डायबिटिक्‍स के लिए वजन घटाने के टिप्‍स

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Aug 31, 2015
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

Quick Bites

  • मधुमेह में मोटापा खतरनाक हो सकता है।
  • नियमित व्यायाम और वॉक से इसे घटायें।
  • आहारों में परिवर्तन करना भी होता है जरूरी।
  • तनाव से रहें दूर, ध्यान रखें मधुमेह के लक्षण।

मोटापा सभी के लिए नुकसानदायक होता है हो सकता है। । लेकिन डायबिटीज़ के मरीज़ के लिए मोटापे से बचना और भी आवश्यक हो जाता है मधुमेह पीडि़त की सबसे बड़ी चिंता यही रहती है कि आखिर कैसे घटाएं वजन। आमतौर पर आहार परिवर्तन और व्यायाम से मोटापा घटाना आसान होता है।  हर व्यक्ति की कद-काठी, वजन, आकार इत्यादि अलग होते हैं इसीलिए मधुमेह पीडि़तों को अपने वजन और मोटापे के हिसाब से ही आहार परिवर्तन करना चाहिए। आइए जानें कैसे बचे मधुमेह रोगी मोटापे से।

ऐसे करें वजन निंयत्रण

मधुमेह रोगियों को मोटापा घटाने के लिए कैलोरीज की मात्रा कम करने की सलाह दी जाती है, लेकिन इसका ये अर्थ नहीं कि कैलोरीज की मात्रा एकदम से ही कम कर दी जाएं। ऐसे में कैलोरीज़ व पोषक तत्वों के सेवन को धीरे-धीरे कम करना बेहतर होता है। मधुमेह रोगी को व्यायाम और आहार परिवर्तन दोनों करना आवश्यक है। मधुमेह पीडि़तों को व्यायाम करना चाहिए और  व्यायाम से पहले डॉक्टधर की सलाह ज़रूर लेनी चाहिए।   वजन घटाने के लिए, आप अपनी आहार तालिका किसी डाइटिशियन या डॉक्टर से भी बनवा सकते हैं। वजन घटाने के लिए कम से कम 40-45 मिनट टहलना जरूरी है। एक बार में बहुत सारा खाना खाने की बजाय धीरे-धीरे व थोड़ा-थोड़ा खाना चाहिए। गुड, शक्कर, शहद, मिठाइयाँ, मेवे इत्यादि से परहेज करना जरूरी है। खाना समय पर और रात को सोने से एक घंटा पहले ज़रूर खायें और रात के खाने के बाद टहलें ज़रूर। भोजन में रेशेदार पदार्थों को शामिल करें । इससे रक्त में ग्लूकोज का स्तर धीरे-धीरे बढ़ता है और रक्त ग्लूकोज की मात्रा नियंत्रित रहती है।

तनाव से  बचें

मधुमेह रोग में तनाव की भूमिका बहुत महत्वपूर्ण होती है तनाव से बचने की पूरी कोशिश करें l स्ट्रेस या  तनाव के कारणों को आपसी बात चीत से हल करें, योगा, प्राणायाम,ध्यान  तथा सुबह शाम घूमने से स्ट्रेस कंट्रोल करने में सहायता मिलती  है l

मधुमेह के प्रारंभिक लक्षण

प्यासज्यादा लगना, पेशाब ज्यादा होना, भूख ज्यादा लगना, जननेन्द्रियों में खुजली के अलावा शरीर के किसी भी अंग में हुए घावों का देर से भरना ही इसके प्रारंभिक लक्षण हैं। यह बीमारी अनुवांशिक भी होती है। डायबिटीज की बीमारी दो प्रकार की होती है टाइप वन टाइप टू। टाइप वन बच्चों को भी हो सकता है। टाइप वन के उपचार के लिए अभी तक केवल इंसुलिन ही है। यह बीमारी अधिकतर
 

मधुमेह का इलाज केवल दवाईयों से ही नहीं, बल्कि व्यायाम, सही खान-पान के नियमों का पालन कर भी किया जा सकता है ।


Image Source-Getty

Read more Article on Diabetes in hindi

Write a Review
Is it Helpful Article?YES32 Votes 15045 Views 1 Comment
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

टिप्पणियाँ
  • ruchi01 Mar 2013

    madhumeh rogiyo k liye vajan ghatane ke ache tips hain

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर