सर्दियों में आप भी पहनते हैं ऐसे कपड़े, तो हो जाएंगे बीमार

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Jan 25, 2018

आजकल ठंड अपनी चरम सीमा पर है। कुछ समय की गर्मी के बाद अब फिर से ठंड ने अपना विकराल रूप धारण कर लिया है। ऐसे में हर कोई घर से लंबे कोट, बूट्स, दस्ताने और मफलर पहनकर निकलते हैं। लेकिन ये ओवर चीजें आपको ठंड से बचाते के साथ ही कभी कभी बीमार भी कर देती हैं। आज हम आपको बताने जा रहे हैं कौन सी हैं वे चीजें जिनकी ठीक से साफ-सफाई ना करने पर आप बीमार पड़ सकते हैं।

एरिजोना यूनिवर्सिटी के माइक्रोबायलॉजिस्ट चार्ल्स गर्बा का कहना है कि मैं लोगों को आमतौर पर सलाह देता हूं कि आपको हर वो चीज एक सप्ताह में धो लेनी चाहिए जो आप सार्वजनिक तौर पर पहनते या इस्तेमाल करते हैं। जर्म्स एक्सपर्ट चार्ल्स का कहना है कि आमतौर पर लोग जल्दी से विंटर कोट नहीं धोते हैं। जिसका नतीजा यह होता है कि कपड़ों में वायरस और बैक्टीरिया पनपने लगते हैं। जिसके चलते लोगों को छींक आने लगती है और कोल्ड बढ़ जाता है।लेकिन लोगों को लगता है कि ये सब ठंड की वजह से हो रहा है। जबकि ये कपड़ों में पनपने वाले वायरस के चलते होता है। 

दस्ताने में होते हैं सबसे ज्यादा कीटाणु

चार्ल्स का कहना है कि सर्दियों में ग्लव्स में सबसे ज्यादा जर्म्स होते हैं। चार्ल्स ने 2015 में एक रिसर्च के दौरान पाया था कि सार्वजनिक जगहों पर आप पोल और रोड सबसे ज्यादा पकड़ते हैं जिनमें बहुत जर्म्स होते हैं। इंसान एक घंटे में तकरीबन 16 बार अपने गालों और नाक को छूता है। इसलिए सर्दियों में आपको सबसे ज्यादा सर्दी-खांसी की दिक्कत होती हैं।

समय समय पर धोते रहें दस्ताने

दस्तानों में इतने छोटे छोटे कीटाणु होते हैं जो दिखते नहीं हैं। ग्लव्स से सभी माइक्रोब्स को खत्म करने के लिए सप्ताह में एक बार गर्मागर्म पानी में इसे डूबो दें। इसके बाद इसे अच्छी तरह से धोकर ड्रायर कर लें। लैदर के ग्लव्स थोड़े मोटे होते हैं तो उन्हें धोते हुए ध्यान रखें कि वे खराब ना हो। अगर आप इन्हें धो नहीं पा रहे हैं तो आप इन्हें ड्राईक्लीन करवा सकते हैं। ना सिर्फ दस्ताने बल्कि अन्य चीजें भी हमें समय समय पर धोनी चाहिए।

Loading...
Is it Helpful Article?YES710 Views 0 Comment
संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK