कोरोना के हल्के लक्षणों के बाद टेस्ट में निकला टाइफाइड? डॉक्टर से जानें ऐसा हो तो क्या करना चाहिए

अगर आपको कोरोना के माइल्‍ड लक्षण है पर आपकी टाइफाइड र‍िपोर्ट आपको टाइफाइड पॉज‍िट‍िव बता रही है तो क्‍या करें, जानें इस लेख में

Yashaswi Mathur
Written by: Yashaswi MathurPublished at: May 06, 2021Updated at: May 06, 2021
कोरोना के हल्के लक्षणों के बाद टेस्ट में निकला टाइफाइड? डॉक्टर से जानें ऐसा हो तो क्या करना चाहिए

अगर आपको कोरोना के माइल्‍ड लक्षण हैं और टाइफाइड न होने पर भी टेस्‍ट पॉज‍िट‍िव आए तो क्‍या करें? इन द‍िनों कोरोना के नए स्‍ट्रेन में कई नई बातों का पता चला है। कोरोना के लक्षणों को पहचानना अब और भी मुश्‍क‍िल होता जा रहा है क्‍योंक‍ि इसके लक्षण अन्‍य बीमार‍ियों जैसे ही हैं। कुछ लोगों को कोरोना के माइल्‍ड लक्षण होते हैं और टाइफाइड न होने के बावजूद भी टाइफाइड टेस्‍ट पॉज‍िट‍िव आता है। अगर आपके साथ भी ऐसा हो तो सबसे पहले आप अपना कोरोना टेस्‍ट करवाएं। र‍िपोर्ट के आधार पर अगर आप कोव‍िड पॉज‍िट‍िव न‍िकलते हैं तो पहले कोरोना का इलाज शुरू करें। उसके बाद आप अन्‍य बीमार‍ियों के ल‍िए टेस्‍ट करवा सकते हैं। आपको इस समय संक्रमण से बचने के ल‍िए कुछ चीजों पर ध्‍यान देना है जैसे हमेशा साफ पानी प‍िएं, मास्‍क लगाएं, लक्षण नजर आने पर खुद को आइसोलेट रखें, मौसमी फलों का सेवन करें। आपको टाइफाइड के ल‍िए क‍िए जाने वाले व‍िडॉल टेस्‍ट पर न‍िर्भर नहीं रहना है। ये टेस्‍ट आपके लक्षण के आधार पर आपको फाल्‍स र‍िपोर्ट दे सकता है। कोश‍िश करें क‍ि व‍िडॉल टेस्‍ट से पहले ही आरटी-पीसीआर टेस्‍ट हो जाए ताकि आपको कोरोना होने या न होने का पता चल सके। इस व‍िषय पर ज्‍यादा जानकारी के ल‍िए हमने लखनऊ के केयर इंस्‍टिट्यूट ऑफ लाइफ साइंसेज की एमडी फ‍िजिश‍ियन डॉ सीमा यादव से बात की।

corona symptoms

टाइफाइड और कोव‍िड के लक्षण में क्‍या फर्क है? (Difference between Symptoms of Typhoid and Covid)

कोरोना के नए स्‍ट्रेन में टाइफाइड के मामले भी सामने आ रहे हैं, ऐसे में लोग टाइफाइड और कोरोना में अंतर नहीं कर पा रहे हैं क्‍योंक‍ि दोनों के लक्षण लगभग एक जैसे ही हैं। टाइफाइड बैक्‍टीर‍िया से जन‍ित बीमारी है जो साल्मोनेला टाइफी नाम के बैक्‍टीर‍िया से फैलता है जबक‍ि कोरोना एक संक्रमित वायरल बीमारी है। कोरोना होने पर बुखार आना, उल्‍टी होना, बदन में दर्द, कमजोरी होना, सूखी खांसी, नाक बहना, दस्‍त आद‍ि लक्षण नजर आते हैं वहीं बात करें टाइफाइड की तो टाइफाइड में बुखार 104 तक भी जा सकता है, इसके अलावा ठंड के साथ बुखार आ सकता है। वहीं टाइफाइड में भूख कम लगती है, सुस्‍ती होती है, डाइजेशन खराब होता है, दस्‍त के साथ कमजोरी होती हैं, शरीर में दर्द और स‍िर में दर्द भी हो सकता है। ज‍िन मरीजों को टाइफाइड होता है वो पेट में तेज दर्द की श‍िकायत करते हैं। गंदगी के चलते टाइफाइड फैलता है। ये गंदे पानी के जर‍िए बॉडी में चला जाता है। टाइफाइड का बैक्‍टीर‍िया हफ्ते भर ज‍िंदा रहता है और इस बीच ये क‍िसी को भी संक्रम‍ित कर सकता है। 

कोरोना के लक्षण होने पर टेस्ट में टाइफाइड न‍िकले तो क्‍या करना चाह‍िए? (False positive Typhoid test with COVID Symptoms)

corona and typhoid

अगर आपकी बॉडी में कोव‍िड के माइल्‍ड लक्षण हैं और टाइफाइड र‍िपोर्ट पॉज‍िट‍िव आई है तो आप आरटी-पीसीआर जरूर करवाएं क्‍योंक‍ि टाइफाइड और कोव‍िड के लक्षण एक ही जैसे हैं। कुछ लोग टाइफाइड के ल‍िए क‍िए जाने वाले व‍िडॉल टेस्‍ट पर न‍िर्भर हो जाते हैं पर आप ऐसी गलती न करें। कई बार व‍िडॉल टेस्‍ट की क‍िट में गड़बड़ी होती है ज‍िसकी वजह से फॉल्‍स टेस्‍ट आता है और टाइफाइड न होने के बाद भी टेस्‍ट पॉज‍िट‍िव बताता है। आपको लक्षणों के पहले हफ्ते में ब्‍लड कल्‍चर टेस्‍ट करवाना चाह‍िए। इससे पता चल जाएगा क‍ि टाइफाइड है या नहीं। टाइफाइड का इलाज शुरू क‍िया जा सकता है पर आपको इस बात की पुष्‍ट‍ि कर लेनी चाह‍िए क‍ि आपको कोव‍िड तो नहीं है। अगर टेस्‍ट में कोव‍िड नहीं न‍िकलता है तो तुरंत टाइफाइड टेस्‍ट करवा लें। 

इसे भी पढ़ें- कोविड पॉजिटिव मरीजों के लिए क्यों जरूरी है D-Dimer टेस्ट? जानें डी-डाइमर टेस्ट के बारे में सबकुछ

टाइफाइड और कोरोना में क्‍या संबंध है? (Connection between Typhoid and Corona)

कोरोना के नए स्‍ट्रेन में ये भी देखा गया कि टाइफाइड होने के साथ कोरोना का टेस्‍ट पॉज‍िट‍िव आया ज‍िसके चलते मरीज के बॉडी में ब्‍लड तक टाइफाइड के बैक्‍टीर‍िया पहुंच गए ज‍िस कारण डायबिटीज और हाई ब्‍लड प्रेशर की समस्‍या बढ़ गई। कोव‍िड के कारण बॉडी की इम्‍यून‍िटी कमजोर हो जाती है और फ‍िर बॉडी में टाइफाइड जैसी बीमार‍ियां होने लगती है। टाइफाइड और कोरोना दोनों में ही तेज बुखार आता है इसल‍िए कभी-कभी डॉक्‍टर भी कंफ्यूज हो जाते हैं क‍ि मरीज को कोव‍िड है या टाइफाइड। आपको अगर क‍िसी भी तरह के लक्षण नजर आते हैं तो आपको इस बात का ध्‍यान रखना है क‍ि आपको टाइफाइड से पहले कोरोना का टेस्‍ट करवाना है। जब तक आपका र‍िजल्‍ट पेन्‍ड‍िंग रहता है तब आप खुद को आइसोलेट कर लें। कई बार ऐसा भी होता है क‍ि टाइफाइड का फाल्‍स टेस्‍ट बताता है क‍ि आपको टाइफाइड है जबक‍ि आपको कोरोना होता है। ऐसी गलती न करें। इससे संक्रमण आपके आसपास के लोगों में फैलेगा। टाइफाइड के ल‍िए एंटीबायोट‍िक्‍स दी जाती हैं उसका बुखार 15 द‍िन से ज्‍यादा रहता है जबक‍ि माइल्‍ड कोरोना का बुखार 7 से 8 द‍िनों में चला जाता है। ऐसे में आप घबराएं नहीं, डॉक्‍टर से सलाह लें और ज्‍यादा से ज्‍यादा फ्लूड प‍िएं।

इसे भी पढ़ें- कोरोना से ठीक होने के बाद भी नहीं जा रही कमजोरी और थकान? एक्‍सपर्ट से जानें कमजोरी दूर करने के तरीके

कोरोना काल में टाइफाइड होने पर क‍िन बातों का ध्‍यान रखें? (Prevention tips for Typhoid in corona pandemic)

typhoid symptoms

  • 1. अगर आपको टाइफाइड हुआ है तो आपको साफ-सफाई का बहुत ध्‍यान रखना होगा। 
  • 2. समय-समय पर गरम पानी से हाथ धोएं। 
  • 3. आप कच्‍चा खाना न खाएं, खाने को अच्‍छी तरह पकाकर ही खाएं। 
  • 4. इसके अलावा आपको गुनगुना पानी पीना है। 
  • 5. अगर आप फलों का सेवन कर रहे हैं तो छ‍िलके को हटाकर खाएं।
  • 6. घर के काम न करें, इससे इंफेक्‍शन दूसरों तक फैल सकता है। 
  • 7. भूलकर भी तंबाकू, धूम्रपान, एल्‍कोहॉल का सेवन न करें। 
  • 8. खाने को क‍िसी के साथ शेयर न करें, ऐसा करने से एक से दूसरे में संक्रमण फैल सकता है। 
  • 9. ऑयली फूड और नॉनवेज से कुछ समय दूर रहें, नहीं तो इम्‍यून‍िटी बनने में समय लगेगा। 

कोरोना महामारी में अगर आपको कोई बीमारी का डर है तो आप सबसे पहले ये सुन‍िश्‍च‍ित करें क‍ि आपको कोव‍िड तो नहीं है, उसके बाद आप क‍िसी और बीमारी का इलाज शुरू करें। 

Read more on Miscellaneous in Hindi 

Disclaimer