अगर बच्चे ज्यादा देखते हैं टीवी, तो ऐसे बदलें उनकी आदत

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Nov 02, 2017
Comment

Subscribe for daily wellness inspiration

Like onlymyhealth on Facebook!

Quick Bites

  • दिमागी रुप से बदलाव देखने को मिलते हैं।
  • ज्यादा टीवी देखना बच्चों के लिए है खतरनाक।
  • स्टडी परफॉर्मेंस को भी खराब करता है।

बच्चे जितना ज्यादा टीवी देखते हैं उतना ही ज्यादा उनमें दिमागी रुप से बदलाव देखने को मिलते हैं। कभी-कभी उनके सिर के सामने और साइड के हिस्से के डैमेज होने के चांसेस बढ़ जाते हैं और ऐसा करना उन्हें खतरे के निशान की तरफ ले जाता है। बच्चों के जरुरत से ज्यादा टीवी देखने से उनके ब्रेन में गलत प्रभाव पड़ता है और उनमें गलत बदलाव भी आते हैं। ज्यादा टीवी देखना बच्चों के लिए खतरनाक साबित हो सकता है ये उन्हें मोटापे की तरफ ढ़केलता है। ये उनके एक्टिव टाइम को खत्म करके उनकी क्रियेटिविटी को भी खत्म करता है, साथ ही उनके स्टडी परफॉर्मेंस को भी खराब करता है।

इसे भी पढ़ें : शिशु की परवरिश के वक्त जरूर ध्यान रखें ये 6 बातें

हालांकि टीवी पर कई ऐसे प्रोग्राम आते हैं जिनमें से कुछ अच्छे होते हैं तो कुछ उन पर गलत प्रभाव डालते हैं। टीवी पर दिखाए जाने वाले हिंसक कंटेट से बच्चे जल्दी प्रभावित होते हैं और उनका दिमाग भी उसी दिशा में सोचने लगता है। वे टीवी पर दिखाए जाने वाले हिंसक कंटेट में वे विक्टिम को लेकर परेशान हो जाते हैं। वे खुद को भी उसी परिस्थिति में सोच कर डर जाते हैं। छोटे बच्चे हिंसक प्रोग्राम देखकर अग्रेसिव व्यवहार करना शुरु कर देते हैं। ज्यादा टीवी देखने से उन्हें कैसे रोकें-

अल्टरनेटिव एक्टीविटी

इसके बदले अल्टरनेटिव एक्टीविटी करायें। जब उनका ज्यादा टीवी देखने का मन हो तो उन्हें दूसरे चीजों में हिस्सा लेने को प्रोत्साहित करें। जैसे कि उन्हें स्पोर्ट्स, उनका फेवरेट गेम, उनकी हॉबी की चीजें या म्यूजिक में उन्हें पार्टिसिपेट करने को कहें। बच्चे जैसे-जैसे बड़े हो रहे हैं उन्हें टीवी देखने की बजाए उनमें तरह-तरह की ज्ञानवर्धक किताबें पढ़ने की आदत लगाएं।

इसे भी पढ़ें : प्रेग्नेंसी में अधिक विटामिन लेना भी है हानिकारक, जानिए कैसे?

टीवी देखने की सीमा बांध दें

उनके लिए एक दिन में अधिक से अधिक 2 घंटे टीवी देखने की सीमा बांध दें। इसके अलावा बचे समय में उन्हें उनके स्टडी के काम पूरे करने पर जोर दें। कभी भी उनके रुम में टीवी ना लगवायें।

डिस्ट्रैक्शन की तरह इस्तेमाल ना करें

पेरेंट्स और घर के बड़ों के लिए टीवी एक डिस्ट्रैक्शन की तरह काम करता है और वे इसके गलत प्रभाव को खुद पर पड़ने नहीं देते। टीवी प्रोग्राम में लिखे भी होते हैं कि वे किस एज ग्रुप के लिए देखे जा सकते हैं, लेकिन कई बार बच्चे छुप-छुप कर ऐसे हिंसक प्रोग्राम देख लेते हैं। कई ऐसे प्रोग्राम हैं जो उनमें डर की भावना पैदा करते हैं। प्रीस्कूल में 

हिंसा के बारे में उन्हें बताएं

अगर शो देखते समय उन्हें बतायें कि किस तरह से वे एक दूसरे को नुक्सान पहुंचा रहे हैं जो गलत है। उन्हें इग्नोर करने के बजाए उन्हें इस बारे में इस तरह स बात करेंगे तो ये ज्यादा बेहतर होगा।

ऐसे अन्य स्टोरीज के लिए डाउनलोड करें: ओनलीमायहेल्थ ऐप

Read More Articles On Parenting


Write Comment Read ReviewDisclaimer Feedback
Is it Helpful Article?YES1513 Views 0 Comment
संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर