धीरे-धीरे बढ़ते हैं बाल? जानें जल्दी बाल लंबे करने के 5 घरेलू नुस्खे

Home Remedies For Hair Growth: बाल बढ़ाने के लिए कुछ घरेलू नुस्खों का प्रयोग बहुत प्रभावी है, इस लेख में जानें घर बाल बढ़ाने के 5 आसान उपाय।

 

Vineet Kumar
Written by: Vineet KumarUpdated at: Jan 06, 2023 02:51 IST
धीरे-धीरे बढ़ते हैं बाल? जानें जल्दी बाल लंबे करने के 5 घरेलू नुस्खे

Home Remedies For Hair Growth In Hindi: हम सभी चाहते हैं कि हमारे बाल मजबूत, लंबे, घने और शाइनी बनें। लेकिन खराब जीवनशैली और शरीर में पोषण की कमी, प्रदूषण, केमिकल युक्त हेयर केयर प्रोडक्ट्स का प्रयोग आदि जैसे कई कारणों की वजह से लोग आए दिन बालों से जुड़ी कई समस्याओं से जूझते हैं, जिनमें हेयर फॉल, डैंड्रफ, ड्राई और फ्रिजी हेयर और गंजापन जैसी समस्याएं बहुत आम हैं। इसके साथ ही अक्सर हम देखते हैं कि लोगों के बाल बढ़ना बंद हो जाते हैं, या फिर बहुत धीरे-धीरे बढ़ते हैं, साथ ही जब उनके बाल झड़ते हैं तो उनकी जगह पर नए बाल नहीं उगते हैं। बालों को जल्दी बढ़ाने के लिए लोग बाजार में मौजूद महेंगे-महेंगे शैंपू, तेल और हेयर मास्क आदि का प्रयोग करते हैं, लेकिन ये केमिकल से भरपूर होते हैं, जिससे यह आपके बालों को नुकसान पहुंचा सकते हैं।

अब सवाल यह उठता है कि ऐसे में आपके पास क्या विकल्प है, बालों को स्वस्थ रखने और उन्हें जल्दी बाल बढ़ाने के लिए आप क्या कर सकते हैं? अगर आप भी बालों ग्रोथ न होने से परेशान हैं तो आप बिल्कुल सही लेख पढ़ रहे हैं, क्योंकि इस लेख में हम आपको जल्दी बाल लंबे करने के कुछ घरेलू नुस्खे (baal lambe karne ke gharelu nuskhe) बता रहे हैं। जिनकी मदद से आप घर पर आसानी से बालों के विकास को बढ़ावा दे सकते हैं, जानें बाल बढ़ाने के 5 घरेलू नुस्खे (baal badhane ke gharelu nuskhe)

Home Remedies For Hair Growth In Hindi

बाल बढ़ाने के लिए घरेलू नुस्खे- Home Remedies For Hair Growth In Hindi

1.  बालों में भृंगराज तेल लगाएं

बालों के लिए भृंगराज सबसे लाभकारी औषधि मानी जाती है। बालों के लिए प्रयोग किए जाने वाले ज्यादातर हेयर केयर प्रोडक्ट्स में भृंगराज का प्रयोग मुख्य सामग्री के रूप में किया जाता है। सर्दियों से इसका प्रयोग बालों से जुड़ी समस्याओं को दूर करने और बालों के विकास को बढ़ावा देने के लिए किया जा रहा है। आप बालों में एक अच्छा और प्राकृतिक भृंगराज तेल लगा सकते हैं। आप चाहें तो नारियल या सरसों तेल में भृंगराज के फूल को पीसकर पका सकते हैं, फिर इसे बालों में लगा सकते हैं। कोशिश करें कि सप्ताह में 2-3 बार बालों में 4-5 घंटे के लिए जरूर लगाएं।

2. बालों में आंवला लगाएं

विटामिन सी, आयरन और एंटीऑक्सीडेंट से भरपूर आंवला बालों के विकास में बहुत लाभकारी है। आप 1-2 चम्मच आंवला पाउडर या 2 आंवला फल को पीसकर, गर्म नारियल या सरसों के तेल में मिलाकर बालों में लगा सकते हैं। कोशिश करें कि कुछ मिनट के लिए तेल में आंवला को पका लें। ठंडा होने के बाद इसे बालों में लगाएं, स्कैल्प की मालिश करें। 3-4 घंटे बाद धो लें। यह स्कैल्प में ब्लड सर्कुलेशन को बढ़ाएगा, बालों के रोम को पोषण देगा, डैंड्फ और फंगस को साफ करेगा और जल्दी बाल बढ़ाएगा।

इसे भी पढें: जल्दी बाल बढ़ाने के लिए इन 3 तरीकों से लगाएं आंवला, तेजी से होगा बालों का विकास

3. करी पत्ता और मेथी का तेल लगाएं

आप सरसों या नारियल तेल में तेज 7-8 करी पत्ते को गर्म करके, इसमें रात भर भीगे मेथी के बीज पीसकर डालें अच्छी तरह गर्म करें, फिर ठंडा हो जाने के बाद स्कैल्प से लेकर बालों में अच्छी तरह लगाएं। 4-5 घंटे बाद धो लें। यह दोनों ही बालों के लिए जरूरी पोषण और एंटीऑक्सीडेंट, एंटी इंफ्लेमेटरी और एंटी बैक्टीरियल गुणों से भरपूर होते हैं। बालों के रोम को पोषण प्रदान करते हैं और जल्दी बाल बढ़ाते हैं।

4. मेहंदी में अंडा मिलाकर लगाएं

आप सप्ताह में 1-2 बार मेंहदी में 1 अंडा मिलाकर बालों में अप्लाई कर सकते हैं। अंडे में प्रोटीन होता है जो बालों के विकास के लिए बहुत जरूरी है। वहीं मेहंदी बालों को प्राकृतिक रंग प्रदान करने और हेयर ग्रोथ बढ़ाने में बहुत लाभकारी है। आप इसमें नींबू का रस भी मिला सकते हैं, इससे भी बालों के विकास में मदद मिलेगी।

इसे भी पढें: जल्दी बाल बढ़ाने के लिए इन 3 तरीकों से लगाएं एलोवेरा, बाल बनेंगे घने और शाइनी

5. बालों में एलोवेरा लगाएं

एलोवेरा स्कैल्प को मॉइश्चराइज रखने और फंगस को साफ करने में मदद करता है। यह स्कैल्प को स्टिमुलेट करता है और ब्लड सर्कुलेशन को बढ़ाता है। बालों के रोम को मजबूत बनाता है और उन्हें पोषण प्रदान करता है। एंटीऑक्सीडेंट्स से भरपूर आंवला डैंड्रफ का भी रामबाण उपाय है। बालों के विकास के लिए आप सप्ताह में 2-3 बार 4-5 घंटों के लिए नारियल, जैतून या सरसों तेल में एलोवेरा जेल मिलाकर बालों में अप्लाई कर सकते हैं।

All Image Source: Freepik

Disclaimer