Doctor Verified

डेंगू होने पर महसूस हो सकती हैं ये 6 समस्याएं, डॉक्टर से जानें इसके लक्षण और बचाव के उपाय

 इन दिनों डेंगू बुखार तेजी से फैल रहा है। अगर इस बुखार का समय रहते इलाज न करवाया जाए, तो मरीज को कई तरह की समस्याओं से परेशान होना पड़ सकता है। 

Anju Rawat
Written by: Anju RawatUpdated at: Jul 11, 2022 14:22 IST
डेंगू होने पर महसूस हो सकती हैं ये 6 समस्याएं, डॉक्टर से जानें इसके लक्षण और बचाव के उपाय

इन दिनों डेंगू के मरीजों में लगातार (dengue fever in hindi) वृद्धि हो रही है। डेंगू एक तरह का बुखार या फ्लू (dengue fever) है, जो एडीज एजिप्टी प्रजाति के मच्छर (aedes aegypti mosquito) के काटने से फैलता है। यह एक मच्छर से फैलने वाला संक्रमण है, जिसका समय पर इलाज बहुत जरूरी होता है। डेंगू के मरीजों का समय पर इलाज न करवाया जाए, तो उनकी स्थिति खराब हो सकती है। उन्हें कई तरह की जटिलताओं या समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है। डेंगू बुखार की वजह से इसके रोगियों में रक्तस्त्रावी बुखार, डेंगू आघात सिंड्रोम जैसी समस्याएं पैदा हो सकती हैं। इसकी वजह से फेफड़ों और हृदय को भी नुकसान पहुंच सकता है। 

dengue fever

(image : danviet.vn)

डेंगू बुखार की वजह से होने वाली समस्याएं (Complications of Dengue Fever )

वैसे तो डेंगू का बुखार कुछ दिनों में ठीक हो सकता है। लेकिन अगर इसके लक्षणों को लगातार नजरअंदाज किया जाए, तो यह कई जटिलताओं या समस्याओं का भी कारण बन सकता है। मणिपाल अस्पताल,  ओल्ड एयरपोर्ट रोड के सलाहकार- संक्रामक रोग डॉक्टर नेहा मिश्रा (Dr. Neha Mishra, Consultant - Infectious Diseases, Manipal Hospital Old Airport Road) से जानें डेंगू की वजह से होने वाली सामान्य समस्याएं (Complications or problems of Dengue Fever )-

1. डेंगू रक्तस्रावी बुखार  (Dengue Hemorrhagic Fever)

अगर डेंगू गंभीर हो जाए, तो यह जानलेवा भी हो सकता है। इसलिए आपको इसके लक्षणों को ध्यान में रखना चाहिए। कभी-कभी डेंगू इतना खतरनाक हो जाता है कि इसकी वजह से खून बहना शुरू हो जाता है। इस स्थिति में लगातार तेज बुखार रहता है। इसे डेंगू रक्तस्त्रावी बुखार या डेंगू हैमरेजिक फीवर कहा जाता है। गंभीर पेट में दर्द, नाक-मुंह और मसूड़ों से खून निकलना, त्वचा रगड़ने पर रक्त स्त्राव, बिना खून के लगातार उल्टी आना, काला मल, भूख में कमी और जोडों-मांसपेशियों में दर्द डेंगू रक्तस्त्रावी के लक्षण (Dengue Hemorrhagic Fever symptoms) हैं।

इसे भी पढ़ें - डेंगू मरीजों के लिए बहुत फायदेमंद है हरसिंगार का काढ़ा, जानें इसे बनाने का तरीका

2. डेंगू आघात सिंड्रोम (dengue shock syndrome)

डेंगू बुखार के बिगड़ने पर आप डेंगू आघात सिंड्रोम या डेंगू शॉक सिंड्रोम का भी शिकार हो सकते हैं। जब डेंगू की स्थिति खराब हो जाती है, तो यह स्थिति पैदा होती है। रक्तचाप में अचानक गिरावट, नाडी का तेज होना, सांस लेने में कठिनाएं, चिपचिपी त्वचा, बेचैनी और शुष्क मुंह डेंगू आघात सिंड्रोम के लक्षण (dengue shock syndrome symptoms) हैं।

3. सांस लेने में कठिनाई (Difficulty in breathing)

डेंगू होने पर अकसर तेज बुखार, लगातार खांसी, जोड़ों में दर्द की शिकायत रहती है। लेकिन अगर इसके सामान्य लक्षणों को नजरअंदाज किया जाए, तो समस्या बढ़ सकती है। डेंगू बुखार होने पर आपको सांस लेने में भी कठिनाई हो सकती है। अगर आप डेंगू के मरीज हैं, आपको सांस लेने में तकलीफ हो रही है, तो आपको तत्काल डॉक्टर या चिकित्सक से संपर्क करना चाहिए।

dengue fever

4. पैंक्रियाज में सूजन (Inflammation in pancreas)

डेंगू में तेज, लगातार बुखार एक सामान्य लक्षण है। इसके साथ ही डेंगू में प्लेटलेट्स कम होने लगते हैं। इतना ही नहीं डेंगू के मरीजों के पैंक्रियाज में भी सूजन मिल रही है। डेंगू के मरीजों में पेट, लंग्स और गाल ब्लेडर में भी पानी भरता है। डेंगू के गंभीर लक्षणों में सांस लेने में तकलीफ, नाक-मसूड़ों में खून आना, बेहोरी होना और उल्टी में खून आना शामिल हैं।

5. डेंगू मरीजों में लिवर में समस्या (liver problem)

डेंगू के मरीजों में प्लेटलेट्स कम (low platelets in dengue patients) होने के साथ ही स्थिति गंभीर भी हो जाती है। डेंगू की वजह से मरीजों के लिवर में भी समस्या होने लगती है। इस स्थिति में ब्लीडिंग की समस्या, पेट दर्द और बीपी की भी समस्या देखने को मिलती है।

इसे भी पढ़ें - डेंगू के लक्षण महसूस होने पर अपनाएं ये 4 आयुर्वेदिक उपाय, मिलेगी राहत

6. फेफड़ों की समस्या (Lungs problem)

डेंगू के मरीजों में फेफड़ों में समस्या भी देखने को मिलती है। इसमें लगातार तेज बुखार, उल्टी, खांसी और खांसी में खून आने की समस्या का सामना करना पड़ता है। इस समस्या को आप बिल्कुल भी नजरअंदाज न करें, इससे आपकी समस्या बढ़ सकती है। फेफड़ों में दिकक्त होने पर समस्या बढ़ने लगती है, इसलिए इसका समय रहते इलाज बहुत जरूरी है।

dengue

डेंगू के लक्षण (dengue symptoms)

डेंगू आजकल काफी तेजी से अपने पैर पसार रहा है। डेंगू ठीक होने वाली समस्या है। अगर डेंगू के लक्षणों पर समय रहते ध्यान दिया जाए, तो  इसे आसानी से घर पर रहकर भी ठीक किया जा सकता है। लेकिन इलाज न मिलने पर डेंगू जानलेवा भी हो सकता है। डेंगू के मच्छर के काटने के 10 दिनों बाद इसके लक्षण दिखाई देने लगते हैं। अगर आपको भी इसके कुछ लक्षण दिखाई दें, तो तुरंत अपना इलाज शुरू कर दें। समय के साथ-साथ इसके लक्षणों में भी वृद्धि हो सकती है। जानें इसके लक्षण (dengue symptoms)-

  • लगातार तेज बुखार (high fever Headache )
  • सिरदर्द (Joint pain)
  • जोड़ों में दर्द (Joint pain)
  • मांसपेशियों में दर्द (muscle pain)
  • मतली और उल्टी आना (nausea and vomiting )
  • पेट की खराबी (stomach upset)
  • त्वचा पर लाल चकत्ते होना (skin rash )
  • पेट में दर्द (stomach ache)

डेंगू बुखार से बचाव के उपाय (prevention tips of dengue fever)

डेंगू एक तरह का बुखार (dengue fever) है, जिससे बचाव किया जा सकता है। अगर आप अपनी डाइट, स्वच्छता का ध्यान रखें, तो डेंगू से बचाव आसानी से किया जा सकता है। डेंगू से बचाव के उपाय (dengue prevention tips)-

  • डेंगू से बचाव के लिए आपको मच्छरों से बचना बहुत जरूरी है। डेंगू के मच्छर दिन के समय अधिक काटते हैं। इसलिए घर से बाहर निकलने पर आपको खुद को ढककर रखना चाहिए।
  • डेंगू के मच्छर यानी एडीज एजिप्टी आमतौर पर स्थिर और साफ पानी में प्रजनन करते हैं, इसलिए मच्छरों को बढ़ने से रोकने के लिए अपने घर और उसके आस-पास पानी जमा न होने दें।
  • गमले, टंकी, कूलर आदि की समय-समय पर सफाई करते रहें। इन जगहों पर पानी बिल्कुल जमा न होने दें।
  • घर और घर के आस-पास साफ-सफाई का पूरा ध्यान रखें। 
  • डेंगू से बचाव के लिए इनके अलावा डाइट का भी खास ध्यान रखना जरूरी होता है। डेंगू से बचाव के लिए हेल्दी डाइट लें।
  • दिनभर में कम से कम 8-10 गिलास पानी जरूर पिएं। अनहेल्दी फूड्स का सेवन करने से बचें।

डेंगू के लक्षण महसूस होने पर आपको तुरंत अपना इलाज शुरू करवाना चाहिए। तत्काल इलाज से डेंगू बुखार (dengue fever) से होने वाली जटिलताओं या समस्याओं को कम किया जा सकता है। इसलिए इसके किसी भी लक्षण को नजरअंदाज न करें, तुरंत डॉक्टर से कंसल्ट करें।

Disclaimer