World Heart Day: युवाओं में द‍िल की बीमारी की ओर संकेत करते हैं ये 5 लक्षण, जानें कैसे रखें हार्ट को हेल्‍दी

कम उम्र में हार्ट के मरीज तेजी से बढ़ रहे हैं ऐसे में आपको उन लक्षणों पर गौर करना चाह‍िए ज‍िनसे हार्ट की बीमारी का पता चलता है 

Yashaswi Mathur
Written by: Yashaswi MathurPublished at: Sep 22, 2021
World Heart Day: युवाओं में द‍िल की बीमारी की ओर संकेत करते हैं ये 5 लक्षण, जानें कैसे रखें हार्ट को हेल्‍दी

डॉक्‍टरों के मुताब‍िक भारत समेत व‍िश्‍व भर में कम उम्र के लोगों में हार्ट की बीमारी तेजी से बढ़ रही है इसका कारण है खराब जीवनशैली। बाहर का खाना, कसरत के ल‍िए समय नहीं निकालना, पर्याप्‍त मात्रा में जरूरी पोषक तत्‍वों का सेवन नहीं करना आद‍ि कुछ कारण है ज‍िसके चलते युवा वर्ग द‍िल की बीमारी के श‍िकार होते जा रहे हैं। कम उम्र में द‍िल की बीमारी के लक्षण सामान्‍य ही लगते हैं पर समय के साथ समस्‍या बढ़ने लगती है इसल‍िए आपको लक्षण नजर आने पर तुरंत इलाज करना चाह‍िए। हार्ट की बीमारी से बचने के ल‍िए युवाओं को हेल्‍दी डाइट, एक्‍सरसाइज को फॉलो करना चाह‍िए। समय पर सोना, स्‍मोकिंग अवॉइड करने जैसी आदतों को अपनाना चाह‍िए। इस लेख में हम ये जानेंगे क‍ि कम उम्र में हार्ट से जुड़ी बीमारी होने के क्‍या लक्षण होते हैं और उनसे कैसे बचा जा सकता है। इस व‍िषय पर ज्‍यादा जानकारी के ल‍िए हमने लखनऊ के पल्‍स हॉर्ट सेंटर के कॉर्ड‍ियोलॉज‍िस्‍ट डॉ अभ‍िषेक शुक्‍ला से बात की।

heart disease in young age

(image source:ruggedstandard)

युवाओं में द‍िल की बीमारी के लक्षण (Symptoms of heart disease in youngsters)

अगर हम कुछ लक्षणों को शुरूआती दौर में पकड़ लें तो द‍िल की गंभीर बीमारी को बढ़ने से रोका जा सकता है इसल‍िए आपको इन लक्षणों पर गौर करना चाह‍िए-

1. पसीना आना (Sweating)

अगर आपको सामान्‍य से ज्‍यादा पसीना आ रहा है तो ये हार्ट की बीमारी के संकेत हो सकते हैं। ज्‍यादा गर्मी या ज्‍यादा शारीर‍िक व्‍यायाम करने से भी पसीना आता है पर जब ब‍िना शारीर‍िक क्रिया क‍िए बगैर ही आपको पसीना आए तो समझ जाइए क‍ि ये हार्ट की बीमारी के संकेत हो सकते हैं।

इसे भी पढ़ें- World Heart Day: दिल की सेहत के साथ अपनी जेब का भी रखें ध्यान, खाएं ये 5 हार्ट हेल्दी फूड्स

2. हार्टबर्न होना (Heart burn)

द‍िल से जुड़ी बीमारी में हार्टबर्न एक कॉमन लक्षण माना जाता है। वहीं कुछ लोगों को चक्‍कर आने जैसे लक्षण नजर आते हैं तो भी ये दिल की बीमारी के संकेत हो सकते हैं। स‍िर घूमना, बेहोश होना या ज्‍यादा थकान होना भी द‍िल की बीमारी के संकेत माने जाते हैं। पेट में दर्द होना या पाचन से जुड़े लक्षणों को भी हार्ट की बीमारी का लक्षण माना जाता है। जो मरीज हार्ट की बीमारी से पीड़‍ित होते हैं उनका दर्द बाएं कंधे में भी होने लगता है और फ‍िर दर्द धीरे-धीरे नीचे आता है।

3. छाती में बेचैनी महसूस होना (Discomfort in chest)

heart burn

(image source:self.com)

अगर आपको छाती में बेचैनी महसूस हो रही है तो ये हार्ट अटैक का लक्षण हो सकता है। छाती में बेचैनी महसूस होने का मतलब ये भी हो सकता है क‍ि आर्टरी ब्‍लॉक हो रही हो। छाती में दबाव या ख‍िंचाव महसूस हो तो आपको डॉक्‍टर से संपर्क करना चाह‍िए। सांस लेने में द‍िक्‍कत होने पर भी आपको डॉक्‍टर को दिखाना चाह‍िए क्‍योंक‍ि ये हार्ट फेल का बड़ा लक्षण हो सकता है।

4. गले में कफ जमना (Cough in throat)

अगर आपको कई द‍िनों से खांसी या जुकाम है और थूक सफेद या गुलाबी रंग की है तो ये हार्ट की बीमारी के लक्षण हो सकते हैं। हार्ट फेल होने पर ये लक्षण नजर आते हैं इसलि‍ए क‍िसी भी लक्षण को नजरअंदाज न करें। छोटे लक्षण के पीछे बड़ी बीमारी छुपी हो सकती है। कुछ मरीजों को कफ के साथ गर्दन में दर्द या जबड़े में दर्द की समस्‍या भी हो सकती है, ऐसा लक्षण नजर आने पर तुरंत डॉक्‍टर से संपर्क करें।

5. पैरों में सूजन होना (Swelling in leg)

अगर आपके एंकल में सूजन है तो इसका मतलब है क‍ि हार्ट में ब्‍लड सर्कुलेशन ठीक नहीं है और ये बीमारी का एक संकेत हो सकता है, आपको डॉक्‍टर से सलाह लेनी चाह‍िए। एंकल के अलावा तलवों में या टखनों में भी सूजन आ सकती है। अगर आपकी उम्र कम है और कमर या हाथ में दर्द होता है तो आपको डॉक्‍टर से संपर्क करना चाह‍िए, ये भी द‍िल की बीमारी के लक्षण हो सकते हैं। 

इसे भी पढ़ें- घर में हार्ट के मरीज हैं तो जानें बढ़ती उम्र में कैसे रखें उनके दिल की सेहत का खयाल, ये 6 टिप्स आएंगे काम

हार्ट की बीमारी से बचने के लि‍ए आंवला खाएं (Eat amla to prevent heart disease in young age)

amla drink

(image source:google.com)

आपको द‍िल की बीमारी से बचने के ल‍िए आंवला का सेवन करना चाह‍िए। आंवला को आप मुरब्‍बे या पाउडर के फॉर्म में गर्मी के द‍िनों के लि‍ए सेव कर सकते हैं। आंवले का अचार बनाकर भी आप हर सीजन में खा सकते हैं। इसके अलावा आपको मौसमी फल और ताजा सब्‍ज‍ियों का सेवन भी करना चाह‍िए। आपको अपनी डाइट में सलाद, स्‍प्राउट्स, सब्‍ज‍ियों का सूप, पनीर, छाछ को शाम‍िल करना चाह‍िए। 

युवा वर्ग हार्ट की बीमारी से बचने के लि‍ए तनाव कम करें (Reduce stress to avoid heart disease in young age)

आज के समय में खराब जीवनशैली के कारण युवाओं में तनाव बढ़ता जा रहा है। तनाव के कई कारण हो सकते हैं पर आपको रोजाना मेड‍िटेशन करना चाह‍िए। इसके साथ ही आपको योगा को भी अपने रूटीन में शाम‍िल करना चाह‍िए। कुछ युवा देर तक इलेक्‍ट्रोन‍िक उपकरण या गैजेट्स यूज करते हैं ज‍िसके कारण तनाव बढ़ता है और द‍िल की बीमारी का खतरा बढ़ सकता है इसल‍िए आपको गैजेट्स का इस्‍तेमाल कम से कम करना चाह‍िए। इसके अलावा रात को देर से सोने के कारण अगले द‍िन कसरत करने की एनर्जी नहीं रहती है इसल‍िए आपको समय पर सोने की आदत भी होनी चाह‍िए।

युवावस्‍था में हार्ट की बीमारी से कैसे बचें? (How to prevent heart disease in young age)

heart disease in youngsters

(image source:cardiaccenter)

  • हार्ट की बीमारी से बचने के ल‍िए बीपी और कोलेस्‍ट्रॉल को कंट्रोल रखें। 
  • कम उम्र में कोलेस्‍ट्रॉल की मात्रा को कंट्रोल करने के ल‍िए आपको सोड‍ियम इंटेक कम करना चाह‍िए।
  • कम उम्र में शराब का सेवन भी आपके हार्ट को बीमार कर सकता है इती है इसल‍िए स्‍मोकिंग से दूर रहें। 
  • बाहर का ऑयली या जंक फूड न खाएं इससे सोड‍ियम और ट्रांस फैट दोनों की मात्रा आपके शरीर में बढ़ सकती है।
  • आपको हार्ट की बीमारी से बचने के ल‍िए रोजाना कम से कम 40 म‍िनट कसरत करनी चाह‍िए। 
  • हार्ट की बीमारी से बचने के लि‍ए आपको ट्रांस फैट, सैचुरेटेड फैट, एडड शुगर का सेवन नहीं करना है। 

अगर आपको भी हार्ट की बीमारी के संकेत नजर आते हैं तो देर न करें तुरंत डॉक्‍टर के पास जाकर चेकअप करवाएं।

(main image source:homeremedies)

Read more on Heart Health in Hindi 

Disclaimer