मेटाबॉलिज्म बढ़ाने और हेल्दी रहने के लिए आज से ही अपना लें ये 7 नियम, दूर हो जाएंगी कई परेशानियां

आपका मेटाबॉलिज्म जितना बेहतर होगा, आप उतने अधिक स्वस्थ रहेंगे क्योंकि मेटाबॉलिज्म के द्वारा ही आपका शरीर एनर्जी का सही इस्तेमाल कर पाता है।

Monika Agarwal
तन मनWritten by: Monika AgarwalPublished at: May 16, 2021
मेटाबॉलिज्म बढ़ाने और हेल्दी रहने के लिए आज से ही अपना लें ये 7 नियम, दूर हो जाएंगी कई परेशानियां

जब भी हम भोजन करते हैं, तो किया हुआ भोजन हमारे शरीर में जाते ही एनर्जी के रूप में बदलने लगता है। उसी प्रक्रिया को मेटाबॉलिज्म यानि की चयापचय कहते हैं। अगर हमारे शरीर का मेटाबॉलिज्म ठीक नहीं है तो शरीर में थकान, हाई कोलेस्ट्रोल, मांसपेशियों की कमजोरी, त्वचा में रूखापन, बढ़ता हुआ वजन, जोड़ों में सूजन और दर्द, पीरियड्स में परेशानी, डिप्रेशन जैसी तमाम समस्याओं का सामना करना पड़ता है। सही समय में मेटाबॉलिज्म की ओर ध्यान देना बेहद जरूरी है। मेटाबॉलिज्म का स्तर शरीर में सही रहेगा तो वजन भी तेजी से कम होगा। इसलिए आप अपनी लाइफस्टाइल में कुछ निम्न बदलाव करके शरीर में मेटाबॉलिज्म को बढ़ा सकती हैं।

1. पर्याप्त खाएं (Eat Properly)

अगर आप वजन कम करना चाहती हैं तो, कम खाना इसका हल नहीं है। अगर शरीर में पर्याप्त कैलोरी नहीं जा रही है तो शरीर की मांसपेशियां कमजोर होने लगती है। और मेटाबॉलिज्म भी कम होने लगता है। जिससे शरीर भी धीमा काम करता है। विशेषज्ञों के मुताबिक वजन कम करने की चाह में लोग गलत तरीके अपनाने लगते हैं। ये बात सच है कि वजन कम करने के लिए जितनी कम कैलोरी हो सके उतनी कम कैलोरी लें। लेकिन आप अपने आहार में ऐसी चीजें शामिल करें जिससे शरीर में एनर्जी बरकरार रहे। और आपका वजन भी कम हो।

healthy metabolism tips

2. मसल्स पर हो ध्यान (Focus On Muscles)

मेटाबॉलिज्म का सही स्तर हमारी मांसपेशियों पर काफी असर डालता है। आपको जानकार हैरानी होगी कि आप जब भी आराम करते हैं तो आपका शरीर तब भी कैलोरी बर्न कर रहा होता है। आप मांसपेशियों के निर्माण के लिए वर्कआउट करने की कोशिश करें। आपका ट्रेडमिल में रनिंग करना बेहतर विकल्प है। इससे मेटाबॉलिज्म भी बढ़ता है और वजन भी कम होता है। आप इसके अलावा कार्डियो, एरोबिक, रनिंग, साइकिलिंग भी कर सकती हैं।

इसे भी पढ़ें: जानें शरीर के लिए क्यों जरूरी है तेज मेटाबॉलिज्म? बढ़ती उम्र के साथ मेटाबॉलिज्म को मेनटेन रखने के 5 आसान तरीके

3. हर रोज खाएं प्रोटीन (More Protein Intake)

प्रोटीन हमारे शरीर के लिए कितना जरूरी है, इस बात से कोई भी ऐतराज नहीं कर सकता। प्रोटीन हमारे शरीर के मेटाबॉलिज्म को बढ़ाने में मदद करता है। आप जितना प्रोटीन अपने आहार में शामिल करेंगी, आपकी मांसपेशियों को भी उतनी ही मजबूती मिलेगी। शोध के मुताबिक उबले अंडे, चिकन का ब्रेस्ट पार्ट, फलियां जैसी तमाम चीजों में प्रोटीन पर्याप्त मात्रा में होता है। लेकिन आम तौर पर हर रोज हमारे शरीर को 0.8 ग्राम प्रोटीन की जरूरत होती है। जिससे शरीर को एनर्जी मिलती रहती है।

4. साबुत अनाज का करें सेवन (Eat More Wholegriains)

साबुत अनाज शरीर के मेटाबॉलिज्म को बनाए रखने में मदद करते हैं। शरीर का मेटाबॉलिज्म उतना होना चाहिए, जिससे शरीर को कुछ भी पचाने में ज्यादा मेहनत ना करनी पड़े। शोधकर्ताओं की मानें तो साबुत अनाज के सेवन से शरीर में 50 फीसदी तक मेटाबॉलिज्म बढ़ता है। आप साबुत अनाज में उन चीजों को शामिल करें, जिनमें फाइबर की मात्रा अच्छी हो जैसे- ब्राउन राइस, जई का दलिया, अंकुरित अनाज।

इसे भी पढ़ें: सुबह खाली पेट करें इन 4 चीजों का सेवन, बढ़ेगा मेटाबॉलिज्म, रहेंगे एनर्जी से भरे और घटेगा वजन

5. अच्छी नींद लें (Healthy Sleep Is Good)

अच्छे स्वास्थ्य के लिए एक अच्छी नींद की जरूरत होती है। अध्ययन के मुताबिक नींद की कमी के कारण शरीर से मेटाबॉलिज्म का स्तर कम होने लगता है। अगर आप भरपूर नींद नहीं लेते तो कई तरह की बीमारियां भी घेरने लगती हैं। विशेषज्ञों की मानें तो अच्छे स्वास्थ्य के लिए सात से नौ घंटे की नींद जरूरी बताई जाती है। नींद पूरी होनी बेहद जरूरी है। इससे शरीर में एनर्जी भी बनी रहती है।

sleep for good metabolism

6. फाइबर युक्त फल का करें सेवन (Have Fibrous Food)

फल स्वास्थ्य के लिए काफी अच्छे माने जाते हैं और अगर फल फाइबर युक्त हैं तो मेटाबॉलिज्म भी अच्छा बना रहता है। बता दें ना बीन्स में ना केवल प्रोटीन का बड़ा स्रोत है बल्कि फाइबर का भी अच्छा स्रोत है। साथ ही पाचन की प्रक्रिया भी तेज होती है। साथ ही वसा भी जमने से रूकती है। जिससे वजन कम करने में मदद मिलती है।

7. तनाव कम करना जरूरी (Say No To Tension)

तनाव शरीर के लिए काफी खतरनाक होता है। तनाव से शरीर के मेटाबॉलिज्म का स्तर बेहद कम होने लगता है। असल में हमारे भोजन करने का तरीका, और  भोजन कैसा है इस पर भी निर्भर करता है। शोधकर्ताओं की मानें तो हाई कैलोरी वाले खाने की क्रेविंग से तनाव, पाचन सम्बन्धी परेशानी, पाचन में समस्या और वजन बढ़ने जैसी समस्या घेरने लगती है। साथ ही हार्मोन्स भी डिसबैलेंस हो जाते हैं।

मेटाबॉलिज्म के घटने बढ़ने से हमारा शरीर भी घटता और बढ़ता है। शरीर का बढ़ता हुआ वजन कहीं ना कहीं मेटाबॉलिज्म को जिम्मेदार ठहराने का कारक है। अपनी लाइफस्टाइल और एक्सरसाइज में कुछ बदलाव करके इसे कंट्रोल किया जा सकता है। इसके लिए आप हमारी बताई हुई टिप्स को फॉलो कर सकते हैं। आपको फायदा जरुर होगा।

Read More Articles on Mind Body in Hindi

Disclaimer