सिर्फ पुरुषों को ही होता है ये 3 कैंसर, लक्षणों को पहचान कर समय पर कराएं इलाज

महिला और पुरुष दोनों को कैंसर हो सकता है। लेकिन कुछ ऐसे कैंसर होते हैं, जो सिर्फ पुरुष को प्रभावित करता है। चलिए जानते हैं उन कैंसर के बारे में-

Kishori Mishra
Written by: Kishori MishraPublished at: Jun 29, 2021
सिर्फ पुरुषों को ही होता है ये 3 कैंसर, लक्षणों को पहचान कर समय पर कराएं इलाज

कैंसर का नाम सुनते ही सबके मन में एक डर बैठ जाता है। कैंसर शरीर के किसी भी ऊतक या अंग से शुरू होता है, जो धीरे-धीरे पूरे शरीर को प्रभावित करने लगता है। पूरी दुनिया में मौत का दूसरा मुख्य कारण कैंसर है। ब्रेस्ट कैंसर, थायराइड कैंसर, सर्वाइकल कैंसर जैसे कैंसर से महिलाएं सबसे ज्यादा प्रभावित होती हैं। वहीं, फेफड़ों, प्रोस्टेट, पेट और लिवर के कैंसर से पुरुष सबसे ज्यादा प्रभावित होते हैं। इसके अलावा कुछ ऐसे कैंसर हैं, जिससे सिर्फ पुरुष ही प्रभावित होते हैं। आज हम आपको इस लेख में ऐसे ही तीन कैंसर के बारे में बताने जा रहे हैं, जिससे सिर्फ पुरुष ही प्रभावित होते हैं। चलिए जानते हैं उन कैंसर के बारे में -

प्रोस्टेट कैंसर

प्रोस्टेट कैंसर पुरुषों को होने वाली सबसे आम बीमारी है। यह कैंसर किसी भी उम्र के पुरुष को हो सकता है। लेकिन मध्यम से अधिक उम्र के पुरुषों में प्रोस्टेट कैंसर की समस्या ज्यादा देखी गई है। पुरुषों में प्रोस्टेट नामक ग्रंथि होती है, जिससे टेस्टोस्टेरोन हार्मोन और वीर्य का उत्पादन होता है। एक्सपर्ट के मुताबिक, जब पुरुषों के प्रोस्टट में कोशिकाओं की असामान्य रूप से वृद्धि होने लगती है और इसमें ट्यूमर बनने लगता है, तो यह समस्या प्रोस्टेट कैंसर कहलाती है। इसके कारण पुरुषों के मूत्र प्रणाली में समस्या उत्पन्न होने लगती है। 

इसे भी पढ़ें - पित्त की थैली में कैंसर के लक्षण, कारण और बचाव के टिप्स

प्रोस्टेस्टे कैंसर के शुरुआत में कोई विशेष लक्षण नहीं दिखते हैं, लेकिन जैसे-जैसे समय समस्या बढ़ती है, जो पुरुषों की हड्डियों में दर्द, यूरिन पास होने में परेशानी और यूरिन में रक्त आने जैसी समस्या देखी जा सकती है। हेल्दी लाइफस्टाइल अपनाकर प्रोस्टेट को बढ़ने से रोका जा सकता है।

कैसे करें प्रोस्टेट कैंसर का बचाव

  • हाई कैलोरी फूड्स का न करें सेवन।
  • रोजाना फल और सब्जियों का करें सेवन।
  • शराब और धूम्रपान से रहें दूर।
  • नियमित रूप से करें एक्सरसाइज

अंडकोष में कैंसर

पुरुषों के अंडकोष की कोशिकाएं असामान्य रूप से बढ़ने की समस्या को वृषण या अंडकोष कैंसर कहते हैं। यह पुरुषों को होने वाली सबसे घातक बीमारी है। इसके प्रति लोगों में कम जागरुकता है, इसलिए यह और ज्यादा घातक हो गई है। हालांकि, अगर शुरुआत में ही इसके लक्षणों को पहचान लिया जाए, तो इसका इलाज संभव है। अंडकोष का मुड़ना, वृषण में दर्द होना, अंडकोष की थैली का बड़ा होना, अंडकोष में भारीपन महसूस होना जैसे लक्षण (Testicular Cancer symptoms) महसूस होते हैं। इस समस्या का समय पर इलाज कराना बेहद जरूरी है। बहुत से पुरुष शर्मिंदगी की वजह से डॉक्टर के पास जाकर अपना इलाज नहीं करवाते हैं, जो आगे चलकर उनके लिए गंभीर समस्या बन जाती है।  

इसे भी पढ़ें - किन कारणों से होता है जीभ का कैंसर? जानें लक्षण, कारण और इला

पेनिस कैंसर

यह कैंसर पुरुषों में होने वाली दुर्लभ बीमारी है। पेनिस कैंसर भारतीय पुरुषों के गुप्तांग में होने वाली सबसे आम बीमारी है। हालांकि, बुजुर्ग पुरुष इस कैंसर से सबसे ज्यादा पीड़ित होते हैं। उम्र बढ़ने के साथ-साथ इस  बीमारी की खतरा ज्यादा रहता है। पेनिस में शारीरिक तरल पदार्थ रह जाने की वजह से पेनिस कैंसर होने का खतरा ज्यादा रहता है। साथ ही धूम्रपान और शराब पीने वाले पुरुषों को पेनिस कैंसर का खतरा अन्य पुरुषों की तुलना में ज्यादा होता है। पेनिस के आसपास गांठ होना इसका प्रमुख लक्षण होता है। यह गांठ पेनिस के अंदर या बाहर कहीं भी हो सकता है। इसके अलावा (Penis cancer symptoms) पेनिस से खून बहना, पेनिस के ऊपरी स्किन पर रैशेज होना, फोरस्किन से बदबू आना और फोरस्किन को पीछे करने में दिक्कत का सामना करना पड़ता है।

पेनिस कैंसर का बचाव

  • सेक्स के दौरान कंडोम का इस्तेमाल करें।
  • संबंध बनाने के बाद प्राइवेट पार्ट की अच्छे से सफाई करें।
  • लंबे समय के लिए फोरस्किन को पीछे की ओर न झुकाएं।
  • धूम्रपान और शराब का सेवन न करें।

कैंसर के कारण हर साल लाखों लोगों की जान जाती है। इसलिए कैंसर के प्रति जागरुक होना बहुत ही जरूरी है। साथ तौर पर प्राइवेट पार्ट्स में होने वाले कैंसर का इलाज करवाने से लोग कतराते हैं। क्योंकि उन्हें अपनी समस्याओं को शेयर करने में शर्मिंदगी महसूस होती हैं। ऐसे लोगों को यह समझना जरूरी है कि पहले जान जरूरी है। शर्मिंदगी से आप सिर्फ अपने खतरे को बढ़ा रहे हैं, जो आपके लिए काफी घातक साबित हो सकता है।

Read More Articles On Cancer In Hindi

Disclaimer