हर उम्र में फिट और हेल्दी रहने के लिए रोज करें ये 11 योगासन, एक्सपर्ट से जानें करने का तरीका

फिट और हेल्दी रहने के लिए एक सही लाइफस्टाइल बेहद जरूरी हाेता है। इसमें आपकाे स्वस्थ आहार के साथ ही याेग काे भी जरूर शामिल करना चाहिए।

Anju Rawat
Written by: Anju RawatUpdated at: Sep 17, 2021 11:36 IST
हर उम्र में फिट और हेल्दी रहने के लिए रोज करें ये 11 योगासन, एक्सपर्ट से जानें करने का तरीका

फिट और हेल्दी रहने के लिए कौन-से याेग जरूरी हैं? शारीरिक और मानसिक रूप से एकदम स्वस्थ रहने के लिए अच्छे भाेजन के साथ ही व्यायाम या याेग भी बेहद जरूरी हाेता है (Yoga Asanas for Fit Healthy Life )। नियमित रूप से याेगाभ्यास करके प्रत्येक व्यक्ति हमेशा स्वस्थ रह सकता है। याेग आपकाे बीमारियाें से मुक्त रखता है और आपकी आयु में वृद्धि करने में भी सहायक हाेता है।

yoga for fit healthy life

(Image Source : yogaclub.com)

तनाव, चिंता, डिप्रेशन और शारीरिक समस्याओं से निजात दिलाने में याेग अहम भूमिका निभाता है। याेग करने से तन और मन शांत हाेता है, जिससे आपकी समस्याओं में भी कमी देखने काे मिलती है। याेग आपके समग्र स्वास्थ्य काे बेहतर बनाने के लिए बेहद जरूरी हाेता है। याेग कई तरह से किया जाता है, इसलिए इसे अपनी जीवनशैली में शामिल करने से पहले आपकाे इसके बारे में जानना बहुत जरूरी है। स्वस्थ रहने के लिए आप 11 तरह के याेग का अभ्यास राेजाना कर सकते हैं। याेगा एक्सपर्ट डॉक्टर रमेश कुमार से जानें इनके बारे में-

1. कुंडलिनी याेग (Kundalini Yoga)

अगर आप शारीरिक और मानसिक दाेनाें तरह से एकदम स्वस्थ रहना चाहते हैं, ताे कुंडलिनी याेग आपके लिए बेहद फायदेमंद हाे सकता है। कुंडलिनी शब्द एक संस्कृत शब्द है, यह जीवन शक्ति ऊर्जा काे दर्शाता है। इसे प्राण के रूप में भी जाना जाता है। कुंडलिनी याेग तनाव और नकारात्मकता काे दूर करने में सहायक हाेता है। इस याेग में वार्म-अप, सांस लेने वाले व्यायाम और ध्यान शामिल हैं। नियमित रूप से इस याेग काे करने से आपकाे काफी अच्छा महसूस हाेगा और आप एकदम स्वस्थ रहेंगे।

Aerial Yoga

(Image Source : deliciousliving.com)

2. एरियल याेग (Aerial Yoga)

एरियल याेग मॉडर्न याेग का एक प्रकार है। यह आपकाे फिट और हेल्दी रखने में मदद करतात है। आजकल एरियल याेग फिटनेस के नए क्रेज में से एक है। शुरुआत में इस याेग काे किसी एक्सपर्ट की देखरेख और सलाह पर ही करना चाहिए। यह सभी उम्र के लाेगाें के लिए फुल बॉडी वर्कआउट की तरह काम करता है। इसके अभ्यास से शरीर की मांसपेशियां मजबूत बनती हैं, जाेड़ाें का दर्द ठीक हाेता है। इसमें बॉडी का प्रत्येक हिस्सा मूवमेंट करता है।

इसे भी पढ़ें - सूर्य नमस्कार करने से पहले और बाद में जरूर करें ये 5 काम, तभी मिलेंगे पूरे फायदे

3. विन्यसा याेग (Vinyasa Yoga)

खुद काे स्वस्थ और बीमारियाें से मुक्त रखने के लिए आप विन्यसा याेग काे भी अपनी जीवनशैली में शामिल कर सकते हैं। विन्यसा याेग काे प्रवाह याेग के नाम से भी जाना जाता है। विन्यसा याेग, याेग के सबसे सामान्य प्रकाराें में से एक है। इसमें सांस लेने वाले व्यायाम और गति शामिल हाेते हैं। विन्यसा याेग एक धीमी और गतिशील प्रक्रिया है। अगर आप याेग काे शुरुआती दौर में कर रहे हैं, ताे इसका अभ्यास आपके लिए काफी अच्छा रहेगा। अगर आप अपने जीवन में शांति चाहते हैं, ताे इसका नियमित रूप से अभ्यास कर सकते हैं। विन्यास याेग स्ट्रेस काे कम करता है।

4. हठ याेग (Hatha Yoga)

शरीर काे ताकतवर, लचीला और मजबूत बनाना चाहते हैं, ताे नियमित रूप से हठ याेग का अभ्यास करना बेहद जरूरी हाेता है। साथ ही यह आपकाे भावनात्मक रूप से भी मजबूत बनाए रखता है। इसका अर्थ सूर्य और चंद्रमा हाेता है। हठ याेग 6 आसन, प्राणायाम और ध्यान से मिलकर बनता है। अगर आप एक सौम्य याेग चाहते हैं, ताे इसका संतुलित अभ्यास कर सकते हैं।

Ashtanga Yoga

(Image Source : shopse.rejsushop.com)

5. अष्टांग याेग  (Ashtanga Yoga)

अगर आप एक ऐसा शारीरिक अभ्यास चाहते हैं, जो प्रकृति में आध्यात्मिक  हो ताे अष्टांग याेग कर सकते हैं। अष्टांग याेग के बारे में आपने जरूर सुना हाेगा। याेग गुरु और ऋषि-मुनि अकसर ही इस याेग का अभ्यास करते हैं। अष्टांग याेग में 6 आसन शामिल हैं, इन आसनाें काे एक विशेष कम्र से किया जाना जरूरी हाेता है। इन आसनाें काे पहले अच्छी तरह से किसी याेग गुरु से सिखा जाता है, उसके बाद इनका नियमित रूप से अभ्यास किया जा सकता है। यह एक प्रवाह-शैली का याेग है। इसमें आपकाे बिना संगीत के ही याेग करना हाेता है। अष्टांग याेग वजन घटाने में भी सहायक हाेता है। 

6. यिन याेग (Yin Yoga)

यिन याेग कठिन वर्कआउट से उबरने का एक शानदार तरीका है। यह याेग का एक धीमा रूप है। इसमें आसन के साथ ही तरह-तरह की मुद्राएं भी की जाती हैं, इनकी समय सीमा 1 मिनट से 5 मिनट तक की हाेती हैं। शरीर का लचीलापन बढ़ाने, शरीर में ब्लड सर्कुलेशन बढ़ाने और जाेड़ाें में परिसंचरण काे बढ़ाने में यिन याेग बेहद अहम भूमिका निभाता है। साथ ही इसके नियमित अभ्यास से मांसपेशियां भी मजबूत बनती हैं। इसके लिए एक विशेष कंबल और बाेल्ट का उपयाेग किया जाता है। यिन याेग और याेग के अन्य रूपाें में काफी अंतर हाेता है।

इसे भी पढ़ें - रोज फलकासन करने से सेहत को मिलेंगे ये 5 फायदे, जानें घर पर कैसे करें ये आसन

7. अयंगर याेग (Iyengar Yoga)

अयंगर याेग संरेखण आधारित एक याेगाभ्यास है। इसमें कई तरह के प्रॉप्स का उपयाेग किया जाता है। आप इसमें कुर्सी, बैंच और दीवाराें का इस्तेमाल कर सकते हैं। यह वयस्काें के साथ ही बुजुर्गाें के लिए भी एक काफी अच्छा याेगाभ्यास है। इसमें आपकाे प्रकृत्ति से जुड़ने का मौका मिलता है। कमजाेर और सीमित शारीरिक क्षमता वाले लाेगाें के लिए यह एक उपयुक्त याेग है, इसमें अधिक ताकत की आवश्यकता नहीं पड़ती है।

8. बिक्रम याेग (Bikram Yoga)

अगर आपकाे अधिक ठंड लगती है, ताे बिक्रम याेग आपके लिए काफी अच्छा याेग साबित हाे सकता है। यह शरीर के तापमान काे बढ़ाता है और ठंड काे दूर करता है। सर्दी के मौसम में इसके नियमित अभ्यास से आप अपने शरीर के तापमान काे अधिक रख सकते हैं। इसमें 2 श्वास व्यायाम और 26 आसन शामिल हाेते हैं। इस याेगासन में व्यक्ति काे काफी अधिक पसीना आता है, साथ ही शरीर भी लचीला बनता है। बिक्रम याेग बेहद फायदेमंद हाेता है, इसका राेजाना अभ्यास किया जा सकता है।

9. पावर या शक्ति याेग (Power yoga)

पावर या शक्ति याेग मांसपेशियाें काे मजबूत बनाने के लिए जाना जाता है। यह एक व्याख्यात्म याेग है। इसके अभ्यास से शरीर का लचीलापन बढ़ता है। यह धीमी गति से चलने वाला एक याेग है, साथ ही इसमें शक्ति का भी इस्तेमाल हाेता है। यह याेग उन लाेगाें के लिए काफी अच्छा है, जाे कम कठाेरता चाहते हैं और अच्छी कसरत करना चाहते हैं।

10. दृढ़ याेग (Restorative Yoga)

दृढ़ याेग में प्रत्येक मुद्रा या आसन में कम से कम 5 मिनट के लिए पूरी तरह से आराम करना हाेता है। कई बार व्यक्ति इस याेग काे करते हुए साे भी जाता है, इसलिए इसे याेग निद्रा के नाम से भी जाना जाता है। दृढ़ याेग मस्तिष्क काे स्वस्थ रखने में मदद करता है और तंत्रिका तंत्र काे नियंत्रित करता है। तनाव से जूझ रहे लाेगाें के लिए इस याेग का अभ्यास एक बेहतर विकल्प साबित हाे सकता है। इससे तनाव कम हाेता है और व्यक्ति खुश रहता है।

11. प्रसव पूर्व याेग (Prenatal Yoga)

प्रसव पूर्व याेग से अधिकतर लाेग परिचित हैं। यह गर्भवती या प्रेगनेंट महिलाओं के लिए याेग का एक प्रकार है। यह कूल्हाें और पीठ की मांसपेशियाें काे मजबूत बनाता है और दर्द से राहत दिलाता है। इसमें सांस लेने वाले व्यायाम शामिल हाेते हैं, जाे प्रसव के दौरान दर्द काे कम करने में मदद करते हैं। अगर आप गर्भवती हैं, ताे किसी एक्सपर्ट की सलाह पर इस याेग का अभ्यास कर सकती हैं। साथ ही उन महिलाओं के लिए भी अच्छा याेग है, जाे हाल ही में मां बनी हैं। यह धीरे-धीरे और सौम्यता से किया जाने वाला याेग है। 

आप भी याेग गुरु की देखरेख और सलाह पर इन याेगाभ्यास काे अपनी जीवनशैली में शामिल कर सकते हैं। 

(Main Image Source : capsiplexreview.info)

Read More Articles on Yoga in Hindi

Disclaimer