फास्‍ट फूड से ज्‍यादा नुकसान पहुंचाती है उसकी पैकेजिंग

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Feb 03, 2017

फास्ट फूड आधुनिक लाइफस्टाइल का एक हिस्सा बन चुका है। बच्चों से लेकर जवां और बड़ों तक लगभग सभी को फास्ट फूड से बहुत लगाव है। पार्टी हो या ट्रैवलिंग इनके बिना आज हमारा काम चलता ही नहीं है। फास्ट फूड से मोटापा बढ़ता है यह तो हम सभी जानते ही हैं, लेकिन क्या आप यह जानते है कि हमारे लिए फास्ट फूड से कहीं अधिक खतरनाक उसकी पैकेजिंग हो सकती है। जी हां हाल ही में हुए एक शोध से यह बात समाने आई है।
fast food in hindi
कभी-कभार आप स्वाद बदलने के लिए फास्‍ट फूड का सेवन करते हैं तो कोई परेशानी नहीं होती है लेकिन जो लोग इसे खाने की तरह खाते हैं उनके लिए ये फूड खतरे की घंटी है। हाल ही में हुए एक शोध की रिपोर्ट के अनुसार लोगों के लिए फास्ट फूड से कहीं अधिक उसकी पैकेजिंग खतरनाक हो सकती है। पैकेजिंग के लिए इस्तेमाल होने वाली शीट या बॉक्स में कई ऐसे केमिकल होते हैं, जो सेहत के लिए खतरनाक हो सकते हैं।

अध्‍ययन के लिए जर्नल एनवायर्नमेंटल साइंस एंड टेक्नोलॉजी लेटर्स में प्रदर्शित किया गया। जिसमें ने टीम फ्लोरीन के लिए नमूने का विश्लेषण करने के लिए नावेल तकनीक कण प्रेरित गामा रे उत्सर्जन (PIGE) स्पेक्ट्रोस्कोपी का उपयोग किया। जिसमें पेपर और कार्डबोर्ड बॉक्स में जहरीले केमिकल का प्रयोग किया और कि आमतौर पर फास्ट फूड के पैकेजिंग के लिए जिस पेपर और कार्डबोर्ड बॉक्स का इस्तेमाल किया जाता है, उसमें कई तरह के केमिकल लगे होते हैं।

कागज की कोटिंग पर ग्रीस का इस्तेमाल यहां तक कि फास्ट फूड की पैकेजिंग के लिए जो चमकीला कागज प्रयोग किया जाता है उसकी कोटिंग ग्रीस से होती है जो कि सेहत को सीधे नुकसान पहुंचाती है। इन केमिकलों के कारण लोग जानलेवा बीमारी जैसे कैंसर की चपेट में भी आ सकते हैं क्योंकि यह केमिकल शरीर की प्रतिरोधक क्षमता को काफी हद तक कम कर देते हैं।

Image Source : Getty

News Source : IANS

Read More Health News in Hindi

Loading...
Is it Helpful Article?YES1189 Views 0 Comment
संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK