वर्कआउट से पहले या बाद में मेडिटेशन करना कितना फायदेमंद है? जानें मेडिटेशन का सबसे आसान तरीका

एक्सरसाइज भी करते हैं और मेडिटेशन भी, तो पहले जान लें कि कब और कैसे मेडिटेशन करना सही है। इसके साथ ही जानें मेडिटेशन का एक आसान तरीका।

Anurag Anubhav
Written by: Anurag AnubhavPublished at: Mar 04, 2020Updated at: Mar 04, 2020
वर्कआउट से पहले या बाद में मेडिटेशन करना कितना फायदेमंद है? जानें मेडिटेशन का सबसे आसान तरीका

स्वस्थ रहने के लिए आमतौर पर हमें 3 रास्ते बताए जाते हैं- अच्छा खाएं, एक्सरसाइज करें और मेडिटेशन करें। जो लोग अपने स्वास्थ्य के प्रति जागरूक हैं, वो अपने खानपान का ध्यान तो रखते ही हैं। इसके साथ ही बहुत सारे लोग रेगुलर एक्सरसाइज भी करते हैं और कुछ लोग ध्यान भी करते हैं। वहीं कुछ ऐसे लोग भी हैं, जो ध्यान भी करते हैं और एक्सरसाइज भी करते हैं। मगर क्या आपने कभी सोचा है कि एक्सरसाइज से पहले या बाद में मेडिटेशन करना आपके लिए कितना फायदेमंद या इसे करने का सही समय क्या है? अगर नहीं, तो आज हम आपको इसी बारे में बता रहे हैं।

meditation

ध्यान है बेहतर स्वास्थ्य का सबसे अच्छा तरीका

मेडिटेशन यानी ध्यान करने के बहुत सारे फायदे हैं, ये बात तो आप भी जानते हैं। ध्यान करने से आपको मानसिक शांति मिलती है, तनाव और डिप्रेशन से छुटकारा मिलता है और आप ज्यादा प्रोडक्टिव हो पाते हैं। इसके अलावा ध्यान करने से व्यक्ति की एकाग्रता और याददाश्त भी बेहतर होती है। ऐसा माना जाता है कि ध्यान करने से व्यक्ति को मानसिक के साथ-साथ शारीरिक स्वास्थ्य से जुड़े फायदे भी मिलते हैं क्योंकि शरीर का स्वास्थ्य बहुत हद तक मस्तिष्क से जुड़ा हुआ है।

इसे भी पढ़ें: घर पर कर रहे हैं मेडिटेशन (ध्यान) की शुरुआत, तो इन 5 बातों का रखें विशेष ख्याल

ध्यान और वर्कआउट के बीच समय का ख्याल रखना जरूरी है

अगर आप ध्यान और एक्सरसाइज (वर्कआउट) दोनों ही करते हैं, तो आपको इनके बीच तालमेल बिठाने के लिए समय का ध्यान रखना बेहद जरूरी है। दरअसल दोनों ही गतिविधियां आपको शारीरिक और मानसिक फायदे देती हैं, मगर इन्हें गलत तरीके से करने से आपको कई नुकसान भी हो सकते हैं। ध्यान एक्सरसाइज नहीं, बल्कि एक तरह की थेरेपी है, इसलिए इसे करने के लिए शरीर की सही स्थिति का ध्यान रखना पड़ता है। इसी तरह एक्सरसाइज करने के भी अपने कुछ नियम होते हैं।

dhyan

वर्कआउट से पहले मेडिटेशन के फायदे

अगर आप जिम जाकर या घर पर ही वर्कआउट करते हैं, तो ध्यान एक्सरसाइज के दौरान आपकी परफॉर्मेंस बढ़ाने में भी मदद कर सकता है। जी हां, अगर आप एक्सरसाइज से आधे घंटे पहले 10-15 मिनट ध्यान करते हैं, तो ये आपके लिए फायदेमंद हो सकता है। दरअसल ध्यान करने से आपकी नर्व्स (तंत्रिकाएं) और मसल्स (मांसपेशियां) रिलैक्स हो जाती हैं, इसलिए जब आप ध्यान करने के बाद एक्सरसाइज करते हैं, तो एक्सरसाइज के दौरान आप ज्यादा मेहनत कर पाते हैं।

इसे भी पढ़ें: डायरी लिखने की आदत से आपका मानसिक स्वास्थ्य हो सकता है बेहतर, जानें कैसे करें शुरुआत

वर्कआउट के बाद मेडिटेशन के फायदे

लेकिन रिसर्च बताती हैं कि अगर आप वर्कआउट के बाद मेडिटेशन करते हैं, तो ये आपके लिए ज्यादा फायदेमंद हो सकता है। दरअसल एक्सरसाइज के दौरान आपकी मसल्स में स्ट्रेस आता है और पूरे शरीर में ब्लड सर्कुलेशन बढ़ने के साथ-साथ सांसें और दिल की धड़कन भी बढ़ जाती है। इन स्थितियों को वापस सामान्य अवस्था में आने में 10-15 मिनट का समय लगता है। अगर वर्कआउट के 15 मिनट बाद आप 15 मिनट का मेडिटेशन करते हैं, तो इससे आपकी सभी नर्व्स रिलैक्स हो जाती हैं और मांसपेशियों का तनाव कम हो जाता है। एक्सरसाइज के दौरान शरीर में जो भी अव्यवस्थाएं होती हैं, वे सभी ध्यान करने से ठीक हो जाती हैं।

Watch Video: मेडिटेशन की शुरुआत कैसे करें, वीडियो में जानें जरूरी टिप्स

वर्कआउट के बाद मेडिटेशन करने का सही तरीका

वर्कआउट के तुरंत बाद ध्यान करने न बैठ जाएं। कम से कम 15 मिनट आराम करें, ताकि शरीर का तापमान सामान्य हो जाए और दिल की धड़कन सामान्य हो जाए। इसके बाद ही मेडिटेशन शुरू करें। इसके बाद इस तरह से ध्यान करें।

  • जमीन पर चटाई बिछाकर शांत अवस्था में आराम दायक स्थिति में बैठ जाएं।
  • अगर वातावरण गर्म है, तो किसी ठंडी जगह को चुनें या पंखे के नीचे बैठें।
  • अपनी आंखों को बंद करें और ध्यान की पोजशन में आ जाएं।
  • अब धीरे-धीरे गहरी सांसें लें और अपनी आती-जाती सांसों पर ध्यान केंद्रित करें।
  • सांसों पर ही ध्यान रखें और मन के भटकने पर इसे पुनः सांसों पर ले आएं।
  • ऐसा 15 मिनट तक करें।

Read more articles on Mind Body in Hindi

Disclaimer