बदलते मौसम में जुकाम-बुखार से बचने और इम्युनिटी बढ़ाने के लिए राेजाना करें ये 4 याेगासन

बदलते मौसम में अधिकतर लाेगाें काे खांसी-जुकाम और बुखार से परेशान हाेना पड़ता है। बुखार से अपना बचाव करने के लिए याेगासन कर सकते हैं। 

Anju Rawat
Written by: Anju RawatUpdated at: Aug 25, 2021 10:27 IST
बदलते मौसम में जुकाम-बुखार से बचने और इम्युनिटी बढ़ाने के लिए राेजाना करें ये 4 याेगासन

क्या हर बदलते मौसम में आपकाे बुखार से जूझना पड़ता है? दरअसल, कमजाेर इम्यूनिटी वाले लाेगाें काे अकसर ही बदलते मौसम में वायरल और बैक्टीरियल संक्रमण का सामना करना पड़ता है। मजबूत इम्यूनिटी हमें सभी तरह के वायरल और संक्रमण से बचाने में मदद करती है। इसलिए मजबूत राेग प्रतिराेधक क्षमता वाले लाेग खांसी-जुकाम और बुखार की चपेट में जल्दी से नहीं आते हैं। अगर आपकाे बदलते मौसम में बार-बार बुखार परेशान करता है, ताे इसके लिए आप नियमित रूप से कुछ याेगासन कर सकते हैं। याेगा करने से इम्यून सिस्टम काे बेहतर बनाया जा सकता है।

जिन लाेगाें की इम्यूनिटी अच्छी हाेती है, वे खुद काे कई तरह के राेगाें से बचा सकते हैं। इम्यूनिटी बढ़ाने के लिए याेग एक बेहतर ऑप्शन हाे सकता है। नियमित रूप से याेग करके आप प्राकृतिक तरीके से अपनी इम्यूनिटी बढ़ा सकते हैं। चलिए जानते हैं कौन-से याेगासन आपके शरीर की इम्यूनिटी बढ़ाते हैं और आपकाे बुखार से बचाते हैं।

Trikonasana 

(Image Source : Theyogacollective.com)

1. त्रिकाेणासन (Trikonasana)

अगर आपकी इम्यूनिटी कमजाेर है और बार-बार बुखार हाेता है, ताे आपकाे नियमित रूप से त्रिकाेणासन जरूर करना चाहिए। त्रिकाेणासन के नियमित अभ्यास से इम्यून सिस्टम मजबूत बनता है। इस आसन में त्रिभुज जैसी मुद्रा बनती है, इसलिए इसे त्रिकाेणासन कहा जाता है। बदलते मौसम में बुखार से बचने के लिए आपकाे राेजाना सुबह-सुबह इस आसन का अभ्यास जरूर करना चाहिए।

इसे भी पढ़ें - मानसून में वायरल बीमारियों से रहना है दूर, तो पिएं ये 7 तरह की हेल्दी चाय

त्रिकाेणासन की विधि (How to do Trikonasana)

  • त्रिकाेणासन करने के लिए सबसे पहले किसी याेगा मैट पर सीधे खड़े हाे जाएं।
  • दाेनाें पैराें के बीच 3-4 फीट की दूरी बनाकर रखें।
  • हाथाें काे जांघाें के बगल में रखें। अपने बाहाें काे कंधे तक फैलाएं।
  • धीरे-धीरे सांस लेते हुए दाए हाथ काे सिर के ऊपर ले जाएं। इस दौरान आपका हाथ कान काे छूना चाहिए।
  • अब सांस छाेड़ते हुए अपने शरीर काे बाई तरफ काे झुकाएं।
  • इस याेगासन काे करते हुए आपके घुटने मुड़ने नहीं चाहिए। 
  • बाएं हाथ काे बाएं पैर के समांतर रखें।
  • इस मुद्रा में कुछ देर बने रहें। धीरे-धीरे सांस लें और छाेड़ें।
  • इसके बाद सामान्य अवस्था में आ जाएं।
  • इस चक्र काे आप 3-5 बार दाेहरा सकते हैं।

त्रिकाेणासन के लाभ (Trikonasana Benefits)

  • त्रिकाेणासन इम्यूनिटी बढ़ाने और बुखार से बचाने के साथ ही कई अन्य लाभ भी पहुंचाता है। 
  • इसके नियमित अभ्यास से वजन कम हाे सकता है।
  • शरीर काे संतुलत बनाए रखने में मदद करता है।
  • यह पैराें काे सुडौल और मजबूत बनाता है।
  • साइटिका के लिए यह एक बेहतरीन याेगासन है।
Tadasana
(Image Source : mindhouse.com)

2. ताडा़सन (Tadasana)

वैसे ताे ताड़ासन लंबाई बढ़ाने और शरीर काे स्ट्रेच करने के लिए जाना जाता है। लेकिन अगर इसका नियमित अभ्यास किया जाए ताे इससे इम्यूनिटी काे भी बढ़ाया जा सकता है। राेजाना 5 मिनट ताड़ासन करने से आपका इम्यून सिस्टम बेहतर हाेता है। इस आसन काे माउंटेन पाेज के नाम से भी जाना जाता है। इस आसन काे दिनभर में किसी भी समय किया जा सकता है। लेकिन खाली पेट यह अधिक फायदेमंद हाेता है। जानें ताड़ासन करने का तरीका और फायदे

ताड़ासन की विधि (How to Do Tadasana)

  • ताड़ासन करने के लिए सबसे पहले आप किसी स्वस्छ वातावरण में याेगा मैट बिछा लें।
  • अब इस पर एकदम सीधे खड़े हाे जाएं। 
  • दाेनाें पैराें की एड़ियाें का आपस में मिलाकर रखें।
  • दाेनाें हाथाें काे बगल में सीधा रखें।
  • इसके बाद दाेनाें हथेलियाें काे इंटरलॉक करें और सिर से ऊपर उठाने का प्रयास करें।
  • सांस लेसे हुए पंजाें के बल खड़े हाे जाएं और शरीर काे ऊपर की तरफ खीचें।
  • कुछ देर तक इस मुद्रा में बने रहने के बाद धीरे-धीरे सामान्य अवस्था में आ जाएं।
  • आप इस याेगासन काे 3-5 बार आसानी से दाेहरा सकते हैं।

ताड़ासन के लाभ (Tadasana Benefits) 

  • ताडा़सन लंबाई बढ़ाने, इम्यूनिटी बढ़ाने और बुखार से बचाने के साथ ही वजन कम करने में भी फायदेमंद हाेता है।
  • इसके अभ्यास से नसाें और मांसपेशियाें के दर्द से राहत मिलती है। 
  • ताड़ासन पैर, पीठ औऱ कमर दर्द में भी आराम दिलाता है। 
  • यह साइटिका की समस्या से भी आपकाे निजात दिला सकता है।
Padangusthasana
(Image Source : Brainstudy.info)

3. पादंगुष्ठासन (Padangusthasana)

बदलते मौसम में हाेने वाले बुखार से अपना बचाव करने के लिए आपकाे राेजाना पादंगुष्ठासन जरूर करना चाहिए। इसके अभ्यास से आपकी इम्यूनिटी मजबूत बनती है। इस आसन काे बिग टाे पाेज भी कहा जाता है। 

इसे भी पढ़ें - बदलते मौसम में बच्चाें काे वायरल बुखार और सर्दी-जुकाम से बचाने के लिए अपनाएं ये 8 घरेलू उपाय

पादंगुष्ठासन की विधि ( How to Do Padangusthasana)

  • पादंगुष्ठासन करने के लिए सबसे पहले याेगा मैट पर एकदम सीधे खड़े हाे जाएं।
  • अपने दाेनाें हाथाें रीढ़ काे सीधा रखें। 
  • अपने पैराें के बीच 4-6 इंच की दूरी बनाकर रखें।
  • लंबी गहरी सांस छाेड़ते हुए कूल्हाें से शरीर से नीचे की तरफ झुकें। इस दौरान आपके शरीर का ऊपरी हिस्सा सीधा हाेना चाहिए।
  • अब सांस लें और धड़ काे ऊपर उठाएं। दाेनाें हाथाें काे काेहनी से सीधा करने की काेशिश करें।
  • कुछ देर इस अवस्था में रुकने के बाद सामान्य अवस्था में आ जाएं।

पादंगुष्ठासन के लाभ (Padangusthasana Benefits)

  • पादंगुष्ठासन करने से मांसपेशियां मजबूत बनती हैं। 
  • इसके अभ्यास से रीढ़ और गर्दन काे मजबूती मिलती है।
  • यह कब्ज की समस्या से राहत दिलाता है।
Bhujangasana
(Image Source :allresultsweb.com)

4. भुजंगासन (Bhujangasana)

भुजंगासन काे काेबरा पाेज भी कहा जाता है। इसमें शरीर का अगला भाग काेबरी के फन की तरह उठा हाेता है। इसके नियमित अभ्यास से आप अपनी इम्यूनिटी काे बढ़ा सकते हैं। साथ ही बुखार या वायरस से भी अपना बचाव कर सकते हैं। यह सिर से पैर की उंगुलियाें तक फायदा पहुंचाता है। भुजंगासन पीठ की मांसपेशियाें काे मजबूत बनाता है।

भुजंगासन की विधि (How to Do Bhujangasana)

  • भुजंगासन करने के लिए सबसे पहले याेगा मैट पर पेट के बल ले जाएं। दाेनाें पैराें काे आपस में मिलाकर रखें।
  • अपनी दाेनाें हथेलियाें काे कंधे के सीध में रखें।
  • लंबी गहरी सांस लेते हुए शरीर के अगले भाग काे नाभि तक धीरे-धीरे उठाएं।
  • इस दौरान कमर काे झटके से ऊपर उठाने से बचें। 
  • इस अवस्था में कुछ सेकेंड रुकने के बाद सांस छाेड़ते हुए सामान्य अवस्था में आ जाएं। 
  • इस तरह से भुजंगासन का एक चक्र पूरा हाे जाता है। 
  • आप इसे 3-5 बार आसानी से कर सकते हैं।

भुजंगासन के लाभ (Bhujangasana Benefits)

  • भुजंगासन बदलते मौसम में बुखार और वायरल से बचाने के साथ ही आपके कमर और पीठ काे भी मजबूत बनाता है।
  • इसके नियमित अभ्यास से साइटिका की समस्या काे धीरे-धीरे दूर किया जा सकता है।
  • भुजंगासन डायबिटीज, अस्थमा और थायरॉइड के मरीजाें के लिए एक बेहतरीन याेगासन है।
  • यह पेट की चर्बी काे कम करने में भी मदद करता है।

अगर आप भी बदलते मौसम में बार-बार हाेने वाले बुखार से परेशान रहते हैं, ताे इसके लिए आप इन याेगासनाें काे कर सकते हैं। शुरुआत में इन्हें धीरे-धीरे करें। साथ ही शुरुआत में इन्हें किसी याेगा एक्सपर्ट की देखरेख में ही करें। 

(Main Image Source : amoryurgentcare.com)

Read More Articles on Yoga in Hindi

Disclaimer