वर्ल्ड थैलेसीमिया डे : जेनेटिक समस्या है यह रोग, ऐसे रखें खुद का ख्याल

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
May 08, 2017
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

Quick Bites

  • वर्ल्ड थैलेसीमिया डे।
  • जेनेटिक समस्या है यह रोग।
  • ऐसे रखें खुद का ख्याल।

थैलेसीमिया एक ऐसा रक्त रोग है जो रक्त द्धारा माता-पिता से अनुवांशिक तौर पर बच्चों तक पहुंचता है। थैलेसीमिया मुख्य तौर पर एक जैनेटिक बीमारी है। इस बीमारी के चलते शरीर में हीमोग्लोबिन गड़बड़ा जाता है और रक्तक्षीणता के लक्षण पैदा हो जाते हैं। आजकल छोटे-छोटे बच्चों में भी थैलेसीमिया के लक्षण देखे जा रहे हैं। बीटा चेंस के कम या बिल्कुल न बनने के कारण हीमोग्लोबिन गड़बड़ाता है। जिस कारण स्वस्थ हीमोग्लोबिन जिसमें 2 एल्फा और 2 बीटा चेंस होते हैं उसमें केवल एल्फा चेंस रह जाते हैं। जिसके कारण लाल रक्त कणिकाओं की औसत आयु 120 दिन से घटकर लगभग 10 से 25 दिन ही रह जाती है। इससे प्रभावित व्यक्ति अनीमिया से ग्रस्त हो जाता है। इसमें रोगी के शरीर में खून की कमी होने लगती है जिससे उसे बार-बार खून चढ़ाने की जरूरत पड़ती है। थैलेसीमिया की पहचान तीन माह की आयु के बाद ही होती है। इसमें रोगी बच्चे के शरीर में रक्त की भारी कमी होने लगती है, जिसके कारण उसे बार-बार बाहरी खून चढ़ाने की आवश्यकता होती है।

इसे भी पढ़ें : थैलेसीमिया के लक्षण व इसका इलाज

कैसे होता है थैलेसीमिया


महिलाओं एवं पुरुषों के शरीर में मौजूद क्रोमोज़ोम खराब होने से माइनर थैलेसीमिया हो सकता है। यदि दोनों क्रोमोजोमम खराब हो जाए तो यह मेजर थैलेसीमिया भी बन सकता है। महिला व पुरुष में क्रोमोज़ोम में खराबी होने की वजह से उनके बच्चे के जन्म के छह महीने बाद शरीर में खून बनना बंद हो जाता है और उसे बार-बार खून चढ़ाने की जरूरत पड़ती है। हीमोग्लोबीन दो तरह के प्रोटीन से बनता है अल्फा ग्लोबीन और बीटा ग्लोबीन। थैलासीमिया इन दोनों प्रोटीन में ग्लोबीन निर्माण की प्रक्रिया में खराबी होने से होता है। जिसके कारण लाल रक्त कोशिकाएं तेजी से नष्ट होती हैं। रक्त की भारी कमी होने के कारण रोगी के शरीर में बार-बार रक्त चढ़ाना पड़ता है। र्फोटिस अस्पताल के सीनियर विशेषज्ञ व रक्त रोग विशेषज्ञ डॉक्टर वी पी चौधरी आज थैलासीमिया के बारे में कुछ मुख्य बातें बता रहे है। आइए जानते हैं क्या हैं वे खास बातें।

इसे भी पढ़ें : जोड़ों और हड्डियों में दर्द का कारण, लक्षण और इलाज

थैलेसीमिया के लक्षण


थकान, कमजोरी, शिशु के नाखून और जीभ पीले पड़ना, बच्चे के जबड़े और गाल का असामान्य होना, शिशु के विकास में रकावट, अपनी उम्र से छोटा लगना, चेहरा सूखा हुआ रहना, वजन का न बढ़ना, सांस लेने में तकलीफ होना, पीलिया होने का भम्र होना, आदि। जिन लोगों को अपने या अपने किसी जानने वाले के शरीर में इनमें से 2 या 3 लक्ष्ज्ञण भी दिखे तो उसे तुरंत किसी विशेषज्ञ चिकित्सक से संपर्क करना चाहिए।

कैसे कराएं इलाज

 

  • नियमित अपने खून की जांच कराना
  • जेनेटिक टेस्ट कराना
  • शिशु के जन्म से पहले ही रक्त जांच कराना

थैलेसीमिया में खानपान

 

  • कम वसा, हरी पत्तेदार सब्जियां
  • अधिक से अधिक आयरन युक्त खाद्य पदार्थों का सेवन (मछली और मांस लोहे में समृद्ध है, इसलिए ये भी सीमित होना चाहिए)
  • नियमित योग और ​व्यायाम करना (फिटनेस एक्सपर्ट और डॉक्टर की सलाह पर)

ऐसे अन्य स्टोरीज के लिए डाउनलोड करें: ओनलीमायहेल्थ ऐप

Read More Articles On Other Diseases In Hindi

Write a Review Feedback
Is it Helpful Article?YES562 Views 0 Comment
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर