कब्ज से परेशान रहते हैं तो इन 5 तरीकों से मसाज कर पाएं तुरंत छुटकारा, पेट होगा साफ

कब्‍ज, पेट की आम समस्‍या है जो हर घर में क‍िसी न क‍िसी को होती है, आइए जानते हैं कब्‍ज को मसाज से कैसे दूर क‍िया जा सकता है

Yashaswi Mathur
Written by: Yashaswi MathurPublished at: Apr 02, 2021
कब्ज से परेशान रहते हैं तो इन 5 तरीकों से मसाज कर पाएं तुरंत छुटकारा, पेट होगा साफ

क्‍या आपको भी कब्‍ज की शिकायत है? कब्‍ज पेट की एक आम समस्‍या है ज‍िससे हर घर में कोई न कोई पीड़‍ित म‍िल ही जाएगा। भारत में ये एक कॉमन समस्‍या इसल‍िए भी है क्‍योंक‍ि हमारे खानपान में अध‍िक म‍िर्च-मसाला होता है ज‍िसको खाने से अपच, पेट दर्द, जलन, गैस, कब्‍ज आद‍ि श‍िकायत होती है। सही लाइफस्‍टाइल फॉलो करके इस समस्‍या से बचा जा सकता है पर आज हम आपको बताएंगे कुछ मसाज तकनीक ज‍िनकी मदद से भी आप कब्‍ज की श‍िकायत से मुक्‍त‍ि पा सकते हैं, हालांक‍ि मसाज का असर हर क‍िसी पर नहीं होता पर आप बाक‍ि तरीकों के बेअसर से परेशान हैं तो मसाज ट्राय कर सकते हैं। मसाज में क‍िसी तरह का कोई साइडइफेक्‍ट नहीं होता इसल‍िए आप इन्‍हें क‍िसी प्रोफेशनल से करवा सकते हैं या सीख सकते हैं। इस लेख में आप एब्‍डॉम‍िनल, कोलोन, बैक, फुट और पेर‍िन‍ल मसाज के बारे में जानेंगे। ज्‍यादा जानकारी के ल‍िए हमने लखनऊ के केयर इंस्‍टिट्यूट ऑफ लाइफ साइंसेज की एमडी फ‍िजिश‍ियन डॉ सीमा यादव से बात की। 

constipation

मसाज से कैसे दूर होगी कब्‍ज की श‍िकायत? (Massage for constipation)

कब्‍ज की समस्‍या तब होती है जब व्‍यक्‍त‍ि को स्‍टूल पास करने में परेशानी होती है। लोगों में इसके लक्षण अलग-अलग होते हैं। ज‍िन लोगों को कब्‍ज की श‍िकायत होती है उन्‍हें हफ्ते में 3 द‍िन तो ये शिकायत रहती ही है। कब्‍ज में हार्ड स्‍टूल पास होता है। कब्‍ज के दौरान स्‍टूल पास करते समय दर्द होता है। कब्‍ज में ये अहसास भी होता है क‍ि पेट ठीक तरह साफ नहीं हुआ है। इस तरह की समस्‍या में मसाज आपके काम आ सकती है। मसाज में मसल्‍स को प्रेशर देकर गैस पास होती है ज‍िससे पेट में ऐंठन हो तो उससे आराम म‍िलता है। मसाज से कोई साइड इफेक्‍ट नहीं होता, आप इसे बिना क‍िसी डर के करवा सकते हैं। 

1. बैक मसाज (Back massage)

back massage

बॉडी के दूसरे ह‍िस्‍सों में मसाज करने से भी कब्‍ज की श‍िकायत दूर होती है। बैक मसल्‍स और कोलोन मसल्‍स आपस में जुड़ी हुई होती हैं इसल‍िए बैक मसाज करने से कब्‍ज की श‍िकायत दूर हो सकती है। इससे आपकी बॉडी भी र‍िलैक्‍स हो जाएगी। मसाज करवाने के ल‍िए क‍िसी मसाज एक्‍सपर्ट के पास ही जाएं और सुन‍िश्‍च‍ित करें क‍ि उनके पास मसाज का लाइसेंस हो। अगर आपकी बॉडी के गलत प्रेशर प्‍वांइट पर दबाव पड़ा तो परेशानी हो सकती है इसल‍िए अनुभवी एक्‍सपर्ट के पास ही जाएं। 

2. एब्‍डॉम‍िनल मसाज (Abdominal massage)

 abdominal massage

एब्‍डॉम‍िनल मसाज से भी कब्‍ज की श‍िकायत को दूर क‍िया जाता है। अगर आपको पेट से जुड़ी कोई अन्‍य बीमारी है तो डॉक्‍टर से सलाह लेकर मसाज करवाएं। एब्‍डॉम‍िनल मसाज में पीठ के बल लेटकर पैरों को जमीन पर रखना होता है। पेल्‍व‍िक बोन से मसाज को शुरू क‍िया जाता है और सर्कुलेशन मोशन में प्रेशर द‍िया जाता है। हाथों को आगे से ह‍िप बोन की तरफ ले जाकर मसाज क‍िया जाता है। बेली बटन पर भी प्रेशर द‍िया जाता है। ऐसा माना जाता है क‍ि इससे कब्‍ज ठीक हो जाते हैं। आपको एक बात का ध्‍यान रखना है क‍ि मसाज करवाते समय आरामदायक और ढीले कपड़े पहनकर जाएं। मसाज से स्‍क‍िन पर प्रेशर पड़ता है इसल‍िए टाइट कपड़े पहनने की गलती न करें। 

इसे भी पढ़ें- सिर्फ कुछ मिनटों की फुट मसाज से आपको मिलते हैं ये 5 फायदे, जानें क्या है पैरों की मसाज का सही तरीका

3. फुट मसाज (Foot massage)

foot massage

आप सोच रहे होंगे कि पैर की मसाज से कब्‍ज की श‍िकायत कैसे दूर होगी पर कब्‍ज के ल‍िए फुट मसाज पर क‍िए कई शोध में ये बात कही गई है क‍ि कब्‍ज की समस्‍या से न‍िजात चाह‍िए तो फुट मसाज करवा सकते हैं। साल 2003 में की गई एक स्‍टडी के मुताब‍िक ज‍िन बच्‍चों को फुट मसाज दी गई उन्‍हें कब्‍ज से आराम म‍िला। इस मसाज को करने के ल‍िए पैरों को क्र‍िस-क्रॉस करके लेट जाएं। हील से लेकर एड़ी तक पैरों की मसाज की जाएगी। इसे केवल दो उंगल‍ियों से क‍िया जाता है। अगर आपको क‍िसी तरह की एलर्जी है या बीमारी है तो मसाज करवाने से पहले ही एक्‍सपर्ट को इसकी जानकारी दें। मसाज में तेल का भी इस्‍तेमाल होता है अगर आपको एलर्जी है तो सही इंग्रीड‍िएंट्स का इस्‍तेमाल क‍िया जाना जरूरी है। 

4. कोलोन मसाज (Colon massage) 

कब्‍ज के मरीजों को गैस न पास होने की श‍िकायत होती है। कोलोन मसाज से प्रेशर पड़ता है और गैस पास होती है ज‍िससे कब्‍ज में आराम म‍िलता है। कोलोन मसाज के ल‍िए पीठ के बल ल‍िटा द‍िया जाता है और पैर जमीन पर होते हैं। फ‍िंगरट‍िप्‍स की मदद से र‍िब केज से होते हुए पेल्‍विक बोन तक हल्‍के हाथ से प्रेशर द‍िया जाता है। इसे 10 से 15 बार पेट के आसपास के ह‍िस्‍से में क‍िया जाता है। आपको मसाज करवाने से पहले इस बात का ध्‍यान रखना है क‍ि खाने और मसाज के बीच गैप हो। खाने के तुरंत बाद मसाज न करवाएं। पेट पर प्रेशर पड़ने से आपको उल्‍टी भी हो सकती है। 

इसे भी पढ़ें- क्यों जरूरी है शरीर के लिए मसाज? जानें इसके प्रकार, फायदे और तरीके

5. पेर‍िनल मसाज (Perineal massage)

पेर‍िनल मसाज आप खुद घर पर कर सकते हैं, इसमें आपको लोअर एब्‍डोम‍िनल के न‍िचले ह‍िस्‍से में मौजूद प्रेशर प्‍वांइट पर हल्‍का दबाव देना है। दबाव केवल 2 उंगलि‍यों से देना है। दबाव देकर हटाना है और दोबारा दबाव देने की प्रक्र‍िया को कई बार दोहराएं। इससे कब्‍ज में आराम म‍िलता है। 

कब्‍ज दूर भगाने के ल‍िए हेल्‍दी ट‍िप्‍स (Tips to get rid of constipation)

अगर मसाज से आराम नहीं म‍िलता है तो इसका मतलब आप गलत लाइफस्‍टाइल फॉलो कर रहे हैं। मसाज के साथ-साथ आपको इन तरीकों को भी अपनाना है ताक‍ि आपको आए द‍िन कब्‍ज की श‍िकायत न हो- 

  • खुद को हाइड्रेटेड रखें, द‍िन में कम से कम 8 से 10 ग‍िलास पानी प‍िएं। 
  • कब्‍ज से बचने के ल‍िए कसरत जरूरी है, योगा या 30 म‍िनट वॉक जरूर करें। 
  • रोजाना स्‍टूल पास करने से कॉन्‍स्‍ट‍िपेशन की श‍िकायत नहीं होती। 
  • आपको कब्‍ज से बचने के ल‍िए फाइबर इंटेक बढ़ाना चाह‍िए जैसे ताजे फल या सब्‍ज‍ियां। 
  • ज्‍यादा ऑइली फूड खाने से भी बचें, ऑइली फूड में च‍िकनाहट होती है ज‍िसे पेट जल्‍दी पचा नहीं पाता और कब्‍ज की श‍िकायत हो जाती है। 

अगर आपको लगता है क‍ि कब्‍ज की श‍िकायत कुछ द‍िनों में दूर नहीं हो रही है तो आपको डॉक्‍टर को द‍िखाना चाह‍िए। कई बार दवाओं के र‍िएक्‍शन या खानपान में बदलाव से भी कब्‍ज की श‍िकायत हो जाती है इसल‍िए च‍िक‍ित्‍सक सलाह जरूर लें। 

Read more on Mind & Body in Hindi 

Disclaimer