QnA: साइनस, माइग्रेन, वजन घटाना और वजन बढ़ाने से जुड़े आपके सवाल-एक्‍सपर्ट के जवाब

Onlymyhealth के फेसबुक पेज पर पूछे गए आपके सवालों के जवाब दे रहे हैं हमारे एक्सपर्ट्स, जानें सेहत और स्वास्थ्य से जुड़ी जरूरी जानकारी। 

Atul Modi
Written by: Atul ModiPublished at: Feb 13, 2020Updated at: Feb 13, 2020
QnA: साइनस, माइग्रेन, वजन घटाना और वजन बढ़ाने से जुड़े आपके सवाल-एक्‍सपर्ट के जवाब

दोस्‍तों! हमारे Onlymyhealth के फेसबुक पेज को लाखों लोग फॉलो करते हैं। जहां उन्‍हें स्‍वास्‍थ्‍य से जुड़े लेख पढ़ने को मिलते हैं। इस पेज से जुड़े तमाम पाठक अपनी समस्‍याओं के समाधान के लिए हमसे सवाल करते हैं। इस बार भी पाठकों ने वजन कम करने, वजन बढ़ाने, साइनस, माइग्रेन और त्‍वचा संबंधी समस्‍याओं के सवाल इनबॉक्‍स में भेजकर जवाब मांगे हैं। जिनके जवाब हम विस्‍तार से इस लेख में दे रहे हैं। आपको बता दें कि, पाठकों के सवालों के जवाब हम दिल्‍ली के अलावा अन्‍य बड़े शहरों में प्रैक्टिस कर रहे एक्‍सपर्ट से बातचीत कर देते हैं। 

इस बार के फेसबुक सवाल-जवाब के बारे में यहां विस्‍तार से पढ़ें: 

सवाल: वजन बढ़ाने के उपाय

गुन्‍नू कुमार पूछते हैं कि, वजन बढ़ाने का तरीका क्‍या है?

रूपेश कुमार पूछते हैं कि, वजन बढ़ाने के क्‍या करना चाहिए, कृपया बताएं? 

एक्सपर्ट का जवाब: वजन बढ़ाने की डाइट के सवाल का जवाब देते हुए कोलंबिया एशिया रेफरल हॉस्पिटल की चीफ डाइटीशियन Ms. Pavithra N Raj कहती हैं कि, "सुबह उठने के बाद सबसे पहले 1 ग्लास गुनगुना पानी जरूर पीना चाहिए, इसके बाद भिगे हुए 6 बादाम को छीलकर खाएं। सुबह के नाश्‍ते में आप इडली, व्हीट डोसा, रोटी, सब्जी, ब्राउन ब्रेड, उपमा, दलिया, ओट्स, सेवईयां आदि खा सकते हैं। लंच से पहले भूख लगने पर आप फलों से बना मिल्क शेक, सलाद, अखरोट, अलसी के बीज, चिया सीड्स ले सकते हैं।

दोपहर के भोजन में आप 3 रोटी और सब्जी या 1 कप दलिया और ब्राउन राइस का सेवन कर सकते हैं। शाम को भूख लगने पर स्‍नैक्‍स के तौर फुल फैट मिल्क की चाय और 2 प्रोटीन बिस्किट खा लें। इसके अतिरिक्‍त स्प्राउट्स, उबले कॉर्न, वेज सूप, कटलेट, होममेड पिज्जा आदि भी ले सकते हैं। रात के भोजन में मल्टीग्रेन रोटी या डोसा या दाल, सब्जियां और सलाद ले सकते हैं। इन सब के अलावा बेड पर जाने से पहले 1 ग्लास गुनगुना दूध जरूर पिएं।

सवाल: वजन कम करने के उपाय

प्रशांत पूछते हैं, मैं अपना वजन कम करना चाहता हूं?  

काजल कुमारी: वजन कम करने के उपाय? 

एक्‍सपर्ट का जवाब: डॉक्‍टर अजय सक्‍सेना (बीएएमएस, एमडी-आयुर्वेद मेडिसिन) कहते हैं, "आयुर्वेद में जो सर्वप्रथम उपचार बताया गया है वह फास्टिंग है। हालांकि, लोगों में यह भ्रम है कि फास्टिंग से शरीर की उर्जा कम हो जाती है, जबकि ऐसा बिल्‍कुल भी नहीं है। अगर आप फास्टिंग को सही तरीके से करते हैं तो कमजोरी नहीं आती है। फास्टिंग करने का ये तरीका है कि, यदि हम अपने 3 मील (भोजन) में से एक मील को छोड़ सकते हैं, या हम सिर्फ खिचड़ी का प्रयोग कर सकते हैं। या फलों के रस को पीकर रह सकते हैं।" 

सवाल: साइनस का इलाज 

आनंद रंजन पूछते हैं, मैं साइनस में ग्रसित हूं, नाक बहने के लक्षण हैं, ऐसे में क्‍या करना चाहिए? 

बब्‍लू पाल पूछते हैं, साइनस का इलाज क्‍या है?

एक्सपर्ट का जवाब: डॉक्‍टर राजेश गुप्‍ता बताते हैं कि "साइनस का संक्रमण अक्‍सर अपने आप ठीक हो जाता है। इसलिए यदि साइनस के लक्षण 7 दिन से ज्यादा समय तक परेशान करें, तो आपको अपने एक्‍सपर्ट डॉक्टर से मिलना चाहिए। यदि आपको फीवर या चेहरे के किसी हिस्‍से में दर्द जैसे लक्षण महसूस होते हैं, तो डॉक्टर आपको दवाईयां लिख सकते हैं। इसके अलावा सबसे जरूरी है कि, साइनस इंफेक्शन के दौरान बलगम को साफ करने के लिए आपको अधिक मात्रा में तरल पदार्थ का सेवन करते रहना चाहिए और पानी भी पर्याप्‍त मात्रा में पीना चाहिए।" 

सवाल: माइग्रेन का इलाज

संदीप झाबरा पूछते हैं, माइग्रेन का इलाज क्‍या है? 

एक्सपर्ट का जवाब: अपोलो हॉस्पिटल के सीनियर कंसल्‍टेंट, डॉक्‍टर मुकुल वर्मा कहते हैं, "माइग्रेन का अटैक होने पर उसकी तीव्रता कम होती है। अगर आप शुरू में ही शांत वतावरण में पहुंच जाएं और कमरे को अंधेरा कर दें, कमरे की रोशनी तेज न हो, थोड़ी देर लेट जाएं तो ऐसे में सिरदर्द कम हो जाता है, इससे आपको पेनकिलर लेने की जरूरत नहीं पड़ती है। कभी-कभी एक कप हॉट कॉफी से भी आराम मिल जाता है या हॉट शॉवर लेने से भी सिरदर्द कम हो जाता है।"

सवाल: आंखों के नीचे दाने निकले का कारण

सपना चौधरी पूछती हैं, आंखों के नीचे जो दाने हो जाते हैं वह किस कारण होते हैं?

एक्सपर्ट का जवाब: आमतौर पर आंखों आसपास होने वाले दानें, कई अलग-अलग समस्‍याओं के संकेत हो सकते हैं। इस बारे में जब हमने डॉक्‍टर्स की राय ली तो उन्‍होंने लक्षण स्‍पष्‍ट न होने की बात कहकर, कुछ भी कहने से मना कर दिया। हालांकि, डॉक्टर्स के अनुसार इस प्रकार की समस्‍या शरीर में कोलेस्‍ट्रॉल बढ़ने के कारण हो सकती है। यह आमतौर पर 40 और 60 साल की उम्र के बीच के लोगों को होता है। इसमें किसी प्रकार का दर्द या जलन नहीं होता है, मगर इससे चेहरे की खूबसूरती जरूर प्रभावित हो सकती है। ऐसे में आप किसी विशेषज्ञ की सलाह लेकर इसका उपचार कर सकती हैं।

इसे भी पढ़ें: आंखों के पास हो गए हैं 'मिलिया', तो इन घरेलू उपायों से पाएं छुटकारा

Read More Articles On Other Diseases In Hindi

Disclaimer