ब्रेसेस Vs अलाईनर्स: टेढ़े-मेढ़े दांतों को सुधारने के लिए क्‍या है सही विकल्‍प, जानें डेंटिस्‍ट की राय

टेढ़े-मेढ़े दांत आपके चेहरे की खूबसूरती कम कर देते हैं। लेकिन इसे ठीक किया जा सकता है। आइए जानते हैं इसे ठीक करने के तरीके। 

Atul Modi
Written by: Atul ModiPublished at: Dec 16, 2019Updated at: Dec 16, 2019
ब्रेसेस Vs अलाईनर्स: टेढ़े-मेढ़े दांतों को सुधारने के लिए क्‍या है सही विकल्‍प, जानें डेंटिस्‍ट की राय

शादियों का मौसम साल का सबसे ज्यादा प्रतीक्षित समय होता है। इस दिसंबर में जहां शादियों की खुशियां चरम पर हैं, हममें से अनेक लोग सबसे अच्छा दिखने की तैयारी में लगे हैं। शादी के दिन ऐसा कौन सा व्यक्ति है, जो सर से लेकर पैर तक सबसे ज्यादा खूबसूरत दिखना नहीं चाहेगा। लेकिन यदि इस अवसर की पूरी तैयारी कर लेने के बाद भी आपके टेढ़े मेढ़े और कुरूप दांतों की वजह से आपकी खूबसूरती पर दाग लगने लगे तो आपको अच्छा नहीं लगेगा। जी हां, आपको बहुत बुरा लगेगा।

टेढ़े-मेढ़े और कुरूप दांत आजकल बहुत आम हो गए हैं। कई बच्चे और व्यस्क ऐसे दांतों का शिकार होते हैं, जिससे न केवल उनका ओरल स्वास्थ्य प्रभावित होता है, बल्कि उनकी स्माइल, खूबसूरती, व्यक्तित्व एवं आकर्षण पर दाग भी लग जाता है। लेकिन यदि आपको अपने दांतों का टेढ़ा-मेढ़ा होना पसंद नहीं, तो आप ब्रेसेस लगवाकर उन्हें ठीक कर सकते हैं। किंतु प्रश्न यह उठता है कि क्या आप मेटल वायर के वो ब्रेसेस इस समय पहनना पसंद करेंगे, जब आप सबका आकर्षण बनना चाहते हैं। 

क्या आपको यह डर है कि शादियों के एलबम में ये मेटल ब्रेसेस आपकी स्माइल को खराब कर देंगे? तो एक अच्छी खबर यह है कि लेटेस्ट एवं उन्नत टेक्‍नोलॉजी के साथ डेंटिस्ट्री में भी आपके लिए बेहतर विकल्पों का विकास हो चुका है, जिन्हें 'अलाईनर्स' कहते हैं।

dental

क्‍लोव डेंटल के सीसीओ, लेफ्टिनेंट जनरल डॉ. विमल अरोड़ा के मुताबिक, "अलाईनर्स नए व आधुनिक युग के ब्रेस हैं, जो नियामक इकाईयों द्वारा अनुमोदित सर्वश्रेष्ठ प्लास्टिक्स से बने हैं। ये उन मरीजों के लिए बेहतरीन विकल्प हैं, जो ब्रैकेट्स या वायर का इस्तेमाल करना नहीं चाहते तथा पारंपरिक ब्रेसेस के मुकाबले आधुनिक इलाज को प्राथमिकता देते हैं। अलाईनर्स टेढ़े-मेढ़े दांतों के 80 प्रतिशत मामलों को ठीक कर सकते हैं। ये हर व्यक्ति के लिए कंप्यूटर द्वारा कस्टमाईज किए जाते हैं तथा दांतों को थोड़ा सा सरकाने के लिए डिजिटल इंप्रेशन एवं उन्नत टेक्‍नोलॉजी का उपयोग करते हैं।" 

अलाईनर्स इस्तेमाल में आसान क्यों होते हैं?

अलाईनर्स बेहतर एस्थेटिक्स के कारण दिखने में ज्यादा खूबसूरत होते हैं। मरीज को अलाईनर्स का उपयोग पारंपरिक ब्रेस के मुकाबले कम समय के लिए करना पड़ता है। अलाईनर्स इस्तेमाल में आसान होते हैं और मरीज इन्हें बिना किसी की मदद के हटा सकता है, ठीक वैसे ही जैसा वह कॉन्‍टैक्‍ट लेंस के मामले में करता है। ये पारंपरिक ब्रेसेस के मुकाबले ज्यादा आरामदायक होते हैं, जिनसे आपके मुंह में कभी कट या चोट लग सकती है।

इसे भी पढ़ें: बहुत ही नाजुक होते हैं शिशु के दांत, इन 5 तरीकों से करें सही देखभाल

अलाईनर्स पारदर्शी होते हैं और इनके द्वारा इलाज का समय आसान, सुविधाजनक एवं कम होता है। ये अदृश्य व किफायती होते हैं तथा इन्हें निकाला जा सकता है। सबसे अच्छी बात यह है कि आप जो कुछ चाहे खा या पी सकते हैं और वो इसमें हिलता नहीं। इन सभी फायदों के साथ लोगों को अक्सर यह दुविधा होती है कि इन्हें इस्तेमाल कैसे करें। हालांकि सही परामर्श एवं मार्गदर्शन द्वारा इनका इस्तेमाल आसान है।

डॉक्‍टर अनिरुद्ध सिंह के मुताबिक, "जब आप पहली बार अलाईनर्स का उपयोग कर रहे हों, तो उन्हें दांतों पर सहारे से दबाते जाएं, जब तक आपको एक चट की आवाज न सुनाई दे और वो आपके मुंह का हिस्सा न महसूस होने लगें। अलाईनर्स पर बहुत सहारे से और कम बल लगाना होता है, अन्यथा अलाईनर्स खराब हो सकते हैं। इन्हें हटाए जाने के लिए व्यक्ति को सीधे उंगलियों द्वारा या फिर अलाईनर्स निकालने वाले 'आऊटी टूल' का उपयोग करना होता है। व्यक्ति को यह सहारे से करना चाहिए, ताकि दांतों या अलाईनर्स को नुकसान न पहुंचे।" 

इसे भी पढ़ें: अपने दांतों का ख्याल कैसे रखना चाहिए, जानें दांतों के स्वास्थ्य से जुड़ी सभी बातें विस्तार से

डॉ. जेसिका कोहेन, ऑर्थोडोंटिस्ट ने कहा, "अलाईनर्स दोबारा लगाने के लिए आपको अपने दांतों पर ब्रश करना होता है। यह याद रखना जरूरी है कि दांतों में फंसे अन्न के कण दांतों को सरकने से रोक सकते हैं और इससे आपके अलाईनर्स पर दाग भी लग सकता है। इससे सांस में बदबू और कैविटीज का खतरा भी बढ़ जाता है।" 

जब अलाईनर्स का उपयोग न हो रहा हो, तो उन्हें सुरक्षित रूप से केस में रखा जाना चाहिए। अलाईनर्स को दिन में 23 घंटे पहनें और सर्वश्रेष्ठ परिणाम के लिए उन्हें केवल तभी हटाएं, जब आप खाना खा रहे हों तथा बाकी के समय, दिन हो या रात, उन्हें पहने रखें। यूजर्स को अलाईनर्स का पिछला सेट सुरक्षित रखना चाहिए, जो उस समय उपयोग में आ सकता है, जब वर्तमान सेट को कोई नुकसान हो जाए।

यदि आप ब्रेसेस पहनना नहीं चाहते और सुविधा व आराम के साथ अपने दांत ठीक करना चाहते हैं, तो अलाईनर्स बेहतरीन विकल्प हैं। सही डेंटिस्ट एवं निर्णय के साथ आप अपनी मुस्कुराहट खोए बिना शादी या किसी भी फंक्‍शन में हिस्‍सा ले पाएंगे।

Read More Articles On Other Diseases in Hindi

Disclaimer