International Yoga Day 2019 : कमर और पीठ दर्द से राहत दिलाएगा शलभासन, PM मोदी से जानें करने का तरीका

पीएम मोदी एनिमेटेड योगा सीरीज में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के आधिकारिक ट्विटर हैंडल से एक नया वीडियो जारी किया गया है। जिसमें शलभासन के बारे में बताया गया है, जो कि पेट व जांघों की चर्बी को कम करने के साथ कमर व पीठ के दर्द और कंधे व गर्दन की मांस

Sheetal Bisht
Written by: Sheetal BishtUpdated at: Jun 17, 2019 16:51 IST
International Yoga Day 2019 : कमर और पीठ दर्द से राहत दिलाएगा शलभासन, PM मोदी से जानें करने का तरीका

अंर्तराष्‍ट्रीय योग दिवस (International Yoga Day 2019)  को लेकर देशभर में तैयारियों के चलते पीएम मोदी भी अपना पूरा योगदान देते हुए, पूरी कोशिश कर रहे हैं कि देश की जनता को योग के प्रति जागरूक किया जाए। पीएम मोदी एनिमेटेड योगा सीरीज में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के ट्विटर हैंडल से रोजाना एक नया वीडियों जारी किया जा रहा है। एक नये वीडियो के जरिए पीएम मादी शलभासन के फायदे, आसन करने के तरीके और फायदों के बारे में विस्‍तार में बता रहे हैं। जिसमें उन्‍होंने लिखा है, शलभासन का अभ्यास मजबूत कलाई, पीठ की मांसपेशियों और स्पोंडिलिटिस की रोकथाम फायदेमंद हैं'। इस वीडियो को लोगों के जरिए खूब पसंद भी किया जा रहा है। आइए वीडियों के माध्‍यम से पीएम मोदी के साथ जानते हैं शलभासन करने का सही तरीका। 

शलभासन क्‍या है। 

शलभासन, शलभ एक का शब्‍द है, जिसका अर्थ है टिड्डा। शलभासन (The Locust Posture) इस आसन में शरीर का आकार टिड्डे के समान हो जाता है। इसे करने से कमर और पीठ के मजबूत होते हैं और पाचन क्रिया भी बेहतर होती है।  

इसे भी पढें:  पीएम मोदी से जानें वक्रासन के फायदे और करने का तरीका, देखें वीडियो

शलभासन करने का तरीका 

  • शलभासन करने के लिए आपको सबसे पहले मकरासन की मुद्रा में आना होगा। जिसके लिए आप जमीन पर पेट के बल लेट जाएं और अपने पैरों को एक-दूसरे से दूर रखें। 
  • अब अपने माथे को अपनी हथेलियों के ऊपर रख दें और अपने शरीर को आराम दें।
  • अब आप मकरासन से बढ़ते हुए अपने पैरों को आपस में मिला लें। अब अपने हाथों को अपने शरीर के समीप इस तरह रखें कि आपके हाथ आसमान की तरफ हों और थेड़ी जमीन पर हो।
  • इसके बाद एक गहरी सांस लेते ह़ए अपने कूल्‍हों की मांसपेशियों के सहारे अपने पैरों को जमीन से ऊपर उठाएं। आप अपने पैरों को उतना ही ऊपर उठाएं, जितना आप अपने घुटनों को बिना मोड़े उठा सकें यानि कि आपके घुटने सीधे रह सकें।
  • पैरों को ऊपर उठाए रखने के लिए आप अपनी बाहों का सहारा ले सकते हैं। जिससे आप अपने शरीर को स्थिर रख सकें।
  • अब आप इस स्थिति में सामान्‍य रूप से सांस लें और छोड़े और कम से कम 10 से 20 सेकेंण्‍ड आराम से रहें।
  • इसके बाद सांस छोड़ते हुए अपने पैरों को वापिस जमीन पर लाएं और मकरासन की मुद्रा में आने के बाद शरीर को आराम दें। 

शलभासन के लाभ 

  • शलभासन करने से सायटिका व पीठ के निचले हिस्‍से के दर्द में राहत मिलती है। 
  • यह आसान कूल्‍हों व गुर्दों के आस-पास की मांसपेशियों को आकार देता है और जांघों की चर्बी को कम करने में मददगार है।
  • शलभासन आपके वजन को कम करने के साथ पेट और पाचन क्रिया के लिए भी फायदेमंद होता है।
  • शलभासन आपके मासिक तनाव व थकान को दूर करने के साथ आपके मन को शांत करता है। 

सावधानी 

  • हर्निया, पेप्टिक अल्‍सर, हृदय रोगियों और गभर्वती महिलाओं को यह आसन नहीं करना चाहिए।    
  • यदि पीठ के निचले हिस्‍से में अधि‍क दर्द हो, तो यह आसन सावधानी के साथ या फिर प्रशिक्षक की देखरेख में करना चाहिए।    

Read More Article On Yoga In Hindi  

Disclaimer