ये 9 फूड कॉम्बिनेशन आपकी डाइट को बनाते हैं सुपर हेल्दी, Luke Coutinho से जानें इनके फायदे

अच्छा खाना तब बनता है जब हम चीजों के स्वास्थ्य लाभों को जानते हुए उसे समझदारी से मिला कर खाना बनाएं। जानते हैं ऐसे ही कुछ फूड कॉम्बिनेशन के बारे में।

Pallavi Kumari
Written by: Pallavi KumariPublished at: Jan 06, 2021Updated at: Jan 06, 2021
ये 9 फूड कॉम्बिनेशन आपकी डाइट को बनाते हैं सुपर हेल्दी, Luke Coutinho से जानें इनके फायदे

हमारे यहां खाने में काफी विविधता पाई जाती है। हर घर के खाने की अपनी खुशबू और स्वाद है। खाने का स्वाद तब और बढ़ जाता है, जब मसालों और जड़ी बूटियों की जुगलबंदी होती है। पर आपने कभी सोचा है कि ऐसा क्यों है कि कुछ खास चीजों को खास मसालों के साथ ही बनाया जाता है। जैसे कि मछली को लहसुन के मसाले के साथ बनाया जाए और ग्रीन टी में नींबू का रस मिला जाए, तो इसका स्वाद दोगुना हो जाता है। पर बात यहां सिर्फ स्वाद की नहीं है, बल्कि स्वास्थ्य लाभ (food combination benefits) की भी है। दरअसल, दो चीजों को एक साथ मिला कर खाने से कभी इसका पोषण और फायदा दोगुना हो जाता है, तो कभी नुकसानदेह भी हो सकता है। वेलनेस कोच ल्यूक कोटिन्हो  (Luke Coutinho) एक न्यूट्रिशनिस्ट भी हैं, जो कि खाने से जुड़े कई अच्छे और हेल्दी सलाह देते हैं। हाल ही में उन्होंने कुछ पारंपरिक फूड कॉम्बिनेशन के बारे में बताया जो कि असल में शरीर के लिए कई तरह से फायदेमंद है।  तो, आइए जानते हैं ऐसे 9 फूड कॉम्बिनेशन (Food Combinations), जो कि शरीर के लिए काफी लाभकारी है।

insidehaldiandkalimirch

9 ग्रेट फूड कॉम्बिनेशन (Food Combinations)

1.नींबू और पालक

आपको अजीब लगेगा पर नींबू और पालक की जोड़ी शरीर के लिए बहुत फायदेमंद है। दरअसल, पालक में आयरन की प्रचुरता होती है। तो, नींबू में मौजूद विटामिन सी शरीर में आयरन के अवशोषण को बेहतर बनाने में मदद करता है। यानी अगर आप आयरन खा रहें और विटामिन सी युक्त चीजों को ले रहे हैं, तो ये शरीर में बेहतर ढंग से अवशोषित होगा और आपको इसका आपको ज्यादा फायदा मिलेगा। इसलिए आगे से ध्यान रखें कि जब भी पालक बनाएं, तो उसमें थोड़ा सा नींबू का रस मिला लें।

2. हल्दी और काली मिर्च

हम सभी ने हल्दी के कई फायदों के बारे में सुना है जिसमें घाव भरने से लेकर इम्यूनिटी बूस्टिंग गुण तक शामिल है। हल्दी के बहुत सारे लाभ हैं जैसे कि प्रतिरक्षा को बढ़ावा देना, कोलेस्ट्रॉल कम करना, लिवर को काम में सुधार करना आदि शामिल है। हालांकि, क्यूरी क्यूमिन (Curcumin) नाम का सक्रिय घटक होता है, जो कि अवशोषित नहीं होता है। हल्दी के साथ काली मिर्च का सेवन करने से क्यूरी क्यूमिन का अवशोषण बढ़ जाता है, जिससे यह हमारे लिए फायदेमंद हो जाता है। इसलिए अगर आप कभी भी हल्दी का सेवन कर रहे हैं, तो इसमें एक चुटकी काली मिर्च जरूर मिला लें।

3.विटामिन ई और सेलेनियम

सेलेनियम और विटामिन ई अपने आप में इम्यूनिटी बढ़ाने और आंत और त्वचा के मुद्दों को कम करने के लिए सुपरफूड हैं। हालांकि, दो पोषक तत्वों के संयोजन से सूजन को कम करने के लिए बेहतर प्रभाव पड़ता है। जब विटामिन ई और सेलेनियम एक साथ मिल जाता है, तो ये शरीर को कई बीमारियों से बचाता है। इसे लेने के लिए आप  विटामिन ई के कुछ स्रोत जैसे  बादाम, मूंगफली, हेज़लनट्स, सूरजमुखी के बीज, हरी पत्तेदार सब्जियां जैसे पालक और ब्रोकली के साथ सेलेनियम के स्रोतों में शामिल चीजें जैसे कि मछली, साबुत अनाज, चिकन, अंडे, मशरूम, दाल, केला, ब्राउन राइस और दलिया मिला के खा सकते हैं।

insidecalciumandvitd

4.कैल्शियम और विटामिन डी

विटामिन डी शरीर में कैल्शियम के अवशोषण की सुविधा प्रदान करता है। जब विटामिन डी का स्तर कम होता है, तो आप भले ही कितना भी कैल्शियम ले लें, इससे शरीर को फायदा पहुंचता है। तो कभी भी विटामिन डी के साथ कैल्शियम वाली चीजों को जरूर खाएं।  यही कारण है कि जब डॉक्टर आपको कैल्शियम सप्लीमेंट देते हैं, तो उसके साथ थोड़ी मात्रा में विटामिन डी लेने के लिए भी कहते हैं। प्रकृति में बहुत कम खाद्य पदार्थों में विटामिन डी होता है, हालांकि कुछ स्रोत जैसे मछली, अंडे की जर्दी और मशरूम इसमें समृद्ध हैं। इन खाद्य पदार्थों को कैल्शियम युक्त खाद्य स्रोतों जैसे ब्रोकोली, गोभी, सोयाबीन, तिल, खसखस, चिया के बीज, बादाम, बीन्स और डेयरी उत्पादों के साथ मिलाकर खाएं।

अब जब हमने विटामिन डी और कैल्शियम के सहक्रियात्मक संबंध के बारे में जान लिया है, तो हमें मैग्नीशियम की शक्ति और कैल्शियम के रिलेशन के बारे में भी जानना चाहिए। दरअसल, बहुत से लोग नहीं जानते हैं कि आपके शरीर को कैल्शियम को अवशोषित करने के लिए  मैग्नीशियम की जरूरत होती है। मैग्नीशियम साबुत अनाज, कोको, नट, समुद्री फूड्स, फलियां, मटर, गाजर और हरी पत्तेदार सब्जियों में पाया जाता है। कहा जाता है कि, मैग्नीशियम के साथ पर्याप्त रूप से संतुलन के बिना बहुत अधिक कैल्शियम, शरीर पर प्रतिकूल प्रभाव डाल सकता है। 

इसे भी पढ़ें : सर्दियों के दौरान घर पर इन 4 हेल्दी डेसर्ट को अपनाएं, आहार विशेषज्ञ स्वाती बाथवाल से जानें बनाने का तरीका

5.सिरका और चावल

सिरका इंसुलिन संवेदनशीलता में सुधार करने में मदद करता है। चावल आधारित भोजन के साथ सिरका मिलाकर खाने से  ब्लड शुगर के स्तर में 20-35% तक कमी लाई जा सकती है। यह उन लोगों के लिए विशेष रूप से महत्वपूर्ण है जो मधुमेह और मोटापा के बारे में सोचते रहते हैं। इसलिए जरूरी है कि आप चावल के साथ सिरका मिला कर खाएं।

6. टमाटर और जैतून का तेल

टमाटर लाइकोपीन नामक फाइटोकेमिकल्स में समृद्ध हैं जो प्रोस्टेट कैंसर के खतरे को कम करता है। साथ ही ये प्रोस्टेट स्वास्थ्य में सुधार करके और हृदय रोग को रोकने में मदद करते हैं। ये कैरोटिनॉयड्स फैट में घुलनशील होने के कारण, जैतून के तेल के साथ मिला कर खाने से इसका फायदा दोगुना हो जाता है। इसके कारण टमाटर के फायदा और बढ़ जाता है।

7.मछली और लहसुन

लहसुन में सल्फर यौगिक होते हैं जो एक इम्यूनिटी (immunity booster foods) को बढ़ाने में मदद करते हैं और खराब कोलेस्ट्रॉल के स्तर को भी कम करते हैं। प्रोटीन और ओमेगा 3 से भरपूर मछली तेजी से इम्यूनिटी बढ़ाते हैं और शरीर में सूजन को कम करते हैं। मछली और लहसुन के चिकित्सीय गुणों को बढ़ावा देने और एलडीएल और ट्राइग्लिसराइड के स्तर को कम करने में मदद करने के लिए आपको मछली बनाते सनय लहसुन का उपयोग करना चाहिए। खाद्य पदार्थों का यह संयोजन  शरीर के साथ दिमाग को भी तेज करने का काम करते हैं।

insidefishforhealthydiet

इसे भी पढ़ें : इमली के सेवन से वजन हो सकता है कम, जानें इसके फायदे और नुकसान

8.नींबू और ग्रीन टी

अपने सुबह की चाय में नींबू का रस जरूर मिलाएं। ऐसा इसलिए कि नींबू में मौजूद विटामिन सी शरीर को कई फायदे पहुंचाचे हैं। खास कर अगर ये ग्रीन टी के साथ लिया जाए। ये एंटीऑक्सीडेंट कैटेचिन के अवशोषण को तेज करते हैं और उनके लाभों को शरीर तक तुरंत पहुंचाते हैं। इसके अलावा ग्रीन टी जैसे कैफीन युक्त पेय पदार्थ हमारे शरीर को एसिडिक बनाने का कारण बनते हैं, पर जब आप इसमें नींबू का रस मिलाते हैं, तो ये इसके पीएच को बेसिक बनाता है और एसिडिटी को कम करने में मदद करता है।

9.अनाज और दालें

हमारा भारतीय आहार पारंपरिक रूप से वनस्पति आधारित है, जिसमें अधिकांश आबादी शाकाहारी या लैक्टो-शाकाहारी है और मांस की खपत काफी कम है। एक पारंपरिक भारतीय थाली कुछ रोटियों या दाल-चावल या खिचड़ी के साथ कुछ दाल का संतुलित संयोजन है जो एक आदर्श भोजन है। सही अनुपात में दाल और चावल का संयोजन हमें कार्ब्स और प्रोटीन प्रदान करते हैं, जो कि कोशिकाओं की मरम्मत और मांसपेशियों के निर्माण के लिए बहुत मददगार हैं।

तो,  ये थे 9 हेल्दी फूड कॉम्बिनेशन, जो कि शरीर के कई तरह से फायदेमंद हैं। गौरतलब है कि अवयवों का यह सुंदर तालमेल, हमारी मूल संस्कृति का एक आंतरिक हिस्सा है, जो सालों से खाना बनाने में इस्तेमाल होता आ रहा है। तो, आगे भी हेल्दी बने रहने के लिए हमें इन्हें हमेशा अपनी डाइट में जरूर शामिल करना चाहिए। 

Read more articles on Healthy-Diet in Hindi

Disclaimer