नवरात्र के व्रत में न रहें भूखे

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Oct 19, 2012
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

navratra ke vrat me na rahe bhookhe

नवरात्र के दौरान कमजोरी से बचने के लिए निर्जल उपवास नहीं करना चाहिए, इससे शरीर को फायदा पहुंचने के बजाय नुकसान होता है। नवरात्र के व्रत में पेय पदार्थ अवश्यर लेते रहें या फिर कुछ हल्का -फुल्का भी खाने में ले सकते हैं। यदि आप व्रत के पैक्ड फूड प्रॉडक्ट्स नहीं लेना चाहते तो आप लगातार पानी पीते रहें जिससे शरीर में पानी की कमी न हो। आइए जानें नवरात्र के व्रत में भूखें रहने के क्या नुकसान हो सकते हैं।

 

[इसे भी पढ़े : नवरात्रि उपवास और हेल्थ टिप्स]

 

  • उपवास के दिनों में पूरा दिन हल्का-फुल्का खाने या फिर पानी पर रहने और रात में हाई कैलोरी युक्त भोजन करने से आपके बीमार होने की संभावना बढ़ जाती है, इसीलिए पूरे दिन बैलेंस डाइट लेनी चाहिए और रात में हल्का-फुल्का़ लेना चाहिए।
  • कुछ लोग नवरात्र के व्रत में सिर्फ पानी या सिर्फ फलाहार का उपवास करते हैं जिससे पाचनतंत्र खराब हो सकता है।
  • कुट्टू, तैलीय भोजन, अधिक आलू इत्यादि खाने से भी स्वास्थ्य पर नकारात्मक असर पड़ता है।

 

[इसे भी पढ़े : व्रत-उपवास का सही तरीका]

 

  • पूरा दिन पानी पर रहना भी नुकसानदायक हो सकता है।
  • व्रत के दौरान हेल्दी खाना नहीं खाना या व्रत के दौरान कुछ भी नहीं खाना आपकी सेहत के लिए एक बड़ी लापरवाही हो सकती है।
  • नवरात्र के दौरान कुछ लोग यह सोचते हैं कि इससे वे अपना वजन नियंत्रित कर लेंगे जिसके चलते वे अकसर दिन भर में सिर्फ एक बार खाना खाते हैं।
  • अचानक पानी पर रहने या दिन में एक बार खाना खाने से न सिर्फ शरीर का मेटाबॉलिज्म प्रभावित होता है बल्कि शरीर में वसा की मात्रा भी बढ़ती है।
  • इसी कारण से व्रत के दौरान भी हर दो-तीन घंटे में फल और सलाद, जूस  इत्यादि लेते रहें। खीरा, खरबूज जैसे फलों को खाते रहने से डिहाइड्रेशन की समस्या नहीं होगी और वजन बढ़ने का खतरा भी नहीं रहेगा।
  • सुबह उठने के बाद ज्यादा देर तक भूखे रहने से एसीडिटी और लो ब्लडप्रेशर आदि की परेशानी हो सकती है।

 

[इसे भी पढ़े : नवरात्र व्रत के लाभ]

 

  • पूरा दिन भूखा रहना और रात में हैवी खाना खाने से बेहोशी आना, चक्कर आना, सिर दर्द होना, कमजोरी महसूस होना इत्यादि समस्याएं होने की आशंका बढ़ जाती है।
  • नौ दिन तक कम खाने और व्रत के बाद अचानक गरिष्ठ और भारी भोजन करना स्वास्थ्य के लिए हानिकारक हो सकता है। व्रत रखने से कुछ लोगों का वजन भी बढ़ जाता है, इसीलिए कमजोरी और अन्य परेशानियों से बचने के लिए व्रत के दौरान हल्का-फुल्का या फिर पेय पदार्थ अवश्य लेते रहना चाहिए।
  • नवरात के व्रत में आप फलाहार ले सकते हैं लेकिन भूखे रहकर व्रत न करें।
  • रोगियों, वरिष्ठ जनों, गर्भवती महिलाओं और बच्चों को उपवास नहीं रखना चाहिए।
  • डाइटिंग के लिए व्रत रख रहे हैं तो अच्छा होगा किसी एक्सपर्ट की सलाह लें और शेड्यूल बना उसे फॉलो करें।
  • अगर आप चाहते हैं कि व्रत के दौरान आपका वजन बढ़ने के बजाय कम हो जाए तो आपको अपनी प्रतिदिन की कैलोरी 1200 कैलोरी तक ही सीमित करनी होगी। इसके साथ ही आपको अधिक से अधिक मात्रा में तरल पदार्थ लेने होंगे। शिकंजी, लस्सी, शहद डालकर मिल्क शेक आदि लिए जा सकते हैं।

 

Read More Article on Festival-Special in hindi.

Write a Review Feedback
Is it Helpful Article?YES9 Votes 13516 Views 0 Comment
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर