रोजाना 30 मिनट जिम साइकिल के इस्तेमाल से मिलते हैं ये 5 फायदे

अगर आप फिट और आकर्षक दिखना चाहते हैं और सोच रहे हैं कि कौन सी एक्सरसाइज बेस्ट है, तो आपको बता दें कि साइकिलिंग आपके लिए सबसे अच्छी एक्सरसाइज है। वजन घटाने से लेकर मसल्‍स बनाने तक साइकिलिंग आपके लिए बहुत फायदेमंद होती है।

Anurag Anubhav
Written by: Anurag AnubhavPublished at: Jul 28, 2018
रोजाना 30 मिनट जिम साइकिल के इस्तेमाल से मिलते हैं ये 5 फायदे

अगर आप फिट और आकर्षक दिखना चाहते हैं और सोच रहे हैं कि कौन सी एक्सरसाइज बेस्ट है, तो आपको बता दें कि साइकिलिंग आपके लिए सबसे अच्छी एक्सरसाइज है। वजन घटाने से लेकर मसल्‍स बनाने तक साइकिलिंग आपके लिए बहुत फायदेमंद होती है। यह पूरे शरीर को मजबूत बनाती है। इससे फेफड़े अच्‍छी प्रकार से काम करने लगते हैं। अगर आपके आस-पास साइकिलिंग के लिए अच्छी जगह नहीं है, तो परेशान न हों। अपने आस-पास की किसी जिम में जाएं। हर जिम में एक्सरसाइज बाइक या जिम साइकिल होती है। ये साइकिल की तरह ही दिखती है मगर इसमें एक मॉनीटर लगा होता है, जो आपके कैलोरी बर्न के बारे में बताता है। जिम साइकिल के ढेर सारे फायदे हैं। आइये आपको बताते हैं कि अगर आप रोज सिर्फ 30-45 मिनट एक्सरसाइज बाइक पर बिताते हैं, तो आपके शरीर को क्या-क्या लाभ मिलते हैं।

सबसे अच्छी कार्डियो एक्सरसाइज

साइकिलिंग आपके दिल के लिए बहुत फायदेमंद होती है। जिम में रोज 30 मिनट साइकिलिंग करके आप अपने दिल को स्वस्थ रख सकते हैं। इससे दिल की धड़कनें बढ़ती हैं और रक्त का प्रवाह ठीक होता है। इससे दिल से जुड़े रोगों का खतरा कम होता है। नियमित रूप से साइकिलिंग से धीरे-धीरे दिल से शरीर को रक्त ले जाने वाली नलिकाएं यानी धमनियां भी मजबूत होती है। साइक्लिंग में शरीर में मांसपेशियों का सबसे बड़ा समूह यानी पैर की मांसपेशियों सीधे शामिल होती हैं। ये हृदय की गति बढ़ाकर धमनियों की क्षमता और फिटनेस को बढ़ाती है।

इसे भी पढ़ें:- 30 मिनट की रनिंग से ज्यादा फायदेमंद हैं 15 मिनट की ये 5 कार्डियो एक्सरसाइज

स्ट्रेस कभी नहीं होगा

तनाव के लिए हार्मोंन जिम्मेदार होता है उसे कोर्टिसोल कहते है। लेकिन साइकिलिंग जैसी अच्‍छी एक्‍सरसाइज के जरिये यह हार्मोन अप्रभावी होता है जिससे आप तनावमुक्त और अच्छी नींद ले सकते है। इसके अलाव नियमित रूप से साइकिलिंग तनाव और अवसाद जैसी मानसिक समस्याओं से उबरने में भी काफी मददगार है। इससे शरीर का रक्त संचार ठीक होता है जिससे इनसे उबरने में मदद मिलती है।

फेफड़ों की क्षमता बढ़ेगी

साइकिलिंग करते समय आप सामान्‍य की तुलना में गहरी सांसें लेते हैं और ज्‍यादा मात्रा में ऑक्‍सीजन ग्रहण करते हैं। जिसके कारण शरीर में रक्‍त संचार भी बढ़ जाता है, साथ ही फेफड़ों के अंदर तेजी से हवा अंदर और बाहर होती है। इससे फेफड़ों की क्षमता में भी सुधार होता है और फेफड़ों में मजबूती आती है।

इसे भी पढ़ें:- दुबले पुरुष रोजाना करें ये 5 काम, बनेगी बाहुबली जैसी बॉडी

पीठ और रीढ़ की हड्डी को मजबूती

साइकिल चलाने के दौरान शरीर की जो मुद्रा होती है उसे सबसे आदर्श मुद्रा माना गया है। साइक्लिंग के दौरान पीठ की मांसपेशियों भी पूरी तरह से सक्रिय हो जाती है। इससे उनकी भी एक्सरसाइज होती है। जिससे पीठ दर्द से छुटकारा मिलता है। शहरी युवाओं में रीढ़ की हड्डी की समस्या बहुत ही आम है और साइकिल चलाने से आपकी रीढ़ की हड्डी को मजबूती मिलती है।

शरीर सुडौल और घुटने मजबूत

साइकिल चलाने से शरीर के सभी अंगों का व्यायाम हो जाता है। शरीर के अंगों को सुडौल रूप देने में व मसल्स बनाने के लिए भी यह एक बेहतरीन तरीका है। खासकर पैरों की मसल्स के लिए और कूल्हों के अच्छे शेप के लिए साइकिलिंग एक आसान माध्यम है। इन सबके साथ-साथ इसका एक बड़ा फायदा यह है कि इससे शरीर को सुंदर आकार मिलता है और जोड़ों पर भी कोई नकारात्मक प्रभाव नहीं पड़ता। साइकिल चलाने का समय सीमा निर्धारित करें। साइकिलिंग के लिए सुबह या शाम का वक्त सबसे अधिक उपयुक्त होगा।

ऐसे अन्य स्टोरीज के लिए डाउनलोड करें: ओनलीमायहेल्थ ऐप

Read More Articles On Sports & Fitness In Hindi

Disclaimer