डायरी लिखने की आदत से आपका मानसिक स्वास्थ्य हो सकता है बेहतर, जानें कैसे करें शुरुआत

डायरी लिखने की आदत आपको कई मानसिक समस्याओं जैसे- डिप्रेशन, तनाव और चिंता से बचा सकती है और याददाश्त को बेहतर बना सकती है।

Anurag Anubhav
Written by: Anurag AnubhavPublished at: Feb 23, 2020Updated at: Feb 23, 2020
डायरी लिखने की आदत से आपका मानसिक स्वास्थ्य हो सकता है बेहतर, जानें कैसे करें शुरुआत

हमारा मस्तिष्क एक तरह की मशीन है, जिससे अगर ज्यादा काम लिया जाए, तो इसमें गड़बड़ी के खतरे बने रहते हैं। बहुत अधिक सोचने, चिंता करने, तनाव लेने से आपका मानसिक और शारीरिक दोनों ही स्वास्थ्य खराब होता है। मस्तिष्क को स्वस्थ रखने के लिए एक्सपर्ट्स अलग-अलग तरीके बताते हैं, जिसमें ध्यान, एक्सरसाइज और अच्छी डाइट आदि प्रमुख हैं। मगर इन सबसे अलग एक क्रिएटिव तरीका भी है, जिससे आप अपने मस्तिष्क को स्वस्थ रख सकते हैं, और वो है रोजाना डायरी लिखना।

diary

क्यों अच्छी आदत है डायरी लिखना?

हम जो कुछ भी सोचते, समझते, देखते या महसूस करते हैं, वो सभी चीजें हम किसी से शेयर नहीं कर पाते हैं। ऐसी बहुत सी बातें हैं, जो आप किसी से शेयर नहीं करना चाहते हैं। ऐसी बातों को अगर आप डायरी में लिखेंगे, तो आपको काफी मानसिक शांति मिलेगी। इसके अलावा अगर आप दिनभर बहुत अस्त-व्यस्त रहते हैं, तो चीजों को व्यवस्थित रखने के लिए भी डायरी या नोट्स जैसा कुछ लिख सकते हैं, जिससे आप चीजों को भूलें नहीं और सभी काम सही समय पर पूरा कर पाएं।

इसे भी पढ़ें: घर पर कर रहे हैं मेडिटेशन (ध्यान) की शुरुआत, तो इन 5 बातों का रखें विशेष ख्याल

डायरी लिखना कैसे करता है आपकी मदद?

डायरी लिखने की आदत पर कई शोध किए गए हैं, जो बताते हैं कि ये आदत आपके लिए कई तरह से फायदेमंद साबित हो सकती है-

  • डायरी में हर दिन कुछ पॉजिटिव या मजाकिया चीजें लिखने से आपका दिन अच्छा गुजरता है और डिप्रेशन को दूर करने में मदद मिलती है।
  • डायरी में लिखी बातों को बाद में पढ़ने पर आपको अपने आपमें कॉन्फिडेंस आता है और चीजों को दोबारा याद करने में आसानी रहती है।
  • अपने भीतर के मनोभावों को लिखने के बाद आपको मानसिक रूप से तनाव से मुक्ति मिलती है और नींद अच्छी आती है।
  • अगर आप रोजाना डायरी लिखते हैं, तो इससे आपको इस बात को समझने में काफी मदद मिलती है कि आप जिंदगी में क्या कर रहे हैं और आपको किन चीजों पर ज्यादा मेहनत करने या ध्यान देने की जरूरत होती है।
  • आपको जानकर हैरानी होगी मगर डायरी लिखने की आदत आपके इम्यून सिस्टम को भी बूस्ट करती है और इससे रोगों और बुरे वक्त से लड़ने की हिम्मत मिलती है।

कैसे करें डायरी लिखने की शुरुआत

अगर आपने पहले कभी डायरी नहीं लिखी है, तो हम आपको कुछ खास बातें बताते हैं, जिनसे आप डायरी लिखने की शुरुआत कर सकते हैं।

  • अपने दिन की सबसे अच्छी घटना और सबसे बुरी घटना लिखें। इसके साथ ही संकल्प लिखें कि आप एक गलती को दोहराएंगे नहीं।
  • आप दिनभर में जो भी पॉजिटिव विचार पढ़ते सुनते, देखते या सोचते हैं, उन्हें इस डायरी में जरूर नोट करें।
  • अगर आपके लिए रोजाना डायरी लिखना संभव नहीं है, तो आप सप्ताह में एक बार लिखें।
  • अगर आपके पास रोजाना समय है तो आप डायरी में अपने बीते दिन के बारे में लिख सकते हैं और ये भी लिख सकते हैं कि आज के दिन आपको कौन से महत्वपूर्ण काम करने हैं। इससे आपके पास एक तरह से डे-प्लान होगा जो लक्ष्यों को प्राप्त करने में आपकी मदद करेगा।
  • डायरी में हमेशा सही और सच्ची बातें लिखें। इसलिए क्योंकि बाद में ये बातें आपके जीवन को प्रभावित कर सकती हैं।
  • अगर आपको कुछ नहीं समझ आता है, तो अपने आसपास के बारे में लिखें। प्रकृति के बारे में लिखें जैसे- सुंदर आकाश, ठंडी हवा, तेज धूप, बारिश आदि। इसके अलावा अगर आप कहीं घूमने जाते हैं, तो वहां का अनुभव हंसी-मजाक की चीजें इसमें लिख सकते हैं, ताकि बाद में इन्हें पढ़ने पर आपको पूरी यात्रा याद हो जाए।
  • सीक्रेट चीजों को लिखने के लिए अपने कुछ सीक्रेट कीवर्ड्स बनाएं, जिससे कि अगर आपकी डायरी किसी के हाथ आए, तो भी उन्हें आपके सीक्रेट्स न पता चलें।

Read more articles on Mind & Body in Hindi

Disclaimer