प्रेगनेंसी के दौरान सीने में जलन होने पर पिएं ये 5 हर्बल चाय, दूर होगा हार्टबर्न और मिलेंगे कई फायदे

प्रेग्नेंसी के दौरान सीने में जलन होने पर आप कई तरह की हर्बल चाय पी सकते हैं। इससे सेहत को कई फायदे मिलते हैं। 

Dipti Kumari
Written by: Dipti KumariPublished at: Apr 04, 2022Updated at: Apr 04, 2022
प्रेगनेंसी के दौरान सीने में जलन होने पर पिएं ये 5 हर्बल चाय, दूर होगा हार्टबर्न और मिलेंगे कई फायदे

प्रेग्नेंसी के दौरान पेट दर्द, गैस, अपच और अन्य पेट संबंधी समस्याएं आपको परेशान कर सकती है। इसके अलावा कुछ खाने के बाद उल्टी जैसा लगना और सीने में जलन की दिक्कत आ सकती है। सीने में जलन की परेशानी सुनने में आम लग सकती है लेकिन गर्भावस्था के दौरान सीने में जलन की दिक्कत आपको अधिक परेशान कर सकती है। ऐसा पेट की स्थिति के कारण होता है, जब पेट में एसिड की मात्रा बढ़ जाती है। प्रेग्नेंसी के दौरान आपको एसिड रिफ्लक्स के कारण गले में खराश, डकार, जलन और जी मिचलाने की परेशानी हो सकती है। सीने में जलन होने से कुछ खाने-पीने का मन भी नहीं होता है और आप पूरे दिन बुरे दौर से गुजरते हैं। ऐसे में आप सीने में जलन की समस्या दूर करने के लिए कुछ आर्युवेदिक चाय का इस्तेमाल कर सकते हैं। इसका संयमित मात्रा में सेवन करने से मां और बच्चे दोनों को फायदा होता है और यह मार्निंग सिकनेस और उल्टी की स्थिति में भी आराम दे सकता है। 

इन हर्बल चाय का करें सेवन 

1. पेपरमिंट चाय

पेपरमिंट चाय आपको रिफेश करने का काम करता है और सीने की जलन से भी आराम दिला सकता है। यह आपके पाचन तंत्र को बढ़ावा देता है और कब्ज की समस्या में भी आराम दिलाता है। पुदीने की चाय गर्मियों में जलन, अपच और गैस की समस्या से भी निजात दिला सकता है। साथ ही पेट में अम्लता के लक्षण को कम करते हैं। इसे बनाने के लिए आप दो कप पानी को कुछ देर के लिए उबालें फिर उसमें 6-7 पुदीने की पत्तियां डालकर अच्छे से उबाल लें। आप चाहे तो उसमें सौंफ या अजवाइन के कुछ दाने डाल सकते हैं। फिर इसे एक कप में निकालकर इसका सेवन करें। 

herbal-tea

Image Credit- Freepik

2. अदरक की चाय 

पेट संबंधी कई समस्याओं में अदरक काफी फायदेमंद होता है। इससे सीने में जलन और मार्निंग सिकनेस से भी छुटकारा पाया जा सकता है। अदरक में एंटीऑक्सिडेंट और जिंजरोल से भरपूर होते हैं। अदरक की चाय आपको एसिडिटी से राहत दिलाने में मदद कर सकती है। यह आपके पाचन तंत्र को ठीक करके तनाव से राहत देकर सूजन और कब्ज का भी इलाज कर सकता है, जो पाचन संबंधी समस्याओं के कारणों में से एक है।

3. हल्दी की चाय

गर्भावस्था के दौरान गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल सिस्टम कई प्रकार की समस्या हो सकती है। जैसे, सीने में जलन, सूजन और पेट दर्द की दिक्कतें। इसके लिए आप सुबह हल्दी चाय का सेवन कर सकते हैं। इसमें मौजूद करक्यूमिन में एंटीऑक्सिडेंट पाए जाते हैं, जो आंतों के स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद होते हैं। साथ ही यह एसिड रिफ्लक्स के प्रभाव को कम कर सकते हैं। हल्दी की चाय बनाने के लिए आप दो कप पानी में एक चम्मच हल्दी, तुलसी की कुछ पत्तियां और गुड़ का इस्तेमाल कर सकते हैं। इससे आपके शरीर का इम्यून सिस्टम भी मजबूत होता है। 

इसे भी पढ़ें- गर्भावस्था में गैस और पेट फूलने की समस्या से राहत दिलाएंगे ये 9 घरेलू उपाय

4. सौंफ की चाय 

सीने में जलन और पाचन के लिए सौंफ बेहद फायदेमंद होता है। कई लोग लंच या डिनर के बाद सौंफ चबाना पसंद करते हैं। आपने होटल में भी देखा होगा कि खाना खाने के बाद सौंफ और मिश्री भोजन के पाचन के लिए दी जाती है। ऐसे में सौंफ कई तरीकों से आपकी पाचन संबंधी समस्याओं को दूर कर सकता है। साथ ही यह वजन को नियंत्रित रखने और सांसों की दुर्गंध को दूर करने में भी कारगर है। सौंफ की चाय बनाने के लिए आप एक कप पानी में 2-3 चम्मच सौंफ डालकर अच्छे से उबाल लें। इसे 5-8 मिनट के लिए अच्छे से उबलने दें। फिर इसका सेवन करें। सौंफ की चाय गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल ट्रैक्ट की ऐंठन को कम करके दर्द कम करने में मदद करती है। 

herbal-tea

Image Credit- Freepik

5. कैमोमाइल चाय 

कैमोमाइल चाय सेहत के लिए बहुत फायदेमंद होती है। यह पेट से एसिड को कम करके सीने की जलन से राहत दिला सकती है। इससे पेट दर्द और ऐंठन में भी आराम मिलता है। यह तनाव को दूर कर अच्छी नींद के लिए लाभकारी होता है। इसमें एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण पाए जाते हैं, जो सूजन को कम करता है। आप बहुत आसानी से कैमोमाइल चाय बना सकते हैं। 

Main Image Credit- Freepik

Disclaimer