क्या है चिकन स्किन प्रॉब्लम? जानें इसे रोकने के घरेलू उपाय

डॉक्टरों का कहना है कि आमतौर पर चिकन स्किन की समस्या 30 से 35 साल की उम्र के बाद नजर आती है। 

Ashu Kumar Das
Written by: Ashu Kumar DasPublished at: Jun 24, 2022Updated at: Jun 24, 2022
क्या है चिकन स्किन प्रॉब्लम? जानें इसे रोकने के घरेलू उपाय

Chicken Skin problem: किसी बच्चे की खूबसूरत, मुलायम स्किन को देखकर हमेशा मन में एक ही ख्याल आता है कि काश ताउम्र त्वचा ऐसी ही बने रहे। लेकिन ऐसा होता कहां है।, आमतौर पर टीनएज, यानी 13 से 18 साल की उम्र में ब्रेकआउट, पिंपल्स, एक्ने मार्क्स और मिडिल एज में ड्राई स्किन की समस्या होने लगती है। वहीं 40 की उम्र तक पहुंचते ही झुर्रियां, काले घेरे और दाग-धब्बे हो जाते हैं। सरल भाषा में कहें तो स्किन के मैच्योर होने की भी एक प्रक्रिया है। जैसे-जैसे उम्र बढ़ती है वो त्वचा पर अपना प्रभाव डालती है। इन्हीं स्किन प्रॉब्लम में से एक है आंखों के नीचे वाली त्वचा पर छोटे-छोटे सफेद रंग के बम्प्स या दाने होना। मेडिकल भाषा में इन्हें  केराटॉसिस पिलैरिस (Keratosis pilaris) कहा जाता है। अंग्रेजी में कुछ लोग इसे चिकन स्किन (Chicken Skin) भी कहते हैं। शुरुआती तौर पर तो ज्यादातर लोग इस प्रॉब्लम पर ध्यान नहीं देते हैं, लेकिन थोड़े वक्त के बाद इन दानों में खुजली, जलन और हल्का दर्द महसूस हो सकता है।

डॉक्टरों का कहना है कि आमतौर पर चिकन स्किन की समस्या 30 से 35 साल की उम्र के बाद नजर आती है। यह केवल आंखों के नीचे नहीं बल्कि हाथ और पैर पर भी नजर आ सकते हैं।

इसे भी पढ़ेंः हेल्दी वजाइना के लिए महिलाओं को पता होने चाहिए अंडरवियर पहनने से जुड़े ये 5 नियम

क्या है चिकन स्किन की वजह? (Causes of Chicken Skin or Keratosis Pilaris?)

- किसी फूड रिएक्शन के कारण चिकन स्किन की समस्या हो सकती है।

- स्किन पोर्स में केराटिन प्रोटीन ब्लॉक होने की वजह से भी यह प्रॉब्लम हो सकती है और वक्त के साथ बढ़ सकती है।

- कुछ मामलों में अधिक दवा का सेवन करने के कारण भी यह समस्या लोगों में देखी गई है।

चिकन स्किन होने का मुख्य कारण क्या है इस पर कई तरह की रिसर्च अब भी जारी हैं।

चिकन स्किन के इलाज के लिए घरेलू नुस्खे (Home Remedies for Chicken Skin treatment)

गुलाब जल का प्रयोग

कई रिसर्च में यह बात सामने आई है कि गुलाब जल में एंटी इन्फ्लेमेटरी प्रॉपर्टीज पाई जाती हैं। अगर आपको शुरुआत में चिकन स्किन की समस्या नजर आती है तो इस पर गुलाब जल लगाएं। इस समस्या से निजात पाने के लिए आप दिन में दो बार गुलाब जल का इस्तेमाल कर सकते हैं।

मॉइस्चराइज करना है जरूरी

ज्यादातर स्किन प्रॉब्लम का मुख्य कारण मॉइश्चर की कमी माना जाता है। स्किन की नमी को बनाए रखने के लिए क्रीम या बॉडी लोशन का इस्तेमाल करें। शरीर के जो हिस्से हमेशा (गर्दन, हाथ, पैर) खुले रहते हैं उनको दिन में 3 से 4 बार मॉइश्चराइज जरूर करें।

नहाने के लिए करें गर्म पानी का इस्तेमाल

गर्म पानी से नहाने से स्किन के डेड सेल्स आसानी से निकल जाते हैं और पोर्स लंबे वक्त तक क्लीन रहते हैं। जिन लोगों को चिकन स्किन की समस्या होती है उन्हें हल्के गुनगुने पानी से नहाने की सलाह दी जाती है। आप चाहें तो गुनगुने पानी में थोड़ा सा गुलाब डालकर भी स्नान कर सकते हैं।

इसे भी पढ़ेंः ब्रेस्ट कैंसर के इलाज के बाद क्या मैं प्रेगनेंट हो सकती हूं? जानें एक्सपर्ट से

चिकन स्किन में क्या न करें

अगर आपको चिकन स्किन की समस्या है तो माइल्ड और केमिकल फ्री साबुन का इस्तेमाल करें। किसी भी स्थिति में हार्ड बॉडी स्क्रब का इस्तेमाल न करें। हार्ड बॉडी स्क्रब का इस्तेमाल चिकन स्किन की समस्या को बढ़ा सकता है। इसके अलावा इससे खुजली और जलन की समस्या भी हो सकती हैं।

अगर आपको चिकन स्किन की समस्या है या फिर किसी भी तरह की स्किन एलर्जी है तो अपने डॉक्टर से संपर्क करें।

(All Image Sources- Freepik.com)

 
Disclaimer