थकान, कमजोरी और चक्कर आने के पीछे हो सकते हैं ये 10 कारण, न करें नजरअंदाज

Reasons for dizziness and fatigue : थकान कमजोरी को नजरअंदाज करना आप पर भारी भी पड़ सकता है। आइए जानते हैं इसका कारण। 

 
Pallavi Kumari
Written by: Pallavi KumariPublished at: Apr 30, 2022Updated at: Apr 30, 2022
थकान, कमजोरी और चक्कर आने के पीछे हो सकते हैं ये 10 कारण, न करें नजरअंदाज

गर्मियां आ रही है और लोगों को इस मौसम में थकान, कमजोरी और चक्कर आने जैसी कई समस्याएं होती हैं। लेकिन कभी आपने सोचा है कि इसकी पीछे क्या कारण है। दरअसल,  गर्मियों में शरीर में इलेक्ट्रोलाइट की कमी से कई समस्याएं होती है। इसके कारण शरीर में दर्द होता है और मांसपेशियों में खिंचाव होने लगती है। लेकिन इसके अलावा भी शरीर में कमजोरी, थकान और चक्कर आने के कई कारण हो सकते हैं। जिसके बारे में जानने के लिए हमने डॉ. डी.पी पांडे, अंजता हॉस्पिटल, लखनऊ से बात की। तो, आइए विस्तार से जानते हैं  थकान, कमजोरी और चक्कर आने के 10 कारण और बचाव के उपाय। 

inside_diziness

थकान, कमजोरी और चक्कर आने के 10 कारण-Reasons for dizziness and fatigue in hindi

1. डिहाइड्रेशन

डिहाइड्रेशन तब होता है जब आपके शरीर में पर्याप्त तरल पदार्थ नहीं होता है। अगर आप पर्याप्त पानी नहीं पीते हैं तो आपके शरीर में पानी की कमी हो सकती है। विशेष रूप से सच है जब आप गर्म मौसम में बाहर होते हैं या व्यायाम करते हैं। निर्जलीकरण के लक्षणों में ही आप 

डिहाइड्रेशन का इलाज करने के लिए, पानी जैसे तरल पदार्थ या ग्लूकॉज जैसे इलेक्ट्रोलाइट आदि पिएं। अगर आप गंभीर रूप से डिहाइड्रेटेड हैं, तो आपको तरल पदार्थों के लिए अस्पताल जाने की आवश्यकता हो सकती है।

2. मोशन सिकनेस

कार, हवाई जहाज या नाव जैसे वाहन में होने से दोहराव गति, आंतरिक कान की संरचनाओं को बाधित कर सकती है, जिससे चक्कर आना, मतली और उल्टी हो सकती है। लोग इसे "मोशन सिकनेस"  कहते हैं। गर्भवती होने या कुछ दवाएं लेने से व्यक्ति की गति के प्रति संवेदनशीलता बढ़ सकती है और मोशन सिकनेस का अनुभव होने का खतरा बढ़ सकता है। मोशन सिकनेस के लक्षण आमतौर पर कम हो जाते हैं जब व्यक्ति ठोस जमीन पर पैर रखता है।

इसे भी पढ़ें: सिर में अंदरूनी चोट लगने के होते हैं ये 6 कारण, जानें लक्षण, खतरे और इलाज

3. माइग्रेन

माइग्रेन एक प्रकार का आवर्ती सिरदर्द है जो सिर के एक तरफ धड़कते या धड़कने वाला दर्द पैदा कर सकता है। अमेरिकन माइग्रेन फाउंडेशन का अनुमान है कि 30-50% लोगों को माइग्रेन के दौरान चक्कर आने का अनुभव होता है। कभी-कभी, लोगों को माइग्रेन होने से की शुरुआत से पहले चक्कर आने का अनुभव होता है। अन्य तंत्रिका संबंधी लक्षण, आयु, माइग्रेन के सिरदर्द के दर्द से पहले हो सकते हैं। 

4. लो ब्लड प्रेशर

लो ब्लड प्रेशर  से सिर में हल्कापन महसूस हो सकता है। दरअसल, ब्लड प्रेशर का बढ़ना और घटना आपके शरीर और मस्तिष्क में अचानक से बदलाव का कारण बनती है। लो ब्लड प्रेशर के कई कारण हो सकते हैं जैसे कि स्ट्रेस, एंग्जायटी, दवाओं का सेवन, गैस और डिहाईड्रेशन। 

5. आयरन की कमी

थकान, कमजोरी और चक्कार आना  तीनों आयरन की कमी के लक्षण हो सकते हैं। ऐसे में आयरन से भरपूर आहार खाने से एनीमिया के लक्षणों को कम किया जा सकता है। साथ ही आयरन की खुराक लेने से आयरन की कमी वाले एनीमिया के हल्के रूपों का इलाज करने में मदद मिल सकती है। लेकिन अगर ये लक्षण बढ़ जाए तो आपको डॉक्टर की मदद लेनी पड़ सकती है। 

इसे भी पढ़ें : किडनी की समस्या कैसे डालती है आपके दिल के स्वास्थ्य पर असर? एक्सपर्ट से जानें दोनों में कनेक्शन

6. लो ब्लड शुगर

ऊर्जा के लिए आपके शरीर को चीनी की आवश्यकता होती है, जिसे ग्लूकोज भी कहा जाता है। जब आपका ब्लड शुगर लेवल कम हो जाता है, तो आप चक्कर, कांपने और थके हुए हो सकते हैं। लो ब्लड शुगर अक्सर डायबिटीज के इलाज के लिए उपयोग की जाने वाली इंसुलिन और अन्य दवाओं का एक दुष्प्रभाव होता है। ये दवाएं ब्लड शुगर को कम करती हैं, लेकिन अगर खुराक सही नहीं है तो आपका ब्लड शुगर बहुत अधिक गिर सकता है। अगर आपको डायबिटीज नहीं है तो आपको हाइपोग्लाइसीमिया भी हो सकता है। यह तब हो सकता है जब आपने कुछ समय से कुछ नहीं खाया हो या आप बिना खाए शराब पीते हैं। ऐसे में कार्बोहाइड्रेट का तेजी से काम करने वाला स्रोत लो ब्लड शुगर को दूर कर सकता है। ऐसे में पहले तो एक गिलास फलों का रस पियें या एक कैंडी खाएं। अपने  ब्लड शुगर के स्तर को बढ़ाने के लिए अधिक पौष्टिक भोजन के साथ इसका पालन करें। अगर आपको अक्सर हाइपोग्लाइसीमिया हो जाता है, तो आपको अपनी डायबिटीज की दवा की आवश्यकता हो सकती है। इसके अलावा दिन भर में छोटे-छोट भोजन करना आपके ब्लड शुगर को स्थिर रखने में मदद कर सकता है।

inside_lowbloodsugar

7. महिलाओं में प्रेग्नेंसी और पीरियड्स में 

महिलाओं में प्रेग्नेंसी और पीरियड्स के दौरान चक्कर आना और कमजोरी के लक्षण महसूस हो सकते हैं। दरअसल, इन दोनों ही स्थितियों में शरीर का काम-काज सुस्त होता है और बीमार जैसा भी महसूस करते हैं। इसलिए आपको इस दौरान ये सब महसूस हो सकता है। इससे बचने के लिए अपनी डाइट सही करें। 

8. क्रोनिक थकान सिंड्रोम (सीएफएस)

थकान सीएफएस का मुख्य लक्षण है, और यह इतना गंभीर हो सकता है कि यह रोजमर्रा के कार्यों को करने में कठिनाई पैदा करता है। थकान और चक्कर आने के अलावा, सीएफएस से ग्रसित व्यक्ति को नींद की समस्या, मांसपेशियों या जोड़ों का दर्द, सिर दर्द और गले में खराश की समस्या भी महसूस हो सकती है। 

9. बहुत जल्दी खड़े हो जाना (ऑर्थोस्टेटिक हाइपोटेंशन)

इसका चिकित्सा नाम ऑर्थोस्टेटिक हाइपोटेंशन है, जिसे पोस्टुरल हाइपोटेंशन भी कहा जाता है। जब आप बैठने या लेटने से उठते हैं, तो ये आपको हो सकता है। इस दौरान खून आपके मस्तिष्क तक पर्याप्त तेजी से न पहुंच पाता है। साथ ही आपको चक्कर आता है।

10. दवाएं

कुछ दवाओं के साइड इफेक्ट के रूप में आप चक्कर आना और थकान महसूस कर सकते हैं। खास कर कि डिप्रेशन, बीपी, शुगर और पेनकिलर से। ऐसे में डॉक्टर को इस बारे नें बताए और अपनी दवाओं में कुछ बदलाव कवाने की कोशिश करें। कोशिश करें कि ऐसा महसूस होते ही अपने डॉक्टर को तुरंत सूचित करें।

तो, इन 10 कारणों से आपके शरीर में चक्कर आने, थकान औक कमजोरी की समस्या हो सकती है। ऐसी स्थितियों को आपको नजरअंदाज नहीं करना चाहिए और आपको अपने डॉक्टर से बात करना चाहिए। साथ ही इससे बचने के लिए डाइट और एक्सरसाइज को भी सही करें क्योंकि खराब लाइफस्टाइल इन तमाम चीजों को ज्यादा प्रभावित करता है। तो, हेल्दी खाएं, एक्सरसाइज करें और इन समस्याओं से बचे रहें। 

all images credit: freepik

Disclaimer