Expert

बूंदी रायता vs खीरे का रायता क्या है सेहत के लिए ज्यादा बेहतर

Boondi Raita vs Cucumber Raita Health benefits: भारत में कई तरह के रायते खाए जाते हैं। इन्हीं में से है बूंदी का रायता और खीरे का रायता।

Ashu Kumar Das
Written by: Ashu Kumar DasUpdated at: Oct 14, 2022 13:44 IST
बूंदी रायता vs खीरे का रायता क्या है सेहत के लिए ज्यादा बेहतर

Boondi Raita vs Cucumber Raita: भारत खानपान से समृद्ध देश है। कश्मीर से लेकर कन्याकुमारी तक यहां कई तरह के न सिर्फ पकवान बनते हैं बल्कि इनमें विभिन्नता भी देखी जाती है। उत्तर भारत में पोहे बनते हैं तो दक्षिण भारतीय लोग इडली खाना पसंद करते हैं। लेकिन रायता एक ऐसी साइड डिश है जो पूरे भारत में बहुत ही चाव से खाई जाती है। रायते के तौर पर खाने में दही को शामिल करना हेल्दी और टेस्टी तरीका माना जाता है। यूं तो रायता हेल्दी डिश में शामिल किया जाता है लेकिन इसकी भी बहुत सारी वैरायटी मौजूद हैं। कुछ लोग खाने के साथ बूंदी रायता खाना पसंद करते हैं, तो कुछ लोगों को खाने का स्वाद खीरे के रायते (Cucumber Raita Health benefits) के साथ आता है।

रायते के शौकीन हेल्थ फ्रीक लोग अक्सर ये सवाल पूछते हैं कि आखिरकार बूंदी रायता और खीरे के रायते में कौन सा सेहत के लिए ज्यादा अच्छा है और दोनों में कितनी कैलोरी पाई जाती है। लोगों के इन्हीं सवालों का जवाब जानने के लिए हमने डाइटिशियन मीता कौर मधोक से बातचीत की।

इसे भी पढ़ेंः नहाने के पानी में डालें ये 5 तेल, सेहत के मिलेंगे कई फायदे

boondi-raita-cucumber-raita

बूंदी रायता vs खीरे का रायता क्या है सेहत के लिए क्या है बेहतर

डाइटिशियन मीता कौर मधोक का कहना है कि एक कटोरी में 213 कैलोरी पाई जाती है। वहीं एक कटोरी खीरे के रायते में 90 कैलोरी होती। बूंदी के रायते की तुलना में खीरे का रायता ज्यादा हेल्दी होता है। डाइटिशियन मीता कौर मधोक का कहना है कि बूंदी को बनाने के लिए बेसन को तेल में डीप फ्राई किया जाता है। डीप फ्राई चीजों को दही के साथ खाने से टाइप-2 डायबिटीज समेत कई बीमारियों का खतरा हो सकता है। वहीं, खीरे के रायते में कैलोरी कम होती है। साथ ही खीरा, पानी के साथ-साथ फाइबर, कैल्शियम, मैग्नीशियम, फास्फोरस और पोटैशियम जैसे पोषक तत्वों से भरपूर होता है। खीरे का रायता खाने से न सिर्फ सेहत को भरपूर फायदे मिलते हैं बल्कि ये वजन घटाने में भी मदद कर सकता है।

कब करना चाहिए रायते का सेवन?

डाइटिशियन मीता कौर मधोक का कहना है कि किसी भी रायते को बनाने में दही का इस्तेमाल किया जाता है। दही का सेवन हमेशा दिन में ही करना चाहिए। रात को दही से बनी किसी भी चीज को खाना सेहत के लिए अच्छा नहीं माना जाता है। डाइटिशियन का कहना है कि रायते की कैलोरी कम करने के लिए आप आम दही की बजाय लो फैट दही ले सकते हैं जो बाजार में आजकल आसानी से उपलब्ध है उसका इस्तेमाल कर सकते हैं।

इसे भी पढ़ेंः वेट लॉस के लिए डाइट में शामिल करें सिंघाड़े का आटा, जानें इसके फायदे

वजन घटाने के लिए कैसे करें रायते का सेवन?

जो लोग वजन घटाने की प्लानिंग कर रहे हैं वो रायते को अपनी डाइट में बिना किसी संकोच के शामिल कर सकते हैं। हेल्थ एक्सपर्ट का कहना है कि वजन घटाने के लिए खीरे या लौकी का रायता बेस्ट होता है। वेटलॉस करने के लिए खाना खाने से 1 घंटा पहले रायते का सेवन अच्छा होता है। उनका कहना है कि जो लोग वजन घटाने की प्लानिंग कर रहे हैं उन्हें कभी भी लंच या डिनर के साथ रायता नहीं खाना चाहिए।

Disclaimer