Curry Leaves: 'कढ़ी पत्ता' स्वास्थ्य के लिए कैसे है फायदेमंद? जानें इसके 7 फायदे

मीठी नीम के सेवन से सेहत को अनेक समस्याओं से छुटकारा मिल सकता है। ऐसे में आप आज ही अपनी डाइट में इसे शामिल करें।

Garima Garg
Written by: Garima GargPublished at: Mar 08, 2021Updated at: Mar 08, 2021
Curry Leaves: 'कढ़ी पत्ता' स्वास्थ्य के लिए कैसे है फायदेमंद? जानें इसके 7 फायदे

'मीठी नीम' (Curry Leaves) के नाम से प्रसिद्ध कढ़ी पत्ता औषधीय गुणों से भरपूर है। इसका प्रयोग भारतीय रसोई में भोजन का स्वाद बढ़ाने के लिए किया जाता है। यह न केवल स्वाद को बढ़ाता है बल्कि सेहत को कई बीमारियों से दूर भी रखता है। बता दें कि इसके अंदर फास्फोरस, कैल्शियम और भरपूर विटामिंस जैसे- बी2, बी6, बी9 आदि पाए जाते हैं जो एनीमिया, शुगर, हाई बीपी के साथ-साथ बालों की समस्याओं को दूर करने और उन्हें घने बनाने में भी उपयोगी हैं। आज का हमारा यह लेख कढ़ी पत्ते के फायदों पर है। हम इस लेख के माध्यम से आपको बताएंगे कि आप कैसे कढ़ी पत्तों (Curry Leaves Benefits) के उपयोग से सेहत को फायदा पहुंचा सकते हैं। पढ़ते हैं आगे...

कढ़ी पत्ते से होने वाले लाभ (Benefits of curry leaves)

बता दें कि कढ़ी पत्ते का उपयोग अगर ठीक प्रकार से और सिर्फ मात्रा में किया जाए तो यह सेहत को कई तरीकों से फायदा पहुंचा सकता है। जानते हैं इन फायदों के बारे में...

1 - वजन को घटाने में उपयोगी है कढ़ी पत्ता (Curry leaves for weight loss)

अक्सर लोग अपना वजन घटाने के लिए ना जाने क्या-क्या करते हैं। वे महंगे-महंगे प्रोडक्ट्स का उपयोग करते हैं तो वहीं अपनी डाइट को कम करने के साथ-साथ एक्सरसाइज और योग को अपनी दिनचर्या में जोड़ते हैं। लेकिन वे लोग यह नहीं जानते कि मीठी नीम वजन कम करने में बेहद उपयोगी हैं। बता दें कि कढ़ी पत्ते के अंदर फाइबर मौजूद होता है जो शरीर में जमा अतिरिक्त वसा के साथ-साथ विषाक्त पदार्थों को भी बाहर निकालता है। ऐसे में अगर आप नियमित रूप से कढ़ी पत्ते का सेवन करते हैं तो यह न केवल वजन को घटाता है बल्कि कोलेस्ट्रॉल को भी कम करता है। आप कढ़ी पत्ते को चबाकर खाएं ऐसा करने से वजन कम करने में मदद मिलेगी।

2 - दिल की बीमारियों के लिए कढ़ी पत्ता (Curry leaves for heart disease)

कढ़ी पत्ते के अंदर ब्लड कोलेस्ट्रॉल को कम करने के गुण मौजूद होते हैं ऐसे में हम कह सकते हैं कि कढ़ी पत्ते के सेवन से दिल की बीमारियां दूर होती हैं। बता दें कि हार्ट अटैक का खतरा तब बढ़ता है जब शरीर के ऑक्सीडेंट कोलेस्ट्रॉल खराब कोलेस्ट्रोल को विकसित करने में सहायता प्रदान करते हैं। ऐसे में कढ़ी पत्ते के अंदर पाए जाने वाले एंटीऑक्सीडेंट गुण कोलेस्ट्रॉल का ऑक्सीकरण रोकने और खराब कोलेस्ट्रॉल की मात्रा को कम करने में बेहद उपयोगी है इसलिए दिल से जुड़ी परेशानी को दूर करने में कढ़ी पत्ता बेहद मददगार है।

इसे भी पढ़ें- हड्डियों की मजबूती के लिए सुबह खाली पेट करें दूध और किशमिश का सेवन, एक्सपर्ट से जानें इसके जबरदस्त फायदे

3 - लीवर के लिए अच्छा है कढ़ी पत्ता (Curry leaves for liver)

बता दें कि पारा तत्व जोकि मछली और अल्कोहल में पाया जाता है। यह लीवर पर ऑक्सीडेटिव स्ट्रेस को बढ़ाता है, जिससे लीवर की परेशानी बढ़ जाती है। ऐसे में कढ़ी पत्ते से इस प्रभाव को रोका जा सकता है। अगर आपको लीवर से संबंधित किसी भी प्रकार की परेशानी है तो आप घर के बने घी को गर्म करके उसमें एक कप कढ़ी पत्ते का जूस मिलाएं और पिसी हुई काली मिर्च और शुगर को मिलाने के बाद मिश्रण को ठंडा करें और रोजाना पीएं। ऐसा करने से लीवर की समस्याओं से छुटकारा पाया जा सकता है।

4 - एनीमिया से बचाएं मीठी नीम (Curry leaves for Anaemia)

खून की कमी के कारण होने वाला एनीमिया शरीर में आयरन को सूखने और सही तरह से इस्तेमाल करने की शक्ति को कम करने के कारण भी होता है। ऐसे में इस रोग से छुटकारा पाना बेहद जरूरी है। बता दें कि कढ़ी पत्ता इस समस्या को दूर करने में आपके काम आ सकता है। इसके अंदर पाए जाने वाला फोलिक एसिड और आयरन शरीर में खून की कमी को पूरा करता है। इसलिए यदि आप एनीमिया से परेशान हैं तो आप कढ़ी पत्ते और खजूर का सेवन खाली पेट चबाकर करें। ऐसा करने से न केवल आयरन की पूर्ति होती है बल्कि एनीमिया का खतरा भी दूर होता है।

इसे भी पढ़ें- गर्मियों में मौसमी बीमारियों से बचना है, तो पिएं फल-सब्जियों वाली हेल्दी स्मूदी

5 - मधुमेह के लिए कढ़ी पत्ता (Curry leaves for diabetes)

कढ़ी पत्ते के अंदर कई एंटी डायबिटिक एजेंट मौजूद होते हैं जो इंसुलिन की गतिविधियों को प्रभावित करते हैं और ब्लड से शुगर के स्तर को कम करते हैं। इसके अलावा कढ़ी पत्ते में पाए जाने वाला फाइबर शुगर से ग्रस्त रोगियों के लिए बेहद मददगार है। ऐसे में हम खाली पेट कढ़ी पत्ते का सेवन करें और डायबिटीज से छुटकारा पाएं।

6 - बालों के लिए अच्छा है कढ़ी पत्ता (Curry leaves for hair)

बालों के लिए कढ़ी पत्ता किसी वरदान से कम नहीं है। यह न केवल बालों की जड़ों को मजबूती देता है बल्कि उन्हें काला बनाने के साथ-साथ झड़ने से भी रोकता है। जो लोग रूसी से परेशान हैं उन्हें बता दें कि कढ़ी पत्ता आपकी इस परेशानी को भी दूर कर सकता है। कढ़ी पत्ते से हेयर टॉनिक बढ़ाया जा सकता है। इसके लिए आप कढ़ी पत्ते को उबालें और तब तक उबालते रहें जब तक उस पानी में पत्तियां घूल ना जाएं। अब इस टॉनिक को 15 से 20 मिनट तक सर पर लगाएं। हफ्ते में दो से तीन बार इससे बालों की मसाज करें। ऐसा करने से बालों की समस्या दूर होंगी। इसके अलावा आधा कप कढ़ी पत्ते तरीके से और अपने बालों पर लगाएं कुछ समय बाद इस मिश्रण को धो लें।

7 - त्वचा के लिए अच्छा है कढ़ी पत्ता (Curry leaves for skin)

चेहरे की चमक को बढ़ाने में मीठी नीम बेहद उपयोगी है। बता दें कि आप घर पर उसका फेस पैक बना सकते हैं। फेस पैक बनाने के लिए सबसे पहले मीठी नीम को सुखाएं और उसका पाउडर बनाएं उस पाउडर को नारियल तेल, गुलाब जल और मुल्तानी मिट्टी के साथ मिलाएं और चेहरे पर लगाएं। 20 मिनट बाद इस पेस्ट को ठंडे पानी से धो लें। ऐसा करने से न केवल पिंपल और मुंहासे की समस्या दूर होती है बल्कि रूखापन और फाइन लाइंस भी दूर हो जाते हैं।

इसे भी पढ़ें- खाना खाने के बाद सौंफ और मिश्री खाने से पाचन होता है दुरुस्त, जानिए इसके अन्य फायदे

नोट - ऊपर बताए गए लाभों से पता चलता है कि कढ़ी पत्ता सेहत के लिए कितना उपयोगी है। आपको बता दें कि जो लोग दस्त जैसी समस्या से परेशान हैं वे भी कढ़ी पत्ते का इस्तेमाल कर सकते हैं कढ़ी पत्ते के अंदर सूजन को कम करने के गुण और एंटीबैक्टीरियल गुण पाए जाते हैं जो पेट के लिए बेहद फायदेमंद है। साथ ही जो लोग पित्त की समस्या से परेशान रहते हैं वे इसके रस को छाछ के साथ लें। ऐसा करने से न केवल पित्त की समस्या दूर होगी बल्कि दस्तों में भी आराम मिलेगा। साथ ही हमने जाना कि है बालों और त्वचा के लिए भी बेहद कढ़ी पत्ता उपयोगी है। ऐसे में आप आज ही अपनी डाइट में कढ़ी पत्ते को शामिल करें लेकिन अगर आप किसी स्पेशल डाइट को फॉलो कर रहे हैं तो उसके सेवन करने से पहले एक बार एक्सपर्ट की सलाह जरूरी है। हो सकता है कि बिना एक्सपर्ट की सलाह के इसे अपनी डाइट में जोड़ने से कुछ नुकसान का सामना करना पड़े। वहीं गर्भवती महिलाएं भी इसके सेवन से पहले एक्सपर्ट से संपर्क करें। इसके अलावा यदि आपको किसी भी तरीके की गंभीर बीमारी है तब भी अपनी डाइट में बदलाव करने से पहले डॉक्टर की सलाह जरूर लें।

Read More Articles on Healthy Diet in hindi

Disclaimer