बुखार, सूजन, अल्सर जैसी इन 5 समस्याओं को दूर करती है 'धमासा' औषधी, जानें इसके अन्य लाभ

धमासा एक औषधी है ज‍िसके पत्‍ते, फूल, जड़ का इस्‍तेमाल खांसी, बुखार, अल्‍सर जैसी समस्‍याओं को दूर करने के ल‍िए क‍िया जाता है 

Yashaswi Mathur
Written by: Yashaswi MathurPublished at: Jul 28, 2021Updated at: Jul 28, 2021
बुखार, सूजन, अल्सर जैसी इन 5 समस्याओं को दूर करती है 'धमासा' औषधी, जानें इसके अन्य लाभ

धमासा एक औषधीय पौधा है, इसके पत्‍ते, जड़ और फूलों को बीमार‍ियों और संक्रमण को दूर करने के ल‍िए इस्‍तेमाल क‍िया जाता है। आयुर्वेद में धमासा का इस्‍तेमाल कई रोगों को ठीक करने के ल‍िए क‍िया जाता है। धमासा को आप चूरण, रस, काढ़ा या पाउडर के फॉर्म में ले सकते हैं। धमासा का साइंट‍िफ‍िक नाम फैगोनिआ क्रेटिका (fagonia cretica) है। धमासा का इस्‍तेमाल खांसी, सर्दी, बुखार, सूजन, अल्‍सर की समस्‍या आद‍ि को दूर करने के ल‍िए किया जाता है। इस लेख में हम धमासा के फायदे, शारीर‍िक समस्‍याओं में इस औषधी के इस्‍तेमाल पर चर्चा करेंगे। इस व‍िषय पर ज्‍यादा जानकारी के ल‍िए हमने लखनऊ के व‍िकास नगर में स्‍थित प्रांजल आयुर्वेद‍िक क्‍लीन‍िक के डॉ मनीष स‍िंह से बात की। 

dhamasa

1. बुखार को ठीक करने में मदद करती है धमासा औषधी (Dhamasa cures fever)

इन द‍िनों मौसम बदल रहा है ऐसे में बुखार एक आम समस्‍या है। आज के समय में आम बुखार होने पर भी लोगों को कोव‍िड का डर सताता है अगर आपको कोव‍िड के लक्षण हैं तो चेकअप करवाएं अन्‍यथा बुखार का इलाज घर पर भी कर सकते हैं। बुखार की समस्‍या दूर करने के ल‍िए आप धमासा के पत्‍तों का इस्‍तेमाल करें। धमासा के पत्‍तों को पीस लें और उसका काढ़ा बनाकर प‍िएं। बुखार में काढ़ा फायदेमंद होता है। इस काढ़े में आप सोंठ, ग‍िलोय, तुलसी और शहद म‍िलाएं और सुबह-शाम इसका सेवन करें।

इसे भी पढ़ें- 'मैदा लकड़ी' के इस्तेमाल से पाएं सूजन, दर्द, चोट जैसी इन 5 समस्याओं में तुरंत आराम, जानें प्रयोग का तरीका

2. शरीर में सूजन है तो इस्‍तेमाल करें धमासा (Dhamasa herb helps to cure swelling)

dhamasa leaves

शरीर में सूजन आने के कारण बहुत से हो सकते हैं। इसके ल‍िए आप धमासा के पत्‍तों को दूध में पकाकर, उसका लेप सूजन वाली जगह लगा लें। इससे आपको सूजन से न‍िजात म‍िलेगा। सूजन कम करने के उपाय में धमासा का इस्‍तेमाल क‍िया जाता है। इसके साथ ही अगर गले में गांठ या क‍िसी अंग में घाव है तो वो भी जल्‍दी भर जाता है। 

3. पेट में अल्‍सर की समस्‍या दूर करती है धमासा औषधी (Dhamasa cures ulcer)

पेट में अल्‍सर की समस्‍या को दूर करने के ल‍िए आप धमासा का इस्‍तेमाल कर सकते हैं। पेट में अल्‍सर होने पर जो दर्द और घाव बन जाता है उसे भी धमासा के इस्‍तेमाल से ठीक क‍िया जा सकता है। ज‍िन लोगों को लंग्‍स की बीमारी हो उन्‍हें धमासा का काढ़ा बनाकर पीना चाह‍िए इससे उन्‍हें फायेदा म‍िलेगा। धमासा की मदद से गले में दर्द और मुंह से बदबू आने की समस्‍या भी दूर होती है आप धमासा की पत्‍त‍ियों को पानी में उबालकर उस पानी से कुल्‍ला और गरारे करें तो गले की खराश और मुंह की बदबू दूर होगी। 

4. त्‍वचा में खुजली दूर करे धमासा (Dhamasa helps to get rid of itching)

dhamasa powder

आपकी स्‍क‍िन में क‍िसी कारण इंफेक्‍शन है और  खुजली हो रही है तो आप धमासा की छाल को पीसकर उसका पाउडर त्‍वचा पर लगा लें। पाउडर का लेप बनाने के लिए आप पाउडर में एलोवेरा का जेल और हल्‍दी म‍िलाएं। इस लेप को लगाने से खुजली की समस्‍या दूर हो जाएगी।

इसे भी पढ़ें- चिलबिल की छाल और पत्ते के फायदे: जोड़ों में दर्द और डायबिटीज जैसी 5 समस्याओं में करें चिलबिल का प्रयोग

5. सर्दी या गले में खराश को ठीक करने में भी फायदेमंद है धमासा (Dhamasa cures cold or sore throat) 

अगर आपको सर्दी हो गई है या गले में खराश है तो भी आप धमासा का इस्‍तेमाल कर सकते हैं। धमासा का चूरण लेने से गले की खराश दूर होती है। कुछ लोगों को सर्दी-जुखाम के साथ स‍िर के दर्द की श‍िकायत भी होती है, ऐसे में आप धमासा के पत्‍तों को पीस लें और माथे पर लगा लें तो स‍िर के दर्द की समस्‍या भी दूर होगी।

अगर आप गर्भवती हैं या श‍िशु को स्‍तनपान करवाती हैं तो धमासा का इस्‍तेमाल न करें। बच्‍चों के ल‍िए भी इस औषधी का इस्‍तेमाल नहीं क‍िया जाता है।

Read more on Ayurveda in Hindi 

Disclaimer