़ों तक सभी के लिए हैं फायदेमंद

फ‍िजिकल एक्‍ट‍िव‍िटी के ल‍िए बच्‍चों को प्रेरि‍त कैसे करें? (How to encourage child for physical activity)

1. तारीफ जरूरी है (Praise your kid)

praising kid

(image source:raisingchildren.net.au)

बच्‍चे फिजिकल एक्‍टीव‍िटी या खेल-कूद से कतराते हैं पर आपको उन्‍हें फ‍िज‍िकल एक्‍टीव‍िटी के ल‍िए प्रेर‍ित करना है, जब भी वो अपना तय लक्ष्‍य पूरा कर लें, आप उसकी तारीफ करें। तारीफ के जर‍िए बच्‍चे को अगले द‍िन और बेहतर करने की प्रेरेणा म‍िलेगी। बच्‍चे को हर अच्‍छी बात पर ग‍िफ्ट देने की आदत न डालें, इससे बच्‍चे की बुरी आदत पड़ जाती है और बच्‍चा ग‍िफ्ट्स के लालच में कभी-कभी अपनी क्षमता से ज्‍यादा कसरत या फिजि‍कल एक्‍टीव‍िटी भी कर सकते हैं ज‍िससे उनकी तबीयत ब‍िगड़ सकती है। आपको केवल प्रोत्‍साहन के ल‍िए उन्‍हें खुश रखना है। 

2. खेल में प्रॉप भी होनी चाह‍िए (Add props with games)

kids playing

(image source:littleginger.com)

सुनैना अस्‍थाना ने बताया क‍ि खेल के फायदे बच्‍चों के शरीर के ल‍िए अनग‍िनत होते हैं पर आज के समय में बच्‍चे बाहर कम और फोन पर गेम्‍स खेलना ज्‍यादा पसंद करते हैं पर इसका बुरा असर न‍ स‍िर्फ उनकी आंखों पर पड़ता है बल्‍क‍ि पूरी सेहत पर इसका बुरा असर पड़ता हैं, बच्चों में थकान, सूजन, मोटापा, कमजोर व‍िजन आद‍ि समस्‍याएं नजर आने लगती हैं। इससे बचने के ल‍िए आप बच्‍चे को बाहर खेलने के ल‍िए भेजें और उसे मोट‍िवेट करने के ल‍िए आप उसे बॉल, बैट, रैकेट, रस्‍सी या खेल से जुड़ी अन्‍य चीजें दे सकते हैं। 

3. बच्‍चे के साथ खेलने के फायदे (Playing with kids)

playing with kids

(image source:dissolve.com)   

बच्‍चों में मोटापे की समस्‍या आज के समय में बढ़ती जा रही है पर अगर वो फ‍िज‍िकल एक्‍टीव‍िटी में हिस्‍सा लेंगे तो मोटापे या अन्‍य बीमार‍ियों के श‍िकार नहीं होंगे पर बच्‍चों को प्रेर‍ित करने के ल‍िए केवल उन्‍हें खेलने के ल‍िए बोलना काफी नहीं है, आपको अपने बच्‍चे के साथ खेल या फ‍िजि‍कल एक्‍टीव‍िटी में ह‍िस्‍सा लेना चाह‍िए। आप बच्‍चे के साथ साइक‍िल राइड पर जा सकते हैं या बैडम‍िंटन खेल सकते हैं या घर के काम में बच्‍चों की मदद ले सकते हैं जैसे क‍िसी सफाई करना। 

4. छोटे-छोटे लक्ष्‍य तय करें (Small goals)

एक्‍सरसाइज के फायदे आपके बच्‍चे को तभी म‍िलेंगे जब वो उसे अपने तरीके से इंजोय कर सके। आप छोटे-छोटे लक्ष्‍य तय करें और बच्‍चों को उसके ल‍िए तैयार करें, र‍िसर्च स्‍कॉलर सुनैना अस्‍थाना ने बताया क‍ि बॉल‍िवुड की फ‍िल्‍म दंगल में बच्‍चों के लि‍ए खेल के प्रत‍ि लगाव पैदा करने का भाव बखूबी द‍िखाया गया है, इसी तरह हमें स्‍कूलों में भी खेल को महत्‍व देना चाह‍िए और खेल को एक अन‍िवार्य क्‍लॉस के तौर पर शाम‍िल क‍िया जाना चाह‍िए।

इसे भी पढ़ें- इंटरनेट और मोबाइल की उपलब्धता बच्चों को कर रही है आउटडोर गेम्स से दूर, ऐसे बनाएं उन्हें स्पोर्टी और एक्टिव

बच्‍चे को खेल या फ‍िज‍िकल एक्‍टिव‍िटी के ल‍िए तैयार कैसे करें? (How to prepare your child for physical activity)

बच्‍चे को फ‍िज‍िकल एक्‍ट‍िव‍िटी या खेल के ल‍िए तैयार कर रहे हैं तो इन स्‍टेप्‍स को फॉलो करें-

  • बच्‍चों का मन भी जानें, अगर उनकी तबीयत खराब हो या मन न हो तो ब्रेक देना भी जरूरी है। 
  • बच्‍चों को खेल या फ‍िजिकल एक्‍ट‍िव‍िटी के ल‍िए बाहर भेज रहे हैं तो ध्‍यान रखें क‍ि वो जगह बच्‍चे के ल‍िए पूरी तरह से सेफ हो। 
  • एक समय तय कर दें क‍ि ताक‍ि आपको पता चल सके क‍ि बच्‍चा क‍ितनी देर फ‍िज‍िकल एक्‍टीव‍िटी कर रहा है या कर पा रहा है। 
  • आप भी रोजाना क‍िसी न क‍िसी स्‍पोर्ट का ह‍िस्‍सा जरूर बनें, बच्‍चे जब आपको खेलता हुआ देखेंगे तो खुद ही खेल का ह‍िस्‍सा बनेंगे। 

क‍िन फ‍िज‍िकल एक्‍टीव‍िटी को बच्‍चे आसानी से कर सकते हैं? (Options to opt for physical activities for kids)

jumping rope

(image source:todaysparent.com)

  • बच्‍चों की उम्र के मुताब‍िक ही तय क‍िया जा सकता है क‍ि वो क‍िन एक्‍टीव‍िटी को आराम से कर सकेंगे।
  • आपको इस बात का ध्‍यान रखना है क‍ि एक 7 से 8 साल का बच्‍चा तीन क‍िलोमीटर की दौड़ या वजन उठाने जैसे काम नहीं कर सकता।
  • उसके ल‍िए साइक‍िल चलाना, बैडम‍िन्‍टन खेलना या रस्‍सी कूदने जैसी एक्‍टिव‍िटी बेस्‍ट रहेंगी।
  • बच्‍चे की उम्र 3 से 5 साल के बीच है जो बच्‍चा बॉल से खेल सकता है, साइक‍िल चला सकता है, आप उसे वॉक पर लेकर जा सकते हैं।
  • अगर बच्‍चे की उम्र 6 से 17 साल के बीच है तो वो हर द‍िन फ‍िजि‍कल एक्‍टीव‍िटी को एक घंटा दे सकता है। 
  • इसमें एरोबिक्‍स, जंप‍िंग, रन‍िंग, पुश अप्‍स शाम‍िल हो सकते हैं।
  • अगर बच्‍चे को म्‍यूज‍िक या डांस का शौक है तो आप बच्‍चे के साथ एक घंटा डांस कर सकते हैं। 
  • इन द‍िनों कोव‍िड के चलते ज्‍यादातर पैरेंट्स अपने बच्‍चों को घर से बाहर नहीं भेजना चाहते, ऐसे में आप घर पर साफ-सफाई में बच्‍चों की मदद ले सकते हैं। 

फ‍िज‍िकल एक्‍ट‍िव‍िटी के ल‍िए बच्‍चे को तैयार करने से पहले बच्‍चे के डॉक्‍टर से म‍िलें और सलाह लें क‍ि कौनसे खेल या एक्‍टीव‍िटी बच्‍चे की उम्र के मुताब‍िक ठीक होगी। 

(main image source:https:cf.ltkcdn.net)

Read more on Children Health in Hindi 

Disclaimer