Expert

वज्रासन के अभ्यास से इन 5 बीमारियों में मिलता है बड़ा लाभ, जानें करने का तरीका और सावधानियां

वज्रासन का नियमित अभ्यास करने से पेट और दिल की बीमारियों के अलावा कई अन्य समस्याओं में फायदा मिलता है, जानें तरीका।

Prins Bahadur Singh
Written by: Prins Bahadur SinghPublished at: Jun 08, 2022Updated at: Jun 08, 2022
वज्रासन के अभ्यास से इन 5 बीमारियों में मिलता है बड़ा लाभ, जानें करने का तरीका और सावधानियां

शरीर को फिट और निरोगी रखने के लिए नियमित रूप से योगाभ्यास बहुत फायदेमंद है। योग के अभ्यास से आपका शरीर फिट और चुस्त-दुरुस्त तो रहता ही है साथ ही कई गंभीर बीमारियों का खतरा भी कम होता है। योग के फायदों को देखते हुए इसका अभ्यास दुनियाभर में किया जा रहा है। योग विज्ञान का बेहतरीन योगासन जिसे वज्रासन के नाम से जाना जाता है, पाचन तंत्र और पेट से जुड़ी गंभीर समस्याओं के लिए बहुत फायदेमंद है। वज्रासन का नियमित अभ्यास करने से आपके शरीर की मांसपेशियां मजबूत होती हैं और पैरों को फायदा मिलता है। लेकिन इसके साथ ही वज्रासन कई गंभीर बीमारियों के खतरे को कम करने के लिए बहुत उपयोगी माना जाता है। जून महीने की 21 तारीख को दुनियाभर में योग के प्रति जागरूकता फैलाने के लिए अंतर्राष्‍ट्रीय योग दिवस (International Yoga Day)  मनाया जाता है। इस अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस के मौके पर Onlymyhealth आपके लिए एक विशेष सीरीज लेकर आया है जिसमें हम आपको सुप्रसिद्ध योग गुरु ग्रैंड मास्टर अक्षर से रोजाना 1 योगासन के बारे में विस्तार से बताएंगे। आज इस सीरीज के अंतर्गत हम आपको वज्रासन के फायदे के बारे में बताने जा रहे हैं। आइए विस्तार से जानते हैं वज्रासन का रोजाना अभ्यास करने से मिलने वाले फायदे और इसके अभ्यास से जुड़ी जरूरी बातों के बारे में।

वज्रासन का अभ्यास करने के फायदे (Vajrasana Health Benefits In Hindi)

वज्रासन का अभ्यास बैठकर किया जाता है और इसे मध्यम श्रेणी का योगासन माना जाता है। अंग्रेजी में वज्रासन को डायमंड पोज के नाम से भी जाना जाता है। वज्रासन का अभ्यास प्राणायाम और ध्यान आदि में किया जाता है। इसका अभ्यास पेट से जुड़ी कई गंभीर समस्याओं को दूर करने के लिए बहुत उपयोगी होता है। पाचन तंत्र से जुड़ी समस्याओं के अलावा हार्ट से जुड़ी परेशानियों में भी वज्रासन का अभ्यास बहुत उपयोगी होता है। 

इसे भी पढ़ें : ताड़ासन करने से दूर होता है इन 6 बीमारियों का खतरा, जानें इसे करने के फायदे और सावधानियां

Vajrasana Health Benefits In Hindi

1. पेट की बीमारियों में फायदेमंद वज्रासन

पेट से जुड़ी कई गंभीर समस्याओं में वज्रासन का अभ्यास बहुत फायदेमंद होता है। वज्रासन का नियमित अभ्यास कर आप पेट की कई गंभीर समस्याओं को दूर कर सकते हैं। वज्रासन का रोजाना अभ्यास करने से पेट में गैस बनने की समस्या, एसिडिटी, कब्ज और अपच की समस्या में बहुत फायदा मिलता है। पेट से जुड़ी बीमारियों में आप डॉक्टर की सलाह लेकर वज्रासन का नियमित अभ्यास कर सकते हैं।

2. ब्लड सर्कुलेशन ठीक करने में फायदेमंद

शरीर में ब्लड का सर्कुलेशन खराब होने पर कई गंभीर बीमारियां हो सकती हैं। हार्ट से जुड़ी कुछ गंभीर बीमारियों का खतरा ब्लड सर्कुलेशन खराब होने से बढ़ जाता है। वज्रासन का रोजाना अभ्यास करने से शरीर का ब्लड सर्कुलेशन ठीक होता है और दिल से जुड़ी कई गंभीर बीमारियों में फायदा मिलता है।

3. डायबिटीज में फायदेमंद वज्रासन

डायबिटीज की बीमारी में वज्रासन का अभ्यास बहुत फायदेमंद माना जाता है। कई शोध और अध्ययन भी इस बात की पुष्टि करते हैं कि डायबिटीज में ब्लड शुगर को कंट्रोल में रखने के लिए वज्रासन का अभ्यास बहुत फायदेमंद होता है। इसका अभ्यास करने से शरीर में इंसुलिन का स्तर भी संतुलित रहता है।

इसे भी पढ़ें : त्रिकोणासान के अभ्यास से शरीर को होते हैं ये 10 फायदे, जानें करने का तरीका और सावधानियां

4.  साइटिका में फायदेमंद वज्रासन

वज्रासन का अभ्यास साइटिका की समस्या में भी बहुत फायदेमंद होता है। रोजाना वज्रासन का अभ्यास करने से साइटिका के दर्द में राहत मिलती है और पैरों से जुड़ी अन्य परेशानियां भी दूर होती हैं। वज्रासन का अभ्यास करने से घुटने का दर्द कम करने में भी फायदा मिलता है। साइटिका और गठिया की समस्या में वज्रासन का अभ्यास करने से पहले डॉक्टर की सलाह जरूर लें।

5. पाइल्स में फायदेमंद वज्रासन का अभ्यास

वक्रासन का नियमित अभ्यास करने से पाइल्स की समस्या में बहुत फायदा मिलता है। इसका नियमित अभ्यास करने से बादी और खूनी दोनों तरह की बवासीर में बहुत फायदा मिलता है। बवासीर की समस्या में वज्रासन का अभ्यास करने से पहले अपने डॉक्टर या एक्सपर्ट की सलाह जरूर लेनी चाहिए।

वज्रासन का अभ्यास करने का तरीका (How To Do Vajrasana in Hindi)

वज्रासन का अभ्यास करने के लिए आप ग्रैंड मास्टर अक्षर द्वारा बताए गए ये स्टेप्स फॉलो करें।

  • सबसे पहले योगा मैट या चटाई पर बैठें।
  • इसके बाद श्रोणि को अपनी एड़ी पर रखें और अपने पैर की उंगलियों को बाहर की ओर करें।
  • अपनी एड़ियों को एक दूसरे से थोड़ा अलग रखें।
  • अपनी हथेलियों को अपने घुटनों पर ऊपर की ओर रखें।
  • अपनी पीठ को सीधा करें और आगे देखें।

Vajrasana Steps in Hindi

वज्रासन का अभ्यास करते समय सावधानियां (Precautions to Take While Doing Vajrasana)

वैसे तो वज्रासन का अभ्यास पूरी तरह से सुरक्षित माना जाता है लेकिन कई लोगों के लिए इसका अभ्यास नुकसानदायक भी हो सकता है। अगर वज्रासन का अभ्यास करते समय घुटने या पैरों में ज्यादा तनाव या दर्द महसूस हो तो इसका अभ्यास नहीं करना चाहिए। इसके अलावा हड्डी खिसकने या पैरों से जुड़ी किसी भी तरह की इंजरी होने पर वज्रासन का अभ्यास न करने की सलाह दी जाती है। हाइपोटेंशन या लो ब्लड प्रेशर की समस्या में भी वज्रासन का अभ्यास नहीं करना चाहिए। इसके अलावा अगर आप किसी तरह की बीमारी या समस्या से पीड़ित हैं तो वज्रासन का अभ्यास करने से पहले अपने डॉक्टर की सलाह जरूर लें।

(All Image Source - Freepik.com)

Disclaimer