कमर के आसपास जमा चर्बी (बेली फैट) से बढ़ता है हार्ट की बीमारियों का खतरा, डॉक्टर से जानें कारण और बचाव के उपाय

रिसर्च के मुताबिक सामान्य वजन होने के बावजूद अगर आपके कमर और पेट के आसपास बेली फैट जमा है तो इससे आपको दिल से जुड़ी बीमारी का खतरा रहता है।

Prins Bahadur Singh
Written by: Prins Bahadur SinghPublished at: Oct 05, 2021
कमर के आसपास जमा चर्बी (बेली फैट) से बढ़ता है हार्ट की बीमारियों का खतरा, डॉक्टर से जानें कारण और बचाव के उपाय

आज के समय में भागदौड़ भरी जिंदगी में लोगों का खानपान और लाइफस्टाइल दोनों ही बदल गया है। खराब जीवनशैली और असंतुलित खानपान के कारण तमाम लोग मोटापे की समस्या से पीड़ित हैं। मोटापे की समस्या के कारण शरीर में तमाम प्रकार की बीमारियों का खतरा बढ़ जाता है। असंतुलित खानपान के कारण ही कई लोगों में यह समस्या देखने को मिलती है कि उनका वजन तो संतुलित है लेकिन पेट का साइज बढ़ गया है। हाल ही में अमेरिकन हार्ट एसोसिएशन द्वारा जारी एक बयान के मुताबिक अगर आपका वजन शरीर की लंबाई के अनुपात में सामान्य है लेकिन आपका पेट निकला हुआ है तो आपको दिल से जुड़ी बीमारी का जोखिम हो सकता है। इस सर्कुलर में कहा गया है कि बियर बेली या बेली फैट आपको दिल से जुड़ी बीमारियों का शिकार बना सकती है। आइये विस्तार से जानते हैं इस समस्या के बारे में।

विसरल फैट के कारण दिल की बीमारी का जोखिम

Belly-Fat-And-Risk-of-Heart-Disease

(image source - freepik.com)

हार्वर्ड मेडिकल हेल्थ में प्रकाशित इस रिपोर्ट के मुताबिक अगर आपका वजन और लंबाई का अनुपात सामान्य है और उसके बाद भी आपके कमर के आसपास फैट जमा है तो आपको दिल से जुड़ी गंभीर बीमारियों का जोखिम हो सकता है। बेली फैट यानी कमर के आसपास चर्बी जमा होना बिलकुल भी सामान्य नहीं माना जाता है। इसकी वजह से आपको कई समस्याएं हो सकती हैं। सामान्य भाषा में हम पेट के आसपास जमा चर्बी को अन्हेल्दी फैट या बेली फैट कहते हैं। इसे मेडिकल साइंस की भाषा में विसरल फैट कहा जाता है। इसकी वजह से आपको दिल से जुड़ी गंभीर बीमारियों के अलावा टाइप 2 डायबिटीज और कैंसर जैसी गंभीर बीमारियों का खतरा हो सकता है। वहीं बेली फैट को लेकर गोंडा जिला चिकित्सालय के कार्डियोलॉजिस्ट डॉ आर के यादव का कहना है कि भले ही आपका वजन कम हो या अधिक न हो लेकिन अगर आपके कमर और पेट के आसपास विसरल फैट जमा है तो इसकी वजह से आपको कार्डियोवैस्कुलर डिजीज का खतरा हो सकता है। ऐसे लोग जो बेली फैट वाले हैं उन्हें बिना बेली फैट के मोटे लोगों से अधिक खतरा होता है।

इसे भी पढ़ें : World Heart Day: युवाओं में द‍िल की बीमारी की ओर संकेत करते हैं ये 5 लक्षण, जानें कैसे रखें हार्ट को हेल्‍दी

Belly-Fat-And-Risk-of-Heart-Disease

(image source - freepik.com)

हार्ट अटैक का भी है खतरा 

अमेरिकन हार्ट एसोसिएशन के रिपोर्ट के मुताबिक अगर आपका वजन संतुलित है लेकिन पेट और कमर के आसपास विसरल फैट जमा है तो इसकी वजह से आपको हार्ट अटैक का खतरा हो सकता है। पेट के आसपास के हिस्से में जमा फैट साइटोकीन केमिकल के निर्माण का कारण बनता है जिसकी वजह से शरीर में इंसुलिन का स्तर प्रभावित होता है। साइटोकीन केमिकल के बनने से इंसुलिन का स्तर तो प्रभावित ही होता है और इसके साथ ही ब्लड प्रेशर पर भी नकारात्मक प्रभाव पड़ता है। इसके कारण बेली फैट वाले लोगों को हार्ट अटैक का भी खतरा रहता है।

जानें बचाव और जरूरी बातें

हाल ही में सफोलालाइफ द्वारा किये गए एक नए अध्ययन की मानें तो सिर्फ देश की राजधानी दिल्ली में ही 45 साल से कम उम्र वाले लोगों में 10 में से 7 लोगों को बेली फैट है। इस स्टडी में कहा गया है कि पेट की चर्बी वाली 66 फीसदी महिलाओं को दिल की बीमारियों का खतरा पुरुषों से ज्यादा है। सबसे अहम बात यह है कि इसके बारे में ज्यादातर लोगों को जानकारी नहीं है। हमारी बीएमआई से स्वास्थ्य का पता लगाया जा सकता है लेकिन सामान्य बीएमआई वाले लोगों में भी पेट की चर्बी इकट्ठा हो जाती है। जिसके कारण दिल से जुड़ी बीमारियों का खतरा बढ़ जाता है। एक्सपर्ट्स के मुताबिक महिला के पेट का घेरा 80 सेमी से अधिक नहीं होना चाहिए और पुरुष का 90 सेमी से अधिक नहीं होना चाहिए। पेट की चर्बी को कम करने के लिए संतुलित आहार का सेवन और नियमित रूप से शारीरिक गतिविधियों में भाग लेना चाहिए। पेट की चर्बी कम करने के लिए इन बातों का ध्यान जरूर रखें।

इसे भी पढ़ें : World Heart Day 2021: क्या लंबे समय तक गर्भनिरोधक दवाएं लेने से दिल की सेहत पर पड़ता है असर? जानें डॉक्टर से

  • हफ्ते में कम से कम एक दिन कार्ब्स के सेवन से बचें।
  • तनाव और मानसिक समस्याओं से बचाव करें।
  • ताजे फल और सब्जियों का सेवन करें।
  • भोजन में इस्तेमाल होने वाले तेलों का चुनाव करते समय फैट का ध्यान रखें।
  • स्मोकिंग करने से बचें
  • ब्लड शुगर के स्तर को नियंत्रित रखें।
  • हरी और कड़वी सब्जियों का सेवन करें।
  • रोजाना एक्सरसाइज या योग का अभ्यास करें।
  • अधिक मात्रा में मिठाई का सेवन न करें।
  • वनस्पति घी और ट्रान्स फैट के सेवन से बचें।
  • अल्कोहल के सेवन से बचें।
  • प्रोसेस्ड फूड के सेवन से बचें।
  • एक बार में अधिक भोजन करने के बजाय कई बार में भोजन करें।
Belly-Fat-And-Risk-of-Heart-Disease
(image source - freepik.com)

ऊपर बताई गयी बातों का ध्यान रखकर आप बेली फैट जमा से बचाव कर सकते हैं। इसके अलावा खानपान और जीवनशैली से जुड़ी आदतों में बदलाव कर आप दिल से जुड़ी गंभीर बीमारियों से बचाव कर सकते हैं। कमर व पेट के आसपास जमा होने वाली चर्बी आपकी सेहत के लिए ठीक नहीं होती है। इनके कारण दिल से जुड़ी गंभीर बीमारियों का खतरा बना रहता है। दिल से जुड़ी बीमारियों के लक्षण दिखने पर डॉक्टर से संपर्क जरूर करें।

अमेरिकन हार्ट एसोसिएशन की रिपोर्ट पढने के लिए यहां क्लिक करें।

(main image source - freepik.com)

Disclaimer