प्रेगनेंसी के बाद शरीर में खून की कमी (एनीमिया) के लक्षण, कारण और इलाज के तरीके

गर्भावस्था के बाद महिलाओं के शरीर में खून की कमी होने से महिलाओं को कई समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है। जानें कारण, लक्षण और बचाव

Garima Garg
Written by: Garima GargUpdated at: Aug 03, 2021 13:53 IST
प्रेगनेंसी के बाद शरीर में खून की कमी (एनीमिया) के लक्षण, कारण और इलाज के तरीके

प्रेगनेंसी के बाद महिलाओं के शरीर में कमजोरी आना स्वाभाविक है। ऐसे में महिलाओं की इस कमजोरी को दूर करने के लिए भरपूर आहार और जरूरी पोषक तत्वों का सेवन करने की सलाह देते हैं। लेकिन कई महिलाएं ऐसी भी होती हैं जिन्हें प्रेगनेंसी के बाद खून की कमी का सामना करना पड़ता है। इस परिस्थिति को मेडिकल भाषा में पोस्टमार्टम एनीमिया के नाम से जाना जाता है। बता दें कि यह एक आम समस्या है। लेकिन इसके कारण महिलाओं को रोजमर्रा के जीवन में कई समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है। प्रसव के 1 हफ्ते के बाद महिलाओं के शरीर में हीमोग्लोबिन का स्तर घटने लगता है तब यह समस्या हो सकती है। आज का हमारा लेख इसी विषय पर है। आज हम आपको अपने इस लेख के माध्यम से बताएंगे कि पोस्टमार्टम एनीमिया क्या होता है। साथ ही इसके कारण, लक्षण और बचने के उपाय क्या हैं इसके बारे में भी जानेंगे। पढ़ते हैं आगे..

 

गर्भावस्था के बाद खून की कमी के लक्षण

गर्भावस्था के बाद खून की कमी के लक्षण निम्न प्रकार हैं-

1 - महिलाओं का तनाव में रहना।

2 - महिलाओं का थकान महसूस करना।

3 - महिलाओं को सांस लेने में दिक्कत महसूस करना

4 - चक्कर आना या बेहोशी मैसेज करना

5 - लो ब्लड प्रेशर यानि हाइपोटेंशन की समस्या होना

6 - महिलाओं में खून की कमी होने के कारण से आने का पीला पड़ जाना।

7 - बालों का झड़ना

8 - महिलाओं को भूलने की बीमारी हो ना या सतर्कता ना मिल पाना।

9 - महिलाओं को भ्रम की स्थिति का सामना करना या कंफ्यूजन जैसे समस्या होना।

इसे भी पढ़ें- प्रेगनेंसी में मूड स्विंग (Mood Swings) होने के कारण, लक्षण और बचाव के लिए आसान टिप्स

गर्भावस्था के बाद खून की कमी के कारण महिलाओं को होने वाला खतरा

1 - शारीरिक कमजोरी का सामना करना।

2 - महिलाओं के शरीर में आयरन की कमी महसूस करना।

3 - महिलाओं के शरीर में ज्यादा मात्रा में रक्त स्राव होना।

4 - कभी-कभी जब महिलाओं के शरीर में ज्यादा रक्त स्राव होता है तो यह उनकी मृत्यु का कारण भी बन सकता है।

इसे भी पढ़ें- प्रेग्नेंसी के दौरान अर्थराइटिस होने के कारण, लक्षण और बचाव के तरीके

गर्भावस्था के बाद खून की कमी होने के कारण

  1. गलत आहार के कारण महिलाएं इस समस्या का सामना कर सकती हैं। बता दें कि गर्भावस्था में आयरन की कमी नहीं होनी चाहिए। ऐसे में डॉक्टर कुछ सप्लीमेंट्स और जरूरी खाद्य पदार्थों से इस कमी को पूरा करते हैं। लेकिन जब महिलाओं को गर्भावस्था के दौरान सही मात्रा में आयरन नहीं मिल पाता है तो डिलीवरी के बाद एनीमिया की शिकायत हो सकती है।
  2. जब शरीर में जरूरी पोषक तत्वों की कमी हो जाती है यानी विटामिन ए, विटामिन b2, फोलेट आदि गर्भावस्था के बाद एनीमिया की कमी भी हो सकती है।
  3. जब महिलाएं प्रतिरक्षा प्रणाली से जुड़े रोगों से ग्रस्त हो जाती हैं तब भी गर्भावस्था के बाद एनीमिया की संभावना बढ़ सकती है।
  4. जब प्रसव के बाद महिलाओं के शरीर से अधिक रक्तस्राव होता है तब भी एनीमिया की समस्या हो सकते हैं।

इसे भी पढ़ें- प्रेग्नेंसी के दौरान पेट में कीड़े होने के 7 लक्षण, कारण और उपचार

गर्भावस्था के बाद खून की कमी से बचाव

1 - थकान होने से यह समस्या बढ़ सकती है ऐसे में भरपूर मात्रा में आराम करें।

2 - डाइट में हेल्दी तरल पदार्थों को जोड़ें।

3 - अपने आहार में आयरन और विटामिन सी जैसे जरूरी पोषक तत्वों को शामिल करें।

4 - कॉफी और चाय को अपनी डाइट से निकालें।

5 - मेडिटेशन और एक्सरसाइज को अपनी दिनचर्या में जोड़ें।

6 - डिलेवरी से पहले एनीमिया की जांच करवाएं।

प्रेगनेंसी के बाद एनीमिया का इलाज

अगर महिलाओं में आयरन की कमी होती है तो डॉक्टर जरूरी सप्लीमेंट्स या इंजेक्शन देते हैं। वहीं अगर खून की कमी की पूर्ति के लिए डॉक्टर लाल रक्त कोशिकाओं की पूर्ति के लिए खून भी चढ़ा सकते हैं। इसके अलावा कुछ दवाई भी होती हैं जो मां में जरूरी पोषक तत्वों की कमी को पूरा करती हैं। ऊपर बताए गए कारणों के अनुसार एनीमिया आयरन की कमी के कारण हो सकता है ऐसे में महिलाओं को अपने आहार में जरूरी विटामिन और इनके सप्लीमेंट्स को जोड़ना चाहिए। इससे अलग जरूरी खाद्य पदार्थ जैसे ड्राई फ्रूट्स, जई, टोफू, फलियां, पालक, दाल, छोले आदि को भी अपनी डाइट में जोड़ सकती हैं। इससे अलग समस्या के जोखिम को कम कर सकते हैं। ऐसे में महिलाएं संतरे, नींबू आदि को भी विटामिन सी के लिए जोड़ सकती हैं। यह आयरन की कमी को भी पूरा करते हैं। अगर यह समस्या बढ़ती जा रही है तो डॉक्टर से संपर्क जरूर करें।

नोट - ऊपर बताए गए बिंदुओं से पता चलता है कि गर्भावस्था के बाद एनीमिया की कमी से महिलाओं को कई समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है। ऐसे में समय रहते इसलिए बचाव जरूरी है। अगर महिलाएं एनीमिया की कमी का शिकार हो भी गई हैं तो वह कुछ दिनचर्या में थोड़े से बदलाव करके समस्या से छुटकारा पा सकते हैं और अगर खून की कमी पूरी नहीं हो रही है तो डॉक्टर से संपर्क करना भी बेहद जरूरी है। महिलाएं अपनी डाइट में कुछ भी जोड़ने से पहले एक बार एक्सपर्ट की राय जरूर लें।

इस लेख में इस्तेमाल की जानें वाली फोटोज़ Freepik से ली गई हैं।

Read More Articles on women health in hindi

Disclaimer