थायराइड के लिए लाभदायक है अश्वगंधा का सेवन

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Jun 06, 2015
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

Quick Bites

  • थॉयराइड ग्रंथि थायरॉक्सिन हॉर्मोन का निर्माण करती है।
  • ये दो प्रकार हाइपोथायरायडिज्म और हायपरथायरोडिज्म होते है
  • अश्वगंधा थॉयराइड का प्राकृतिक उपचार माना जाता है।
  • इसके प्रयोग से पहले चिकित्सक से सलाह जरूर लें।

थायरॉयड, गर्दन में स्थित एक ग्रंथि होती हैं और वह थायरोक्सिन नाम के हार्मोन का उत्पादन करती हैं, जो शरीर की चयापचय प्रक्रिया को विनियमित करने में मदद करता है। थायरॉइड ग्रंथि के सही तरीके से काम करने से आशय है कि शरीर का मेटाबॉलिज्म यानी भोजन को ऊर्जा में बदलने की प्रक्रिया भी सही तरीके से काम कर रही है। पर जैसे ही थायरॉइड हार्मोन घटना या बढ़ना शुरू होता है तो मानव जीवन के लिए परेशानियां शुरू हो जाती हैं। इस लेख से जाने कैसे थायराइड की समस्या का इलाज किया जा सकता है।

thyroid in Hindi

थायरॉयड के प्रकार

थायरोक्सिन हार्मोन (हाइपोथायरायडिज्म) की कमी से बच्चों में बौनापन और वयस्कों में सबकटॅनेअस चरबी बढ़ जाती हैं।  और अतिरिक्त (हायपरथायरोडिज्म) हार्मोन गण्डमाला का कारण बनता हैं। थायरोक्सिन की निष्क्रियता के कारण हाइपोथायरायडिज्म हो सकता हैं, आयोडीन की कमी या थायराइड विफलता के कारण थकान, सुस्ती और हार्मोनल असंतुलन होता है। अगर अनुपचारित छोड़ दिया जाये,  तो यह मायक्झोएडेमा का कारण बन सकती हैं, जिसमें त्वचा और ऊतकों में सूजन होती हैं। आयुर्वेदिक उपचार में इस्तेमाल की जाने वाली अश्वगंधा, जड़ी बूटी इस रोग के दोनों रुपों, हायपर और हायपोथायरॉयड के लिए जवाब साबित हो सकती हैं।

Aswgandha in Hindi

अश्वगंधा  के फायदे

अश्वगंधा एक प्राकृतिक औषधि है, जो अपने शक्तिवर्धक गुणों के लिए जानी जाती है। आप चाहे तो इसकी पत्तियों को पीस कर या जड़ों को उबाल कर उपयोग में ला सकते हैं। अश्वगंधा का सेवन करने से थाइरॉइड की अनियमितता पर नियंत्रण होता है। साथ ही कैंसर होने का खतरा बढ़ जाता है। इसके लिए 200 से 1200 मिलीग्राम अश्वगंधा चूर्ण को चाय के साथ मिला कर लें। चाहें तो इसे स्वादिष्ट बनाने के लिए तुलसी का प्रयोग भी कर सकते हैं। हायपोथायरायडिज्म के लिए आयुर्वेदिक इलाज में महायोगराज गुग्गुलु और अश्वगंधा  के साथ  भी इलाज किया जाता हैं। अश्वगंधा के नियमित सेवन से शरीर में भरपूर ऊर्जा बनी रहती है साथ ही कार्यक्षमता में भी वृद्धि होती है। साथ ही यह शरीर के अंदर का हार्मोन इंबैलेंस भी संतुलित कर देता है। यह टेस्टोस्टेरोन और एण्ड्रोजन हार्मोन को भी बढाता है।

किसी भी मामले में, अगर आप अश्वगंधा का उपयोग शुरू करना चाहते हैं, तो अपने परिवार के चिकित्सक के साथ पहले इसके बारे में चर्चा करना एक अच्छा विचार हैं।

Write a Review
Is it Helpful Article?YES499 Votes 43405 Views 8 Comments
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

टिप्पणियाँ
  • MANJEET24 Sep 2012

    SIR MARI AGE 30 YEAR KI HAI OR MUJHE THYROID KI PROBLRM LAST 6 MONTH SE HUI HAI MAI ELTROSIN 125 MG LE RAHA HU KIYOKI THYROID KAFI JAYDA THI OR KOI TARIKA HO IS PROBLEM KA JIS SSE MUJE LIFE MAI KABHI KOI PROBLEM NO HO. PLS ANS ME.

  • pankaj04 Sep 2012

    thyroid ke liye achi jaankari hai

  • ritu04 Sep 2012

    great information

  • mamta25 May 2012

    which part of ashwgandha is used for hypothyroidism root or leaves?

  • mamta25 May 2012

    which part of ashwgandha is used for hypothyroidism root or leaves?

  • tapan majumdar14 May 2012

    trikatu churan le raha hun koi badlao nhi hain pure sharir mai sujan hain

  • kiran29 Apr 2012

    mera vajan growth nahi kar raha hai.vajan groeth karne ke liye hume kya karna chaiye

  • Dr.mukesh18 Nov 2011

    A FEMALE AGED 34WEIGHT 93kg IS SUFFERING FROM THYROID SINCE LAST 10YEAR,TAKING ELTROXIN 100MG IN MORNING IN EMPTY STOMACH. NOW SHE IS PREGNENT 8TH MONTH, LMP -25MARCH 2011 AND D.O.D� 22nd DECEMBER 2011� �� � � � � � � � � �REPORT OF THYROID �� � IN MAY. � � � � � � � � � � � � � � � �� T3-137NG / DL T4-12NG / DL TSH- �5.33 NIU / ML �� � � � � � �IN OCTOBER �� T3-310NG / DL �� �T4-14.60NG / DL �� � TSH-4.63 NIU / ML. � � � � � � � � � � � � � � � � � � � � � � � � � � � � � � � � � � � � � � � �

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर