Lockdown: क्यों सता रही है पिज्जा, बर्गर और सिर्फ तली-भूनी चीजों की याद? जानें 'फास्ट कार्ब' खाने की साइकोलॉजी

जंक फूड खाने की साइकोलॉजी को समझना आसान नहीं हैं। पर हमें इसे समझना होगा और हेल्दी चीजों को खाने की आदत डालनी होगी।

Pallavi Kumari
Written by: Pallavi KumariPublished at: Apr 27, 2020Updated at: Apr 27, 2020
Lockdown: क्यों सता रही है पिज्जा, बर्गर और सिर्फ तली-भूनी चीजों की याद? जानें 'फास्ट कार्ब' खाने की साइकोलॉजी

कोरोनावायरस के कारण लॉकडाउन होने की वजह हम सब अपने घरों में कैद हैं और अपने हिसाब से घर-बैठे अपने मन की चीजें कर रहे हैं। इस दौरान सोशल मीडिया वो जगह जहां आप लोगों के द्वारा किए जा रहे तमाम क्रिएटिव चीजों का अवलोकन कर सकते हैं। वहीं अगर बात खाने की करें, तो लॉकडाउन में अगर आपने सोशल मीडिया का सही से अवलोकन किया होगा तो पाया होगा कि ज्यादातर लोग कुछ न कुछ बनाने और खाने में लगे हुए हैं। जैसे होममेड पिज्जा, पोटेटो फ्राइज, रसगुल्ला, चार्ट-पकोड़े, कॉफी और केक आदि। यानी कि ज्यादातर तली-भूनी और अनहेल्दी फूड्स। वहीं साइंस की भाषा में कहें तो ये 'Fast Carbs' हैं, जो हृदय रोग और मधुमेह के लिए आपके जोखिमों को बढ़ा सकता है।

insidefastcarb

क्या होते हैं 'फास्ट कार्ब्स' (Fast Carbs)?

'अमेरिकन जर्नल ऑफ क्लिनिकल न्यूट्रिशन' की मानें, तो 'Fast Carbs' उन खाद्य पदार्थों में होता है, जिनमें ग्लाइसेमिक इंडेक्स पर एक उच्च स्कोर होता है। ग्लाइसेमिक इंडेक्स आपके ब्लड शुगर के स्तर पर खाद्य पदार्थों के प्रभाव को मापता है। 55 या उससे नीचे के स्कोर वाले खाद्य पदार्थ कम-जीआई खाद्य पदार्थ या धीमी गति से कार्ब्स होते हैं, जबकि उच्च-जीआई खाद्य पदार्थ, 70 या उससे अधिक के स्कोर के साथ, तेज कार्ब्स होते हैं। यही फास्ट कार्ब्स आपके ब्लड शुगर के स्तर में स्पाइक्स के कारण होते हैं। यानी कि ये इतने अनहेल्दी हैं, कि इनके कारण आपको मोटापा, डायबिटीज और ब्लड प्रेशर की परेशानी भी हो सकती हैं।

लॉकडाउन में क्यों सता रही है पिज्जा, बर्गर और सिर्फ तली-भूनी चीजों की याद?

लॉकडाउन में ज्यादातर लोगों को पिज्जा, बर्गर और सिर्फ तली-भूनी चीजों की याद सता रही है, जिसे लोग क्रेविंग और अपने खाने बनाने की क्रिएटिव रिसिपी बता रहे हैं। बल्कि ऐसा कुछ भी नहीं है। दरअसल जिन लोगों को इन चीजों को खाने और बनाने का मन हो रहा है, वो स्ट्रेस में हैं। वह अपने स्ट्रेस ईटिंग के कारण इन चीजों को याद करे रहें हैं और उन्हें हर दिन इसकी याद आ रही है। दरअसल लॉकडाउन के इस वक्त में हम सभी तनावग्रस्त और चिंतित हैं। हमें पता नहीं भविष्य में क्या होगा इसलिए इस डर को मारने के लिए हम कुछ और उपाय ढ़ूढ रहे हैं और खाना हम सभी को बेहद पसंद हैं।  

खुद को हेल्दी रखने के बारे में कितने जागरूक हैं आप? खेलें ये क्विज:

Loading...

इसे भी पढ़ें : ये 7 फूड भले ही आपको न हो पसंद लेकिन सेहत को तंदरुस्त रखने में होते हैं जबरदस्त, जानें इनके फायदे

स्ट्रेस बढ़ने के साथ फास्ट कार्ब्स खाने की साइकोलॉजी

फास्ट कार्ब्स ब्लड शर्करा को बढ़ाते हैं और इसके साथ ही इंसुलिन का स्तर बढ़ने लगता है। वहीं जब यह बार-बार होता है, विशेष रूप से उन लोगों में जो अधिक वजन वाले होते हैं, तो चयापचय को खराब कर सकता है। ऐसे में इंसुलिन प्रभावी रूप से काम करना बंद कर देता है, जिससे इंसुलिन प्रतिरोध और अंततः मधुमेह और अन्य विकार हो सकते हैं। इस तरह जितना स्ट्रेस बढ़ता है, उतना ही हमें फास्ट कार्ब्स खाने का मन हो सकता है।

insideunhealthycarb

इन फास्ट कार्ब्स को खाने-पीने से बचें

  • -चीनी वाले मीठे पेय पदार्थ, जैसे कोल्ड ड्रिंक और कलर वाले स्वीट ड्रिंक
  • -परिष्कृत अनाज
  • -मिठाई, सुगन्धित खाद्य पदार्थ और बेक्ड चीजें जैसे केल और मफीन
  • -पिज्जा, बर्गर और सिर्फ तली-भूनी चीजें

इसे भी पढ़ें : Healthy Diet Tips: देसी टच देकर बनाएं अपने नूडल्‍स को सुपर हेल्‍दी

फास्ट कार्ब्स से बचने के लिए क्या खाएं

  • -हेल्दी प्रोटीन
  • -मोटे अनाज
  • -उबली हुईं चीजें
  • -आलू की जगह दाल और अंकुरित चीजें
  • -पनीर और मछली
  • -फल और हरी सब्जियां
  • -योग करें और खेले-कूदें
  • -स्ट्रेस कम करें और अच्छी नींद सोएं।

Read more articles on Healthy-Diet in Hindi

Disclaimer