चंपा का फूल है कई बीमारियों में उपयोगी, जानें इसके 5 फायदे और प्रयोग करने का तरीका

चंपा का फूल कई समस्याओं में काम आता है। यहां आयुर्वेदाचार्य से जानें इसके फायदे और प्रयोग का तरीका।

Kunal Mishra
Written by: Kunal MishraPublished at: Jun 16, 2021Updated at: Jun 16, 2021
चंपा का फूल है कई बीमारियों में उपयोगी, जानें इसके 5 फायदे और प्रयोग करने का तरीका

आयुर्वेद में ऐसे बहुत से फूल और पौधे होते हैं, जिनके बारे में हम शायद ही जानते हों। जानकारी के अभाव में कई बार अपने आस पास इन औषधीय पौधों को देखने के बाद भी हम इन्हें नहीं पहचान पाते हैं। क्या आपने कभी चंपा के फूल देखे हैं या आपको इसकी पहचान है? अगर नहीं, तो इस लेख के जरिए हम आपको चंपा के फूलों के औषधीय गुणों के बारे में बताएंगे। दरअसल, चंपा सफेद और पीले रंग का एक सुगंधित फूल है, जो कई स्वास्थ्य समस्याओं में काम आता है। इसे टेंपल फ्लॉवर के नाम से भी जाना जाता है। भारत में तो यह फूल बहुत आसानी से मिल जाते हैं। यह इत्र बनाने में भी इस्तेमाल किए जाते हैं। यह खांसी, जुकाम और सिरदर्द, मूत्र संबंधी विकार जैसी समस्याओं में काफी फायदेमंद होते हैं। इसी विषय पर ज्यादा जानने के लिए हमने हरियाणा के सिरसा जिले के आयुर्वेदाचार्य डॉक्टर श्रेय शर्मा (Dr. Shrey Sharma, Ayurvedacharya, Sirsa) से बातचीत की। चलिए जानते हैं चंपा के फूलों से होने वाले कुछ फायदों के बारे में।

champa flower

1. सिर दर्द से दिलाए राहत (Relieves Headache)

सिर दर्द (Headache) एक आम समस्या है, लेकिन लंबे समय तक इसे नजरअंदाज करने से यह समस्या और बढ़ सकती है। ऐसे में चंपा का तेल आपके सिर दर्द को ठीक करने में मदद करता है। इसके फूल को सूंघने से भी काफी हद तक सिर दर्द हल्का हो सकता है। सिर दर्द में चंपा के तेल से सिर की डीप मसाज करने से यह समस्या आसानी से ठीक हो सकती है। 

इसे भी पढ़ें: पीपल के पत्तों के 6 फायदे और 2 नुकसान, बता रहे हैं आयुर्वेदाचार्य

2. मूत्र संबंधी रोग में फायदेमंद (Beneficial in Urinary Diseases)

आयुर्वेद दाचर्या डॉक्टर श्रेय शर्मा के मुताबिक चंपा का फूल मूत्र संबंधी विकारों को दूर करने में काफी सहायक माना जाता है। अगर आपका पेशाब रुका है या फिर पेशाब होने में किसी प्रकार की परेशानी हो रही है तो  यह फूल इस समस्या को दूर कर सकता है। इसके लिए आप चंपा के फूलों को सुखाएं। इसके बाद इसका चूर्ण बना लें। अब इसे पानी के साथ मिलाकर पी लें। ध्यान रहे कि आपको इसका चूर्ण केवल एक से दो ग्राम ही लेना है।

3. आंखों की जलन को करे दूर (Relives Burning Sensations in Eyes)

चंपा का फूल आपकी आंखों को स्वस्थ्य रखने में भी अहम भूमिका निभाता है। इसका प्रयोग करने से आपकी आंखों में हो रही जलन कि समस्या आसानी से दूर हो सकती है। इसकी तासीर ठंडी होती है, जो आंखों की जलन को ठीक करती है। डॉक्टर श्रेय ने बताया कि चंपा के फूल में उड़न शील तेल पाया जाता है। जो प्राकृतिक रूप से आंखों के लिए भी अहम भूमिका निभाता है। इसके लिए भी आप चंपा के फूल का चूर्ण बनाएं और कुछ दिनों तक उसका सेवन करें। इसे इंटर्नल यूज करने की सलाह नहीं दी जाती है, इसलिए इसके इस्तेमाल से पहले अपने चिकित्सक से जरूर सलाह लें।

skin infection

4. चर्म रोग को ठीक करने में मददगार Helps to Treat Skin Diseases)

डॉक्टर श्रेय शर्मा के अनुसार चर्म रोग कई प्रकार के होते हैं, हालांकि यह कह पाना ठीक नहीं होगा कि यह सभी तरह के चर्म रोगों के लिए रामबाण सिद्ध होगा। लेकिन यह आपके घाव को भरने और उसे सूखने में बहुत जल्दी प्रतिक्रिया करता है। इसका काढ़ा इसलिए नहीं बनाया जा सकता क्योंकि अगर चंपा के फूल को गर्म किया जाए तो इसमें मौजूद उड़न शील तेल के गुण नष्ट हो जाएंगे और वह बीमारियों को ठीक करने में असमर्थ हो सकता है। यह आपकी चमड़ी पर होने वाली जलन और सूजन को भी ठीक करने में भी मददगार होता है।

इसे भी पढ़ें: इन 5 फूलों से घर पर बनाएं बेहतरीन नैचुरल फेसपैक, चेहरा बनेगा फूल जैसा खूबसूरत और मखमली

5. स्ट्रेस दूर करने में मददगार है (Helpful in relieving Stress)

चंपा के फूलों की तासीर अन्य फूलों के मुकाबले काफी ठंडी होती है। इसका लैटिन नाम मिचेलियान चंपका है। अगर आपको समय से नींद नहीं आने की समस्या है या फिर आप तनावग्रस्त हैं तो भी आप इसका प्रयोग कर सकते हैं। इस फूल को अपने पास रखने और सूंघने मात्र से ही आपका तनाव कम हो सकता है। चंपा के फूल को टेंपल फ्लॉवर के नाम से भी जाना जाता है, यह आपको हर समय सकारात्मक ऊर्जा का एहसास दिलाता है। इसलिए इस पुष्प को अपने आस पास रखना फायदेमंद होता है। यह एरोमाथेरेपी में भी काम आता है।

चंपा का फूल कई समस्याओं में काम आता है। इस लेख में दिए गए तरीकों से आप इस फूल का इस्तेमाल कर सकते हैं। अगर आप इसे किसी गंभीर बीमारी में प्रयोग कर रहे हैं तो एक बार अपने चिकित्सक की सलाह जरूर लें।

Read More Articles on Ayurveda in Hindi

Disclaimer