थकान (Fatigue) क्या है? एक्सपर्ट से जानें इसके लक्षण, कारण और बचाव

अकसर हम थकान को आम समझ लेते हैं। लेकिन ये थकान हमें अनेक समस्याओं का सामना करा सकती है। ऐसे में जानते हैं इसके लक्षण, कारण और उपाय

Garima Garg
Written by: Garima GargPublished at: Jan 29, 2021Updated at: Jan 29, 2021
थकान (Fatigue) क्या है? एक्सपर्ट से जानें इसके लक्षण, कारण और बचाव

क्रॉनिक फैटीग सिंड्रोम (chronic fatigue syndrome), जिसे आम भाषा में थकान भी कहते हैं। यह एक स्थिति होती हैं जो व्यक्ति के दिमाग में 6 महीने से अधिक समय तक बनी रहती है और इसके पीछे का कारण भी पता नहीं चलता। बता दें कि चिकित्सा संस्थान ने 2015 में इस सिंड्रोम के लिए एक नया नाम प्रस्तावित किया था वह नाम था Systemic Exertion Intolerance Disease (SEID)। इस बीमारी को लेकर कुछ गंभीर तथ्यों को भी निकाला गया था। यह समस्या 40 से 50 वर्ष की आयु की महिलाओं में ज्यादा देखी गई है। पुरुषों की तुलना में 4 गुना महिलाएं इस बीमारी की चपेट में अधिक आती हैं। इस बीमारी के पीछे का कारण अभी स्पष्ट नहीं है। आज हम आपको इस लेख के माध्यम से बताएंगे कि थकान के लक्षण क्या हैं? साथ ही जानेंगे कि इसके कारण और बचाव क्या है। इसके लिए हमने एक्सपर्ट से भी इनपुट्स मांगे हैं। पढ़ते हैं आगे...

थकान के लक्षण (symptoms of fatigue in Hindi)

ध्यान दें कि इस समस्या के लक्षण अचानक दिखने शुरू हो जाते हैं। वहीं कुछ लोगों में यह धीरे-धीरे पनपता है। आइए जानते हैं थकान के लक्षण-

1 - जोड़ों में दर्द महसूस करना

2 - सर में दर्द होना

3 - अनिद्रा की समस्या यानी नींद ना आना।

4 - मांसपेशियों में दर्द महसूस करना।

5 - शरीर के अलग-अलग अंगों में या एक ही जगह बार-बार दर्द होना।

6 -  कुछ भी काम करने के बाद स्वस्थ महसूस करना।

7 - अत्यधिक शारीरिक थकान महसूस करना या मानसिक थकान हो जाना। इन दोनों थकानों को आराम के माध्यम से भी ठीक ना कर पाना। थकान इतनी ज्यादा हो जाना कि जो दिनचर्या को प्रभावित करे।

मानसिक थकान के चलते लोगों में निम्न लक्षण देखने को मिलते हैं- 

8 - एकाग्रता याददाश्त का कमजोर होना या शब्द सोचने में समस्या महसूस करना

9 - तनाव हो जाना या बुरा महसूस करना

10 - सोचने की क्षमता कमजोर होना

11 - गुमराह महसूस करना 

12 - भ्रम जैसी परिस्थिति उत्पन्न हो जाना

कुछ लोगों में थकान के कारण इस प्रकार के लक्षण भी नजर आते हैं-

13 - जल्दी जल्दी पेशाब आना 

14 - चक्कर आना 

15 - दिल की धड़कनों का तेज हो जाना 

16 - सांस लेने में तकलीफ महसूस करना 

17 - वजन में बदलाव होना 

18 - भूख कम लगना 

19 - शरीर के तापमान में गिरावट महसूस करना 

20 -  हाथ पैरों में पसीना आना।

इसे भी पढ़ें- Spondylitis: इन 5 तरह के लोगों में ज्यादा होता स्पॉन्डिलाइटिस का खतरा, जानें कैसे करें बचाव

जब किसी व्यक्ति को थकान होती है तो वह डिप्रेशन का शिकार हो सकता है।  थकान में दिखने वाले लक्षण अन्य समस्याओं के जैसे सामान्य होते हैं। ऐसे में शुरुआती लक्षणों के दौरान ही डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए।

थकान के कारण (causes of fatigue)

वैसे तो अभी तक शोधकर्ता इसके पीछे का कारण पता लगा रहे हैं लेकिन हो रहे अध्ययनों से निम्न कारणों को इस समस्या का कारण मान सकते हैं-

1- हार्मोन असंतुलन हो जाना (imbalance hormones)

जो लोग थकान से ग्रस्त रहते हैं उनमें कभी-कभी एड्रिनल ग्रंथि, पिट्यूटरी ग्रंथि या हाइपोथैलेमस में पैदा होने वाले हार्मोन यह सामान्य रक्त इस तरह का अनुभव किया गया है। लेकिन जैसा हमने पहले भी बताया कि इसका बात का कोई स्पष्टीकरण नहीं है।

2- प्रतिरक्षा प्रणाली की समस्या (Weak Immune System)

थकान से लोगों की इम्युनिटी सिस्टम थोड़ी कमजोर देखी गई है लेकिन इस बात का भी कोई स्पष्टीकरण नहीं है।

इसे भी पढ़ेें- क्या कमजोर इम्यूनिटी के कारण हो सकता है जोड़ों का दर्द, एक्सपर्ट से जानें इनमें क्या है संबंध

3- किसी वायरल संक्रमण के कारण (Viral Problem)

कुछ लोगों को वायरल हो जाने के बाद थकान महसूस होती है। शोधकर्ता इसे एक कारण मानते हैं ऐसा ह्यूमन हर्पीज वायरस 6 और माउस ल्यूकेमिया वायरस के कारण हो सकता है।

बता दें कि कई चिकित्सा समस्याओं में थकान एक लक्षण के रूप में देखा गया है। जैसे- एनीमिया, मधुमेय, हाइपोथायरायडिज्म। इसके अलावा मानसिक समस्याओं जैसे डिप्रेशन, चिंता, बाइपोलर आदि के लक्षणों में भी थकान शामिल है।

थकान से बचाव (Prevention of fatigue) 

जीवन शैली में कुछ बदलाव के माध्यम से थकान को दूर किया जा सकता है। जानते हैं इन बदलावों के बारे में-

नींद भरपूर लेने से 

अगर आप प्रतिदिन एक ही समय पर सोएंगे और उठेंगे। साथ ही कैफीन, निकोटिन का सेवन नहीं करेंगे तो। इससे भी थकान को दूर किया जा सकता है। 

तनाव को कम करने पर

भावनात्मक तनाव से बचने के लिए खुद को नए-नए लोगों के साथ जोड़ें। वह काम करें, जिसमें आप को सुकून मिले। साथ ही प्रत्येक दिन कुछ समय के लिए आराम जरूर करें।

इसे भी पढ़ें- बहुत ज्यादा सोने या नींद लेने पर आपकी बॉडी में दिखते हैं यह खास बदलाव, जानें क्या हो सकते हैं खतरे

गति क्रम बनाए रखें

ज्यादा गतिविधियों के कारण भी थकान महसूस होती है। ऐसे में गतिविधियों का स्तर तय करें और रोज उसी के हिसाब से काम करें।

ये लेख डॉ. निमेश देसाई जो कि इहवास( Institute of Human Behaviour and Allied Sciences) के निर्देशक हैं इनके द्वारा दिए गए इनुपट्स पर बनाया गया है। 

थकान होने पर कैसे करें परहेज (Avoid this things during fatigue) 

1- चीनी

चीनी के कारण शरीर में अस्थाई रूप से उर्जा विकसित हो जाती है लेकिन यह थकावत का कारण भी बन सकती है। ऐसे में चीनी की सीमित मात्रा का सेवन करें।

2- कैफीन

चाय-कॉफी का सेवन करने वाले दिन में तीन से चार कप इनका सेवन कर लेते हैं, जिससे शरीर में कैफीन की मात्रा बढ़ जाती है। कैफीन शरीर को ऊर्जा देता है लेकिन इसकी सीमित मात्रा ही सेहत को फायदा पहुंचाती है। वरना इसका अधिक सेवन आपकी नींद को प्रभावित कर सकता है।

3- मोटापा 

जिन लोगों का वजन ज्यादा होता है उन्हें थकान हो सकती है। ऐसे में मोटापे को नियंत्रित करने के लिए नियमित रूप से व्यायाम को अपनी दिनचर्या में शामिल करें।

4- ज्यादा परिश्रम से

जो लोग ज्यादा परिश्रम करते हैं वे थकान के कारण जल्दी अस्वस्थ महसूस करते हैं। ऐसे में परिश्रम के स्तर को सीमित रखें।

5- तनाव

जो लोग हर वक्त है तनाव या चिंता में डूबे रहते हैं उनके शरीर में ऊर्जा की कमी हो जाती है और उनका शरीर थकान महसूस करता है। ऐसे में तनाव से दूरी जरूरी है।

नोट-

वैसे डॉक्टर इसका उपचार दवाओं से ज्यादा लाइफस्टाइल में बदलाव को सही मानते हैं। लेकिन थकान को दूर करने के लिए लोगों को थेरेपी दी जाती है। इस थेरेपी का नाम है क्रमिक व्यायाम। थैरेपिस्ट इस व्यायाम के माध्यम से यह सुनिश्चित करते हैं कि क्या व्यक्ति अगले दिन थका हुआ महसूस करता है या नहीं। यह एक प्रभावी और सुरक्षित उपचार है। इस थेरेपी में आपको उन व्यायाम के बारे में बताया जाता है जो आपके शरीर के लिए अच्छे हैं और जिन्हें करने से आपके शरीर से थकान को दूर किया जा सकता है। इन व्यायमों में शरीर को ज्यादा मेहनत करने की जरूरत नहीं है। इस थेरेपी के माध्यम से ना केवल आपकी सहनशीलता में सुधार होता है बल्कि ये आपकी ताकत में तीव्रता लाती है। ऐसे में इस समस्या से लड़ने के लिए अनेक उपचार शरीर को फायदा पहुंचा सकते हैं।

Read More Articles on Other Diseases in hindi

Disclaimer