डब्ल्यूएचओ ने किया आगाह, कहा- मामूली नहीं है ‘डिसीस एक्स’ रोग

विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने ‘डिसीस एक्स’ को प्राथमिकता वाले रोगों में सूचीबद्ध किया है जो निकट भविष्य में घातक वैश्विक महामारी का जोखिम बन सकता है, संगठन ने इससे निपटने के लिए अनुसंधान और विकास में तेजी लाने के लिए तत्काल उपा

 ओन्लीमाईहैल्थ लेखक
Written by: ओन्लीमाईहैल्थ लेखकUpdated at: Mar 15, 2018 10:30 IST
डब्ल्यूएचओ ने किया आगाह, कहा- मामूली नहीं है ‘डिसीस एक्स’ रोग

विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने ‘डिसीस एक्स’ को प्राथमिकता वाले रोगों में सूचीबद्ध किया है जो निकट भविष्य में घातक वैश्विक महामारी का जोखिम बन सकता है, संगठन ने इससे निपटने के लिए अनुसंधान और विकास में तेजी लाने के लिए तत्काल उपाय का आह्वान किया। ‘डिसीस एक्स’ आर एंड डी ब्लूप्रिंट की 2018 की वार्षिक समीक्षा में सूचीबद्ध किया गया है। डब्ल्यूएचओ द्वारा विकसित सूची में प्रभावी दवाओं या टीकों की कमी वाले रोगों के अनुसंधान और विकास को प्राथमिकता देने और गति में लाने पर ध्यान केंद्रित किया गया है।

इसे भी पढ़ें : इस 1 टीके से होगा प्रोस्‍टेट कैंसर का इलाज, हुआ आविष्‍कार

डब्लूएचओ ने सोमवार को एक बयान में कहा कि ‘डिसीस एक्स’ यह तथ्य प्रदर्शित करता है कि एक भी रोगजनक विषाणु या जीवाणु गंभीर अंतर्राष्ट्रीय महामारी का कारण हो सकता है। इसके अलावा सात अन्य संभावित वैश्विक रोगों को भी शामिल किया गया है जो सभी प्रभावी दवा या टीका की कमी से संबंधित है।

इस सूची में क्रिमियन-कॉंगो हीमोरहैजिक फीवर (सीसीएचएफ), इबोला वायरल डिसीस, मारबर्ग वायरस डिसीस, लासा फीवर, मिडल ईस्ट रिस्पायरेटरी सिंड्रोम कोरोनावायरस (एमईआरआस-सीओवी) और सवर अक्यूट रिस्पायरेटरी सिंड्रोम (एसएआरआरएस), निपास और हेनीपावायरल डिसीस रिफ्ट वैली फीवर (आरवीएफ) और जीका शामिल हैं। यह रोग बड़े सार्वजनिक स्वास्थ्य जोखिमों से जुड़े हैं और इनकी निगरानी, निदान सहित अन्य अनुसंधान और विकास की आवश्यकता है।

ऐसे अन्य स्टोरीज के लिए डाउनलोड करें: ओनलीमायहेल्थ ऐप

Read More Articles On Health News In Hindi

 

Disclaimer