भारत में कोरोना के XE वैरिएंट की नहीं हुई पुष्टि, WHO ने बताया था 10 गुना ज्यादा संक्रामक

भारत में कोरोना के XE वैरिएंट के दावे को स्वास्थ्य मंत्रालय ने नकारा। फिर से जांच के बाद हो सकेगी पुष्टि।

Anurag Anubhav
Written by: Anurag AnubhavPublished at: Apr 06, 2022Updated at: Apr 07, 2022
भारत में कोरोना के XE वैरिएंट की नहीं हुई पुष्टि, WHO ने बताया था 10 गुना ज्यादा संक्रामक

भारत में कोरोना वायरस के नए XE वैरिएंट का मामला मिलने की खबर को स्वास्थ्य मंत्रालय ने खारिज कर दिया है। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार कल BMC ने दावा किया था कि उनको मुंबई में एक मरीज के सैंपल में XE वैरिएंट और एक मरीज के सैंपल में कोरोना का कप्पा वैरिएंट मिला था। लेकिन शाम तक स्वास्थ्य मंत्रालय ने इस खबर को अपुष्ट बता दिया। स्वास्थ्य मंत्रालय के केंद्रीय अनुसंधान निकाय INSACOG ने देर रात XE वैरिएंट के मिलने की खबर का खंडन करते हुए कहा कि मामले की फिर से जांच करनी होगी। इस मामले में BMC और स्वास्थ्य मंत्रालय के दावे अलग-अलग हैं।

महाराष्ट्र के कोविड टास्क फोर्स के सदस्य डॉ. शशांक जोशी ने कल मीडिया को बताया कि रीकॉम्बिनेंट स्ट्रेन में कॉन्टामिनेंट्स होते हैं इसलिए INSACOG ने उनसे जीनोम सीक्वेंसिंग का डाटा मांगा है। इस डाटा को NIBMG (National Institute of Biomedical Genomics) को भेजा गया है, ताकि वो XE वैरिएंट की पुष्टि कर सकें।

क्या है कोरोना वायरस का XE वैरिएंट?

कोरोना का नया XE वैरिएंट ओमिक्रोन से ही निकला एक सब-वैरिएंट है। ये मूल वैरिएंट BA.1 और सब वैरिएंट BA.2 से मिलकर बना एक हाइब्रिड वैरिएंट है, इसलिए कुछ एक्सपर्ट्स इसे ज्यादा संक्रामक मान रहे हैं। आपको बता दें कि दुनिया के कई देश इस समय कोरोना की चौथी लहर का सामना कर रहे हैं, जिसमें XE वैरिएंट के मामले भी देखे जा रहे हैं। इस वायरस का पहला मामला 19 जनवरी को यूके में सामने आया था। अब ये वैरिएंट फैलकर कई देशों में पहुंच चुका है, जिनमें यूके, इटली, चीन, थाईलैंड, इजराइल, सिप्रस, फ्रांस और ग्रीस जैसे देश हैं, जहां एक दिन में कोविड के 75000 से लेकर 20000 तक नए मामले दर्ज हो रहे हैं।

Coronavirus XE Variant in India

WHO ने हाल ही में दी थी चेतावनी

आपको बता दें कि कोरोना का XE वैरिएंट वही है, जिसके बारे में पिछले हफ्ते ही विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने दुनिया को सतर्क किया था। WHO ने अपने आधिकारिक बयान में कहा था कि कोरोना वायरस का नया XE वैरिएंट ओमिक्रोन से ज्यादा संक्रामक हो सकता है। रिपोर्ट्स के मुताबिक ये वैरिएंट BA.2 वैरिएंट के मुकाबले 10 गुना ज्यादा संक्रामक है। WHO ने पिछले दिनों कहा था, "मध्य मार्च के समय से नए मामलों की संख्या हर हफ्ते बढ़ रही है। ये इस बात का संकेत है कि वायरस फिर से तेजी से फैल रहा है। इसे देखते हुए कई देशों ने अपने टेस्टिंग का पैटर्न बदल दिया है।"

इसे भी पढ़ें- सामने आया कोरोना वायरस का नया XE वैरिएंट, WHO ने बताया ओमिक्रोन से ज्यादा संक्रामक

क्या भारत में आ सकती है चौथी लहर?

भारत में कोरोना वायरस की चौथी लहर आ सकती है या नहीं, इस बात पर एक्सपर्ट्स में मतभेद है। आईआईटी कानपुर के वैज्ञानिकों द्वारा कुछ महीने पहले किए गए एक अध्ययन में बताया गया था कि भारत में चौथी लहर जून के मध्य तक आ सकती है। वहीं मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक ICMR के एडिशनल डायरेक्टर जनरल समिरन पांडा ने पिछले दिनों बयान दिया था कि भारत में कोविड अपने खात्मे की तरफ बढ़ रहा है। 

ध्यान देने की बात ये है कि चौथी लहर आए न आए, लेकिन स्वास्थ्य मंत्रालय ने अभी तक कोरोना से जुड़े सुरक्षा नियमों में ढील बरतने की बात नहीं कही है। ऐसे में अगर आप वायरस से बचना चाहते हैं, तो आपको मास्क पहनने, सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करने और समय-समय पर हाथ धोते रहने की आदत को बनाए रखना चाहिए।

Disclaimer