Viral Fever: वायरल बुखार के पीछे होते हैं ये 5 कारण, जानें लक्षण, बचाव और घरेलू उपचार

वायरल फीवर (Viral Fever) हो जाने पर कुछ लक्षण नजर आते हैं, जिनको समझना जरूरी है। साथ ही जानें कारणों और बचाव के बारे में...

Garima Garg
Written by: Garima GargPublished at: Apr 22, 2021Updated at: May 11, 2021
Viral Fever: वायरल बुखार के पीछे होते हैं ये 5 कारण, जानें लक्षण, बचाव और घरेलू उपचार

शरीर के कमजोर हो जाने पर, मौसम के बदलने पर या आहार के असंतुलन के कारण शरीर वायरल बुखार Viral Fever का शिकार हो जाता है, जिसके कारण हमारे शरीर की इम्यूनिटी कमजोर हो जाती है। वायरल बुखार का मतलब होता है एक ऐसा वायरल जो एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति तक चला जाता है। यह बुखार संक्रमण के कारण फैलता है। आज का हमारा लेख इसी विषय पर है। आज हम आपको अपने इस लेख के माध्यम से बताएंगे कि वायरल बुखार के पीछे क्या कारण (Viral Fever causes) होते हैं? साथ ही जानते हैं उसके लक्षण (Viral Fever Symptoms) और उपचार (Viral Fever treatment) क्या हैं। पढ़ते हैं आगे...

वायरल बुखार के लक्षण (symptoms of viral fever)

अगर वायरल बुखार के दौरान लापरवाही बरती जाए तो व्यक्ति गंभीर समस्याओं का शिकार हो सकता है। ऐसे में इसके लक्षणों को समझना जरूरी है। अगर बच्चों में यह बुखार होता है तो वह डायरिया, खांसी, जुखाम, उल्टी आदि लक्षणों से ग्रस्त हो जाते हैं। वही कुछ लक्षण इस प्रकार हैं- 

1 - सिर दर्द की समस्या होना इसी के लक्षणों में से एक हैं।

2 - आंखों में लालिमा हो जाना भी एक लक्षण है।

3 - आंखों में जलन रहना भी लक्षण है।

4 - गले में दर्द होना भी वायरल बुखार लक्षण है।

5 - सर्दी लगना भी लक्षण है।

6 - शरीर में दर्द महसूस होना भी इसी के लक्षणों में से एक है।

7 - शरीर का गर्म होना यानी तापमान बढ़ने लगना इसी का हिस्सा है।

8 - जोड़ों में दर्द महसूस भी इसी के लक्षणों में से एक हैं।

नोट - बता दें कि यह बुखार आसानी से ठीक नहीं होता आमतौर पर 4 से 5 दिन तक यह बुखार शरीर में रहता है और इसका असर 12 से 15 दिनों तक शरीर में रह सकता है।

इसे भी पढ़ें- Nail Fungus: 'नाखून में फंगल इंफेक्शन' के पीछे हो सकते हैं ये 6 कारण, जानें लक्षण और उपचार

वायरल बुखार होने के कारण (causes of viral fever)

वायरल फीवर के पीछ निम्न कारण हो सकते हैं-

1 - इम्यूनिटी सिस्टम का कमजोर हो जाना इसी का कारण हो सकता है।

2 - संतुलित आहार ग्रहण करना भी इसी का कारण है।

3 - किसी ऐसे इंसान के साथ रहना जिसे वायरल बुखार हुआ हो। 

4 - दूषित जल का सेवन करना इसी के कारण हैं।

5 - सूक्ष्म कर्ण जो कि दूषित वायुओं में मौजूद रहते हैं उनका शरीर में प्रवेश कर जाना इसी के कारण हैं।

 इसे भी पढ़ें- Back Pain Causes: कमर दर्द के पीछे होते हैं ये 12 कारण, जानें लक्षण और बचाव

कैसे बचाव करें वायरल फीवर से (viral fever prevention)

वायरल फीवर से बचने के लिए आपको अपनी जीवनशैली में थोड़ा सा बदलाव लाने की जरूरत है ये बदलाव निम्न प्रकार हैं-

1 - दूषित पानी का सेवन करने से बचे।

2 -  संतुलित भोजन की सेवन करें।

3 - गुनगुने पानी का सेवन करते रहें।

4 - इम्यूनिटी सिस्टम को मजबूत बनाएं इसके लिए अपने आहार में लॉन्ग, गर्म पानी, अजवाइन आदि को जोड़ें। आप इसके लिए एक्सपर्ट की मदद भी ले सकते हैं।

5 - वायरल बुखार से शिकार लोगों से दूर रहें, ऐसे लोगों के संपर्क में आने से बचें।

6 - बदलते मौसम में खुद को संभालें।

इसे भी पढ़ें-  Gout Causes: 'गाउट' होने पर नजर आते हैं ये 10 कारण? जानें इसके लक्षण और उपचार

वायरल बुखार से छुटकारा पाने के घरेलू उपचार (viral fever Home Remedies)

आप अपनी डाइट में कुछ चीजों को जोड़कर इस समस्या से लड़ सकते हैं। जानते हैं इन चीजों के बारे में...

1 - अगर वायरल फीवर से छुटकारा पाना चाहते हैं तो इसके लिए आपकी मदद मेथी का पानी कर सकता है। ऐसे में आपको एक गिलास पानी में मेथी के दानों को उबालना होगा और छानकर इसका सेवन करना होगा लेकिन इसका सेवन कम मात्रा में करें।

2 - धनिये के पानी का सेवन भी वायरल बुखार को दूर कर सकता है। धनिये के अंदर बैक्टीरिया और वायरस से लड़ने के गुण पाए जाते हैं जो प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत बनाते हैं।

3 - गिलोय की मदद से भी आप वायरल बुखार को दूर कर सकते हैं। यह न केवल इम्यूनिटी सिस्टम को मजबूती देता है बल्कि बार बार सर्दी जुकाम होने से भी रोकता है।

4 - तुलसी के सेवन से भी वायरल बुखार को दूर किया जा सकता है। ऐसे में आप लौंग के पाउडर को पानी में उबालें और तुलसी के पत्तों को भी उस मिश्रण में मिलाएं। अब आधा कप पानी रहने तक उसे उबालें अब उसका सेवन करें।

5 - दालचीनी के माध्यम से वायरल बुखार को दूर कर सकते हैं। बता दें कि दालचीनी को प्राकृतिक एंटीबायोटिक के रूप में देखा जाता है। ऐसे में यह खांसी, जुकाम, गले में दर्द आदि को दूर करता है। आप इलायची और दालचीनी पाउडर को एक साथ मिलाएं और पानी में उबालें। उबालने के बाद ठंडा करके पी जाएं। आराम मिलेगा।

6 - अदरक भी वायरल फीवर को दूर करने में आपके काम आ सकता है। ऐसे में आप अदरक के रस को शहद के साथ मिलाकर भी सेवन कर सकते हैं और वायरल फीवर को दूर भगा सकते हैं।

नोट - ऊपर बताए गए बिंदुओं से पता चलता है कि वायरल फीवर को नजरअंदाज करने पर यह शरीर के लिए घातक साबित हो सकता है। ऐसे में सबसे पहले लक्षणों कारणों को समझें। फिर नीचे दिए घरेलू उपाय को अपनाकर भी आप अपने लक्षणों को दूर कर सकते हैं और खुद को तंदुरुस्त बना सकते हैं। अगर आप गर्भवती हैं या स्तनपान कराने वाली महिलाएं अपनी डाइट में कुछ जोड़ने से पहले एक बार डॉक्टर की सलाह जरूर लें। इसके अलावा हर शरीर की तासीर अलग होती है, ऐसे में किसी भी चीज को अपनी डाइट में जोड़ने से पहले एक बार डॉक्टर की राय जरूर लें। वहीं अगर आप किसी गंभीर बीमारी से ग्रस्त हैं या आप किसी स्पेशल डाइट को फोलो  कर रहे हैं तो आप अपनी डाइट में बदलाव करने से पहले एक बार डॉक्टर की सलाह जरूर लें।

Read More Articles on other diseases in hindi

Disclaimer