मेटाबॉलिज्म बढ़ाने और वजन कम करने के लिए रोज करें इन 5 योगासनों का अभ्यास, जानें तरीका

मेटाबॉलिज्म बढ़ाने और वजन कम करने के लिए योगासनों का अभ्यास बहुत फायदेमंद माना जाता है, जानें मेटाबॉलिज्म बढ़ाने के लिए योग के बारे में।

Prins Bahadur Singh
Written by: Prins Bahadur SinghPublished at: Apr 19, 2022Updated at: Apr 19, 2022
मेटाबॉलिज्म बढ़ाने और वजन कम करने के लिए रोज करें इन 5 योगासनों का अभ्यास, जानें तरीका

आज के समय में मॉडर्न और फास्ट लाइफस्टाइल की वजह से शरीर को स्वस्थ रख पाना थोड़ा मुश्किल हो गया है। खानपान और जीवनशैली पर ध्यान न देने की वजह से लोगों की इम्यूनिटी पर इसका विपरीत प्रभाव पड़ रहा है। आज के समय में मोटापे की समस्या तेजी से बढ़ रही है इसका सबसे बड़ा कारण असंतुलित खानपान और जीवनशैली है। शरीर का चयापचय या मेटाबॉलिज्म (Metabolism in Hindi) ठीक होने पर आपको मोटापे की समस्या और कई गंभीर बीमारियों में फायदा मिलता है। हर व्यक्ति का मेटाबॉलिज्म उम्र, लिंग और शारीरिक गतिविधि व खानपान पर निर्भर करता है। वजन कम करने के लिए आपके शरीर का मेटाबॉलिज्म ठीक होना बेहद जरूरी है। मेटाबॉलिज्म ठीक होने पर शरीर की सभी क्रियाएं ठीक रहती हैं। मेटाबॉलिज्म बढ़ाने से आपको वजन कम करने में भी फायदा मिलता है। मेटाबॉलिज्म बूस्ट करने के लिए खानपान और शारीरिक गतिविधियों में बदलाव उपयोगी माना जाता है। आप नियमित रूप से कुछ योगासनों का अभ्यास कर अपना मेटाबॉलिज्म बूस्ट कर सकते हैं। आइये जानते हैं इन योगासनों के बारे में।

मेटाबॉलिज्म बढ़ाने और वजन कम करने के लिए योगासन (Yoga To Boost Metabolism For Weight Loss in Hindi)

मेटाबॉलिज्म को आसन भाषा में भोजन पचाने की प्रक्रिया कहा जा सकता है। शरीर के वजन और शारीरिक स्थिति के लिए काफी हद तक मेटाबॉलिज्म को जिम्मेदार माना जा सकता है। अगर आपका मेटाबॉलिज्म कम है तो इसकी वजह से आपके शरीर में कई समस्याएं हो सकती हैं और इसकी वजह से वजन बढ़ भी सकता है। शरीर का मेटाबॉलिज्म ठीक करने से आपको वजन कम करने में भी फायदा मिलता है। आइये जानते हैं ऐसे योगासनों के बारे में जिनका रोजाना अभ्यास कर आप शरीर का मेटाबॉलिज्म बूस्ट कर सकते हैं और वजन कम करने में फायदा मिलता है। 

इसे भी पढ़ें : ऑफिस में थकान महसूस कर रहे हैं तो बैठे-बैठे करें ये 6 योगासन, मिलेगा फायदा

Yoga-To-Boost-Metabolism

1. हलासन का अभ्यास (Halasana Or Plow Pose)

हलासन का नियमित अभ्यास करने से आपको पाचन तंत्र को मजबूत करने में बहुत फायदा मिलता है। हलासन का नियमित रूप से अभ्यास करने से आप सही तरीके से वजन कम कर सकते हैं। इसके अलावा माना जाता है कि शरीर में शुगर लेवल को कंट्रोल में रखने के लिए भी हलासन का अभ्यास बहुत फायदेमंद है। इस योगासन का अभ्यास मेटाबॉलिज्म बढ़ाने और वजन कम करने के साथ-साथ नपुंसकता, साइनोसाइटिस, इंसोम्निया और सिरदर्द जैसी समस्या में भी फायदेमंद माना जाता है। 

हलासन का अभ्यास करने का तरीका -

  • हलासन का अभ्यास करने के लिए सबसे पहले साफ और हवादार जगह पर योगा मैट बिछाकर लेट जाएं।
  • अब इसके बाद अपने हाथ को शरीर के पास लेकर आयें और इस दौरान हथेलियों को जमीन की तरफ रखें।
  • सांस को अंदर की तरफ खींचते हुए पैरों को ऊपर की तरफ ले जाएं।
  • अब अपने पैरों को 90 डिग्री के कोण पर रखते हुए हाथों से कमर को सहारा दें।
  • इसके बाद टांगों को सिर की तरफ झुकाएं और पेरों को सिर के पीछे ले जाएं।
  • इसके बाद हाथों को कमर से हटाकर जमीन की तरफ रखें और इस पोज में कुछ देर बने  रहने के बाद सामान्य स्थिति में वापस आयें।
Yoga-To-Boost-Metabolism

2. उष्ट्रासन का अभ्यास (Ustrasana Or Camel Pose)

उष्ट्रासन का अभ्यास भी शरीर का चयापचय या मेटाबॉलिज्म बढ़ाने के लिए बहुत उपयोगी माना जाता है। नियमित रूप से उष्ट्रासन का अभ्यास करने से आपको वजन कम करने में भी फायदा मिलता है। थायरॉयड ग्रंथि उत्तेजित करने और शरीर में हॉर्मोन को बैलेंस रखने में भी उष्ट्रासन का अभ्यास बहुत फायदेमंद माना जाता है।

उष्ट्रासन का अभ्यास करने का तरीका -

  • उष्ट्रासन का अभ्यास करने के लिए सबसे पहले घुटनों के बल योगा मैट पर बैठ जाएं।
  • इसके बाद अपने दोनों हाथों को हिप्स पर रख लें।
  • अब सांस को अंदर की तरफ खींचते हुए रीढ़ की हड्डी को आगे की तरफ लेकर जाएं।
  • कमर को पीछे की तरफ मोड़ें और धीरे-धीरे हथेलियों से पैरों को मजबूती से पकड़ें।
  • अब गर्दन को ढीला छोड़ें और 30 से 60 सेकंड तक इसी मुद्रा में बने रहें।
  • इसके बाद सामान्य मुद्रा में वापस आयें।

Yoga-To-Boost-Metabolism

3. सर्वांगासन  का अभ्यास (Sarvangasana Or Shoulder Stand Pose)

सर्वांगासन जैसा कि नाम से ही पता चलता है शरीर के सभी अंगों के लिए फायदेमंद योगासनों में से एक है। सर्वांगासन का नियमित अभ्यास करने से आपको शरीर का मेटाबॉलिज्म बढ़ाने के साथ-साथ वजन कम करने में फायदा मिलता है। इसका अभ्यास पैरों, हिप्स और जांघों की मांसपेशियों के लिए बहुत फायदेमंद होता है। नियमित रूप से सर्वांगासन का अभ्यास करने से आपका पाचन तंत्र मजबूत होता है।

सर्वांगासन का अभ्यास करने का तरीका -

  • सर्वांगासन का अभ्यास करने के लिए सबसे पहले योगा मैट या चटाई पर पीठ के बल लेटें।
  • इसके बाद दोनों हाथों को शरीर के बगल में रखें।
  • अब अपने पैरों को जमीन से ऊपर की तरफ उठायें और सीधा करें।
  • इसके बाद अपने पेल्विक को जमीन से ऊपर की तरफ उठाएं।
  • कंधे, सिर, पेल्विक और पैरों को एक सीधी रेखा में रखें।
  • शोल्डर यानी कंधे के सहारे उल्टा जमीन पर खड़े होने की मुद्रा में रहें।

4. शलभासन का अभ्यास (Shalabhasana Or The Locust Pose)

मेटाबॉलिज्म बढ़ाने और वजन कम करने के लिए शलभासन का अभ्यास बहुत फायदेमंद होता है। इस योगासन के नियमित अभ्यास से आपकी रीढ़ की हड्डी को बहुत लाभ मिलता है। इस योगासन का अभ्यास करते समय आपकी मुद्रा टिड्डे के समान होती है।

Yoga-To-Boost-Metabolism

शलभासन का अभ्यास करने का तरीका -

  • सबसे पहले योगा मैट पर पेट के बल लेट जाएं।
  • इसके बाद अपने सिर और ऊपरी शरीर व हाथ और पैरों को ऊपर की तरफ उठाएं।
  • इस दौरान अपने हाथों को फर्श पर सीधा रखें और पीठ को सीधी करें।
  • आगे की तरफ गर्दन को उठाएं और कुछ देर तक इसी मुद्रा में बने रहें और फिर सामान्य अवस्था में आयें।
Yoga-To-Boost-Metabolism

5. गरुड़ासन का अभ्यास (Garudasana Or Eagle Pose)

गरुड़ासन का अभ्यास शरीर का चयापचय यानी मेटाबॉलिज्म बढ़ाने के लिए बहुत फायदेमंद माना जाता है। इसका अभ्यास बहुत आसान माना जाता है और शरीर का वजन कम करने में इस योगासन का अभ्यास बहुत उपयोगी होता है।

गरुड़ासन का अभ्यास करने का तरीका -

  • ईगल पोज करने के लिए आप अपने पैरों को मोड़ें और बाहों को एक-दूसरे लपेट लें।
  • अपना वजन अपने बाएं पैर पर शिफ्ट करें और अपने दाहिने पैर को फर्श से उठाएं।
  • अपनी बाईं जांघ के ऊपर अपनी दाहिनी जांघ को रखें। अपने दाहिने पैर को अपने बाएं के चारों ओर झुकाएं।
  • अपनी बाहों को अपने सामने उठाएं, फर्श के समानांतर पर रखें।
  • इसके बाद अपनी बाहों को मोड़ें, उन्हें कोहनियों से जोड़ने के लिए बाईं ओर दाईं ओर क्रॉस करें।
  • इस दौरान सांस लेते और छोड़ते रहें और इसे आप 5-10 बार कर सकते हैं। 

मेटाबॉलिज्म बढ़ाने के लिए और वजन कम करने के लिए नियमित रूप से आप इन योगासनों का अभ्यास कर सकते हैं। अगर आप पहली बार इन योगासनों का अभ्यास कर रहे हैं तो शुरुआत में ट्रेनर या एक्सपर्ट की सहायता जरूर लें। शरीर में किसी तरह की बीमारी या हड्डियों से जुड़ी समस्या होने पर योगासनों का अभ्यास न करें।

(All Image Source - Freepik.com)

 
Disclaimer