स्लिप डिस्क के मरीजों के लिए फायदेमंद हैं ये 4 योगासन, एक्सपर्ट से जानें करने का तरीका

स्लिप डिस्क की समस्या युवाओं को सबसे ज्यादा हो रही है, स्लिप डिस्क में होने वाले दर्द से बचने के लिए आप इन योगासनों का सहारा ले सकते हैं। 

Prins Bahadur Singh
Written by: Prins Bahadur SinghPublished at: Sep 08, 2021Updated at: Sep 08, 2021
स्लिप डिस्क के मरीजों के लिए फायदेमंद हैं ये 4 योगासन, एक्सपर्ट से जानें करने का तरीका

क्या आपने कभी बहुत तेज और असहनीय कमर दर्द का अनुभव किया है? अगर आपको अचानक तेजी से असहनीय कमर दर्द हो रहा है तो ये हो सकता है कि आपको स्लिप डिस्क (Slip Disc) की समस्या है। आजकल के समय में स्लिप डिस्क की समस्या युवाओं में सबसे ज्यादा देखने को मिलती है। एक रिपोर्ट के मुताबिक भारत में लगभग 80 फीसदी युवा इस समस्या से ग्रसित हैं। स्लिप डिस्क सबसे ज्यादा 22 से 35 साल की उम्र के लोगों में होता है। आज के समय में नौजवानों को यह समस्या खराब जीवनशैली, गलत पोश्चर में बैठने और हड्डियों में चोट लगने की वजह से हो सकती है। स्लिप डिस्क की समस्या में सबसे कारगर और आखिरी इलाज ऑपरेशन माना जाता है लेकिन इस समस्या में होने वाले दर्द को कम करने के लिए आप योगासनों का सहारा ले सकते हैं। चूंकि स्लिप डिस्क में होने वाला दर्द बहुत तेज और असहनीय होता है इसलिए चिकित्सक भी इससे राहत पाने के लिए कुछ दवाओं के सेवन की सलाह देते हैं। अगर आप स्लिप डिस्क की समस्या से पीड़ित हैं और दर्द से छुटकारा पाना चाहते हैं तो आइये पतंजली योग केंद्र के योग गुरु मोहन से जानते हैं ऐसे योगासनों के बारे में जो स्लिप डिस्क में फायदेमंद माने जाते हैं। 

क्या होती है स्लिप डिस्क की समस्या? (What Is Slip Disc or Herniated Disc?)

 Yoga-For-Slipped-Disc

(image source - freepik.com)

स्लिप डिस्क को हर्निएटेड डिस्क या बल्गिन डिस्क के नाम से भी जाना जाता है। यह समस्या शरीर में होने वाली समस्याओं, चोट या जीवनशैली की वजह से हो सकती है। पुराने समय में इस समस्या के शिकार ज्यादातर बुजुर्ग हुआ करते थे लेकिन अब युवा सबसे ज्यादा इस समस्या से पीड़ित हैं। स्लिप डिस्क में कमर में लगातार दर्द रहता है जिसकी वजह से झुकने में बैठने में और कुछ भी काम करने में काफी तकलीफ का सामना करना पड़ता है। आपको बता दें कि डिस्क का बाहरी हिस्सा एक मजबूत झिल्ली से बना होता है और बीच में तरल जैलीनुमा पदार्थ होता है। कई बार उम्र के साथ-साथ यह तरल पदार्थ सूखने लगता है या फिर अचानक झटके या दबाव से झिल्ली फट जाती है या कमजोर हो जाती है जिसकी वजह से नसों पर दबाव बनने लगता है। 

इसे भी पढ़ें : क्रोंचासन योग का अभ्यास करने से शरीर को मिलते हैं ये 5 फायदे, जानें करने का तरीका

स्लिप डिस्क में फायदेमंद योगासन (Yoga To Get Relief From Slipped Disc)

हड्डियों में चोट, लाइफस्टाइल और बढ़ती उम्र व भारी सामन उठाने की वजह से आपको स्लिप डिस्क की समस्या हो सकती है। इस समस्या में होने वाला दर्द असहनीय होता है। स्लिप डिस्क की वजह से होने वाले कमर दर्द से राहत पाने के लिए आप कुछ योगासनों का अभ्यास कर सकते हैं। ये योगासन स्लिप डिस्क में होने वाले दर्द से राहत देने के लिए काफी उपयोगी माने जाते हैं। तो आइये जानते हैं स्लिप डिस्क में दर्द से राहत देने वाले योगासनों के बारे में। 

इसे भी पढ़ें : प्रेग्नेंसी के बाद स्ट्रेच मार्क्स (Stretch Marks) को दूर करेंगे ये 5 योगासन, एक्सपर्ट से जानें तरीका

 Yoga-For-Slipped-Disc

(image source - freepik.com)

1. शलभासन योग (Locust Pose)

शलभासन योग रीढ़ की हड्डी के लिए बहुत फायदेमंद योग माना जाता है। इसका अभ्यास जमीन पर लेटकर किया जाता है। स्लिप डिस्क और कमर दर्द की समस्या में इस योगासन का अभ्यास बहुत फायदेमंद होता है। रीढ़ की हड्डियों को मजबूत और लचीला बनाने के अलावा इस आसन के अभ्यास से पेट की मांसपेशियों को भी फायदा मिलता है। शलभासन प्राचीन काल से कमर दर्द की समस्या में किया जाने वाला आसन है।

शलभासन करने का तरीका (How To Do Locust Pose?)

  • शलभासन का अभ्यास करने के लिए किसी समतल जगह पर योगा मैट पर लेट जाएं।
  • अब पेट के बल लेटने के बाद अपने पैरों को पूरी लंबाई तक फैलाएं।
  • इसके बाद पैरों की उंगलियों को बाहर की तरफ रखते हुए हथेलियों को जमीन के सहारे रखें।
  • अब टिड्डे जैसी आकृति में कुछ देर रहें और आंखों को बंद कर लें।
  • कुछ देर के बाद सामान्य मुद्रा में आ जाएं।

 Yoga-For-Slipped-Disc
(image source - freepik.com)

2. उष्ट्रासन (Camel Pose)

उष्ट्रासन शब्द संस्कृत भाषा के दो शब्दों से मिलकर बना है, पहला उष्ट्र जिसका अर्थ ऊंट है और दूसरा सन जिसका अभिप्राय आसन से है। यही कारण है कि उष्ट्रासन को अंग्रेजी में कैमल पोज कहा जाता है। उष्ट्रासन का नियमित अभ्यास करने से शरीर में लचीलापन आता है और शरीर के सभी अंगों को फायदा मिलता है। नियमित रूप से उष्ट्रासन का अभ्यास करने वाले लोगों की पाचन शक्ति बहुत मजबूत होती है। उष्ट्रासन का अभ्यास स्लिप डिस्क के दर्द में भी बहुत फायदेमंद होता है। किसी प्रकार की चोट या अन्य कारणों से स्लिप डिस्क की समस्या में होने वाले दर्द से राहत पाने के लिए उष्ट्रासन का अभ्यास फायदेमंद माना जाता है।

उष्ट्रासन करने का तरीका (How To Do Ustrasana?)

  • उष्ट्रासन का अभ्यास करने के लिए सबसे पहले योगा मैट पर बैठ जाएं।
  • अब अपने घुटनों के सहारे बैठें और दोनों हाथों को कूल्हों पर टिका लें।
  • इसके बाद अपने घुटनों को कंधे के सामानांतर रखें और तलवों को ऊपर की तरफ रखें।
  • अब सांस अंदर की तरफ खींचते हुए रीढ़ की हड्डी को नीचे की तरफ अंदर लेकर जाएं।
  • इस दौरान गर्दन पर दबाव न दें और सीधे बैठे रहें।
  • कुछ देर तक इस स्थिति में रहें और फिर वापस आ जाएं।
 Yoga-For-Slipped-Disc
(image source - freepik.com)

3. भुजंगासन (Cobra Pose)

भुजंगासन को अंग्रेजी में कोबरा पोज कहा जाता है। इसके नाम से ही अंदाजा लगाया जा सकता है कि इस आसन में कौन सी मुद्रा होती है। इस आसन में हमें सांप की मुद्रा में रहना होता है। इसका नियमित अभ्यास शरीर के लिए बहुत फायदेमंद है। शरीर के लिए भुजंगासन के नियमित अभ्यास से फायदे तो बहुत हैं लेकिन विशेष रूप से इसका अभ्यास करने से पीठ और रीढ़ की हड्डी मजबूत होती है और शरीर का पाचन तंत्र मजबूत होता है। यह आसन सूर्य नमस्कार आसन का 8वां आसन है। इस आसन के नियमित अभ्यास से आप स्लिप डिस्क की समस्या में होने वाले दर्द से छुटकारा पा सकते हैं।

भुजंगासन करने का तरीका (How To Do Bhujangasana?)

  • भुजंगासन का अभ्यास करने के लिए सबसे पहले चटाई या योगा मैट पर पेट के बल लेट जाएं। 
  • अब अपने दोनों हाथों की हथेलियों को जांघ के पास रखें। 
  • इसके बाद हाथों को कंधों के बराबर लेकर जाएं और हथेलियों को जमीन की तरफ रखें। 
  • अब शरीर के वजन को हथेलियों पर डालते हुए अपनी सांस अंदर की तरफ खींचें। 
  • इसके बाद सिर को उठकर पीछे की तरफ खींचें। 
  • सिर को पीछे ले जाते हुए अपनी छाती को बाहर की तरफ लाएं और कोहनियों को जमीन से टिका कर रखें। 
  • अब सांप की तरह आकृति में अपने सिर को रखें। 
  • कुछ देर इस स्थिति में रहें और फिर सामान्य मुद्रा में आएं। 

4. शवासन (Shavasana)

सभी आसनों के अभ्यास के बाद सबसे आखिरी में शरीर को रिलैक्स करने और मन को शांत करने के लिए शवासन का अभ्यास किया जाता है। शरीर की आंतरिक उर्जा को बढ़ाने के लिए शवासन का अभ्यास बहुत फायदेमंद माना जाता है। शवासन के अभ्यास से आप स्लिप डिस्क की वजह से कमर और गर्दन में होने वाले असहनीय दर्द से राहत पा सकते हैं।

शवासन के अभ्यास का तरीका (How To Do Shavasana?)

  • शवासन का अभ्यास करने के लिए सबसे पहले पेट के बल लेट जायें।
  • अब अपने दोनों पैरों को ढीला करके बाहर की तरफ छोड़ दें।
  • इसके बाद हथेलियों को आसमान की तरफ ढीला छोड़ते हुए शरीर के सभी जोड़ पर बारी-बारी से दबाव डालें।
  • इसके बाद शरीर को रिलैक्स छोड़ देने के बाद ध्यान लगाते हुए लेटे रहें।
 Yoga-For-Slipped-Disc
(image source - freepik.com)

इन आसनों का अभ्यास स्लिप डिस्क की समस्या में होने वाले दर्द से राहत दिलाने में बहुत फायदेमंद माना जाता है। शुरुआत में इसका अभ्यास एक्सपर्ट या योग गुरु के देखरेख में ही किया जाना चाहिए। बिना डॉक्टर से परामर्श किये इन योगासनों का अभ्यास बिलकुल भी न करें।

(main image source - freepik.com)

Read More Articles on Yoga in Hindi

Disclaimer