वत्सनाभ का पौधा है डायबिटीज, सूजन, बुखार जैसी इन 5 समस्याओं का आयुर्वेदिक इलाज, जानें प्रयोग का तरीका

वत्‍सनाभ एक पौधा है ज‍िसके इस्‍तेमाल से आप खांसी, बुखार, सूजन, डायब‍िटीज आद‍ि समस्‍याओं को दूर कर सकते हैं, जानिए इसे इस्‍तेमाल करने का तरीका 

Yashaswi Mathur
Written by: Yashaswi MathurUpdated at: Aug 17, 2021 09:44 IST
वत्सनाभ का पौधा है डायबिटीज, सूजन, बुखार जैसी इन 5 समस्याओं का आयुर्वेदिक इलाज, जानें प्रयोग का तरीका

वत्‍सनाभ के क्‍या लाभ हैं? आप वत्‍सनाभ औषध‍ि का इस्तेमाल खांसी, बुखार, सूजन, डायब‍िटीज आद‍ि समस्‍याओं को दूर करने के ल‍िए कर सकते हैं। वत्‍सनाभ को मीठा तेल‍िया के नाम से भी जाना जाता है। इस पौधे की कई प्रजात‍ियां देश के अलग-अलग ह‍िससे में पाई जाती हैं, वत्‍सनाभ एक पौधा है ज‍िसमें औषध‍िय गुण होते हैं। वत्‍सनाभ की जड़, पत्‍ते, छाल आद‍ि सभी फायदेमंद होती हैं। इस लेख में हम वत्‍सनाभ के फायदे, उसे इस्‍तेमाल करने के तरीकों पर चर्चा करेंगे। इस व‍िषय पर ज्‍यादा जानकारी के ल‍िए हमने लखनऊ के व‍िकास नगर में स्‍थित प्रांजल आयुर्वेद‍िक क्‍लीन‍िक के डॉ मनीष स‍िंह से बात की। 

vatsnabh benefits

(image source:deepayurveda)

 1. सूजन की समस्‍या दूर करती है वत्‍सनाभ औषध‍ि (Vatsnabh herb cures swelling)

शरीर में सूजन की समस्‍या दूर करने के लि‍ए आप वत्‍सनाभ का इस्‍तेमाल कर सकते हैं। वत्‍सनाभ में एंटी-इंफ्लामेटरी गुण होते हैं ज‍िससे सूजन और दर्द की समस्‍या दूर होती है। आप इसके ल‍िए वत्‍सनाभ की जड़ का इस्‍तेमाल कर सकते हैं, जड़ को रात भर भिगोकर रखें, सुबह उस पानी को छानकर पीने से पेट की सूजन, शरीर की सूजन, जोड़ों के दर्द आद‍ि समस्‍याओं में आराम म‍िलता है।

इसे भी पढ़ें- दांत दर्द, सिर दर्द, खांसी जैसी इन 5 समस्याओं को दूर करता है सिरस (शिरीष) का पेड़, जानें प्रयोग का तरीका

2. बुखार को ठीक करे वत्‍सनाभ (Vatsnabh herb cures fever)

अगर क‍िसी को बुखार है तो वत्‍सनाभ का इस्‍तेमाल कर सकते हैं, वत्‍सनाभ की छाल का पाउडर सुबह गुनगुने पानी के साथ लेने से बुखार उतरता है, ज‍िन लोगों को खांसी की समस्‍या है वो भी वत्‍सनाभ का इस्‍तेमाल कर सकते हैं। खांसी की समस्‍या को दूर करने के ल‍िए वत्‍सनाभ के पत्‍तों को पीसकर काढ़ा बना लें और उसका सेवन सुबह-सुबह करें इससे खांसी का इलाज भी हो जाएगा और गले में जमा कफ, थकान, बुखार आद‍ि समस्‍याएं भी दूर हो जाएंगी।

3. रोग प्रत‍िरोधक क्षमता बढ़ाए वत्‍सनाभ (Vatsnabh herb boosts immunity)

vatsnabh uses

(image source:cnseed.org)

कोव‍िड के दौर में रोग प्रत‍िरोधक क्षमता बढ़ाने के तरीके या उपायों पर खूब चर्चा हुई पर आप अपनी इम्‍यून‍िटी को मजबूत करना चाहते हैं तो एक और आसान तरीका है वत्‍सनाभ का इस्‍तेमाल। अगर आप वत्‍सनाभ के फूल का काढ़ा बनाकर प‍िएं तो रोग प्रत‍िरोधक क्षमता बढ़ा सकते हैं। इसके ल‍िए आप फूल को कूटकर पीस लें जो म‍िश्रण बने उसे दो कप गरम पानी में डालकर उबालें, उसमें काली म‍िर्च, मुलेठी पाउडर म‍िलाएं और ग‍िलास में छान लें फ‍िर शहद म‍िलाकर प‍िएं। 

इसे भी पढ़ें- घाव, सूजन, त्वचा रोग जैसी इन 5 समस्याओं को दूर करती है 'गोरख इमली', जानें इस औषधि के प्रयोग का तरीका

4. डायब‍िटीज में शुगर लेवल कंट्रोल करता है वत्‍सनाभ का पौधा (Vatsnabh herb controls diabetes)

डायब‍िटीज के मरीजों के ल‍िए वत्‍सनाभ फायदेमंद होता है। वत्‍सनाभ के छाल के पाउडर को गुनगुने पानी में म‍िलाकर पीने से डायब‍िटीज कंट्रोल होती है। इसके अलावा अगर आपको शरीर के क‍िसी अन्‍य अंग में दर्द है तो आप वत्‍सनाभ का इस्‍तेमाल कर सकते हैं। इसके अलावा जिन लोगों को बार-बार यूर‍िन आने की समस्‍या होती है उन्‍हें भी वत्‍सनाभ के काढ़े का सेवन करना चाह‍िए।

5. वत्‍सनाभ से ठीक होता है स‍िर का दर्द (Vatsnabh herb cures headache)

स‍िर का दर्द दूर करने के उपाय ढूंढ रहे हैं तो आप वत्‍सनाभ का इस्‍तेमाल कर सकते हैं। वत्‍सनाभ के पत्‍तों का लेप स‍िर पर मलने से स‍िर का दर्द दूर होता है। आप वत्‍सनाभ के पत्‍तों को पीसकर लेप बना लें और उसमें नीलग‍िरी या टी ट्री ऑयल के साथ बादाम तेल की दो से तीन बूंदें म‍िलाकर स‍िर की माल‍िश करें। दस्‍त की समस्‍या होने पर भी वत्‍सनाभ का इस्‍तेमाल क‍िया जाता है पर दस्‍त की समस्‍या वत्‍सनाभ से ठीक न हो तो डॉक्‍टर से संपर्क करें। ज‍िन लोगों के गले में टॉन्‍स‍िल की समस्‍या होती है उन्‍हें भी वत्‍सनाभ का इस्‍तेमाल करना चाह‍िए।

अगर आपको कोई गंभीर बीमारी या रोग के मरीज हैं तो डॉक्‍टर की सलाह पर ही वत्‍सनाभ का इस्‍तेमाल करें। 

(main image source:ayurvedatoscana)

Read more on Ayurveda in Hindi 

Disclaimer