Blood Clot Signs: आपकी नस में बना खून का थक्का ला सकता है दिल का दौरा, जानें इसके 4 लक्षण

खून का थक्का सेल और आपके रक्त में मौजूद प्रोटीन का एक गुच्छा होता है। खून का थक्का रक्त बहने की गति को धीमा करने में मदद करता है, विशेषकर जब आप घायल होते हैं। आमतौर पर जब आप उस चोट से उबर रहे होते हैं तो यह गायब हो जाता है लेकिन अगर ऐसा न हो तो इस

Jitendra Gupta
Written by: Jitendra GuptaUpdated at: Jul 25, 2019 00:00 IST
Blood Clot Signs: आपकी नस में बना खून का थक्का ला सकता है दिल का दौरा, जानें इसके 4 लक्षण

खून का थक्का सेल और आपके रक्त में मौजूद प्रोटीन का एक गुच्छा होता है। खून का थक्का रक्त बहने की गति को धीमा करने में मदद करता है, विशेषकर जब आप घायल होते हैं। आमतौर पर जब आप उस चोट से उबर रहे होते हैं तो यह गायब हो जाता है लेकिन अगर ऐसा न हो तो इसका स्वभाव बिगड़ने लगता है और इसका उपचार न कराए जाने पर यह पूर्ण रूप से आपकी रक्तवाहिका को बाधित यानी की ब्लॉक कर सकता है।

खून का थक्का बनने से होनी वाली समस्या

अनचाहा खून का थक्का आपको गंभीर बीमारियों और तो और तो मौत की तरफ धकेल सकता है। अगर यह किसी धमनी में हो जाए तो आपको यह दिल का दौरा या फिर स्ट्रोक भी दे सकता है। अगर ये आपकी किसी नस में हो गया तो आपको दर्द और सूजन भी हो सकती है। आपके शरीर के भीतर बने थक्के को डीप वेन थ्रोमबोसिस (DVT)कहा जाता है। अगर यह आपके फेफड़ों में है तो इसे पुलमोनरी इमबोल्सिम (पीई) कहा जाता है और दोनों ही स्थिति चिकित्सा आपात स्थिति हैं।

खून का थक्का बनने की संभावना

अगर आपके शरीर की कोई हड्डी टूट गई है या फिर कोई मांसपेशी बुरी तरीके से खींच गई है तो आपको खून का थक्का बनने की संभावना अधिक होती है। लेकिन कभी-कभार आपको भी पता नहीं होता कि आपको यह कैसा हो गया। आप इसके संकेतों के जरिए ही पता लगा सकते हैं। थक्का बनने की संभावना इन वजहों से अधिक होती है।

  • आप सर्जरी से उबर रहे हैं या फिर कई घंटों तक फ्लाइट या व्हीलचेयर पर बैठे हैं। 
  • जरूरत से ज्यादा वजन या मोटे लोगों में। 
  • अगर आपको डायबिटीज या फिर आपका कोलेस्ट्रोल हाई हो तो। 
  • या आपकी उम्र 60 से ज्यादा हो।

इसे भी पढ़ेंः हाथ, पैर या होंठों पर हैं सफेद दाग (Leukoderma) तो इस तरीके से करें इन्हें दूर, जल्द मिलेगी राहत

खून का थक्का जमने के संकेत

सूजन (Swelling)

जब खून का थक्का रक्त प्रवाह को धीमा या बंद कर देता है तो इससे रक्त वाहिकाओं का निर्माण रुख जाता है और सूजन होने लगती है। अगर यह आपके पैर के निचले हिस्से में हो रही है तो यह डीवीटी का संकेत है। लेकिन यह आपके हाथ और पेट पर भी हो सकती है। इसके अलावा तीन में से एक व्यक्ति को सूजन, कभी-कभी दर्द और रक्त वाहिका को नुकसान होता है।

त्वचा का रंग बदलना (Skin Color)

अगर आपके हाथ या पैर की नस में खून का थक्का जमा होता है तो इससे उस जगह का रंग नीला या फिर लाल पड़ जाएगा। इसके कारण आपकी रक्त वाहिका को पहुंचे नुकसान से भी आपकी त्वचा का रंग बिगड़ सकता है। आपके फेफड़ों में हुए पीई आपकी त्वचा को पीला, नीला और चिपचिपा बना सकता है।

इसे भी पढ़ेंः ज्यादा देर बैठने से सिर्फ मोटापा ही नहीं, हो सकती हैं ये 5 गंभीर बीमारियां भी, जानें कौन सी हैं ये बीमारियां

दर्द (Pain)

अचानक सीने में दर्द का मतलब थक्के का फटना हो सकता है, जिसके कारण पीई होता है। इसके साथ ही यह भी एक संकेत हो सकता है कि आपकी धमनी में हुए थक्के ने आपको दिल का दौरा दिया है। अगर ऐसा है तो आपके बाईं भुजा में दर्द महसूस होगा। थक्का के कारण आपके निचले पैर, पेट या आपके गले के नीचे अक्सर दर्द हो सकता है।

सांस लेने में दिक्कत (Trouble Breathing)

यह एक गंभीर लक्षण है। यह आपके फेफड़े या फिर आपके दिल में खून का थक्का जमा होने का एक संकेत हो सकता है। इसके कारण आपके दिल की धड़कन बढ़ सकती है या फिर आप पसीने से तरबतर और बेहोश भी हो सकते हैं।

Read More Articles On Miscellaneous in Hindi

Disclaimer